Categories: साहित्य

युवा साहित्यकार नीलोत्पल मृणाल पर शादी का झाँसा देकर दस साल तक यौन शोषण करने का आरोप!

Share

शालिनी यदुवंशी-

साहित्य की दुनिया को अपनी बपौती समझने और उसके आवरण को ओढ़ कर वास्तविक जीवन में लड़कियों को इस्तेमाल करने/उनका शोषण करने/अपनी हवस मिटाने का साधन समझने वाले एक और क्रांतिकारी का पर्दाफाश हो चुका है। ये क्रांतिवीर हैं खुद को महान बताने वाले फर्जी लेखक नीलोत्पल मृणाल।

नीलोत्पल ने 10 साल तक शादी का झांसा देकर मेरा शोषण किया, मेरे साथ जबरदस्ती की, मेरा रेप किया, मुझे ब्लैकमेल किया, मेरी मजबूरी का फायदा उठाया। 10 साल तक उसने मुझे शादी के सपने दिखाए। कहा, नौकरी कर लो जल्द से जल्द शादी कर लेंगे। मैं अपनी यूपीएससी की तैयारी में इतनी मगन रही कि उसपर कभी शक न कर सकी और उसके विश्वास पर रही। इसने मेरे विश्वास, मेरी भावनाओं और मेरे प्रेम का फायदा उठाया और मुझे हवस का खिलौना समझ कर इस्तेमाल करता रहा।

पिछले दिनों,मार्च में जब इसने जबरदस्ती मेरे साथ मार पिटाई कर मेरा रेप किया तब मैंने इससे फाइनल जवाब मांगा और जवाब में मुझे चुप्पी मिली, फिर फ़ोन स्वीच ऑफ मिला और फिर पता चला कि बाबू साहब किसी तलाक शुदा महिला, डीएसपी के साथ सात फेरे ले चुके हैं।

मैंने नीलोत्पल से संपर्क करने की कोशिश की,उसके घर वालों से बात करने की कोशिश की तो नीलोत्पल की सो कॉल्ड वाइफ ने मेरे पिता को कॉल कर धमकाया और मेरे खिलाफ झूठे आरोप लगाए। इन सबको मैं झेल पाती उससे पहले ही नीलोत्पल ने एक एक कर मेरे सभी जानने वालों को मेरे चरित्र के बारे में गलत बताना शुरू कर दिया।

नीलोत्पल के 10 साल के प्रेमभरे रिश्ते का ये हश्र देख मेरे पैरों के नीचे से जमीन खिसक गई, जैसे तैसे खुद को एक महीने में सम्भाला है ताकि उसके खिलाफ कानूनी कार्यवाही कर सकूं।

मैं सोशल मीडिया पर कभी नहीं रही क्योंकि समय ही नहीं रहा लेकिन अब लगता है मुझे यहां होना चाहिए था, मैंने उसके खिलाफ एफआईआर दर्ज की है, जिसे यहां लगा रही हूं।

आप सभी से निवेदन है कि इस जैसे और इस व्यभिचारी, साहित्य की आड़ में छिप कर लड़कियों को बर्बाद करने वाले कमीनों का पर्दाफाश करें, मेरी मदद करें।


कल मेरी पोस्ट लिखने के तुरंत बाद से ही नीलोत्पल फेसबुक छोड़ भाग गया और अपने चमचों को गंदगी उगलने के लिए पीछे लगा दिया। कमजोर नहीं पड़ूँगी अब, कानूनी लड़ाई के साथ साथ, समाज को भी उसका असली चेहरा दिखा कर रहूंगी। मेरे चरित्र पर कीचड़ उछालना तुम्हारे लिए सबसे आसान है नीलोत्पल और वही तुम कर भी रहे हो लेकिन याद ये भी रखना कि अब मुझे तुम और डिगा नहीं सकोगे। कभी कभी व्यक्ति प्रेम की भावुकता में अपने साथ हो रहे ग़लत को भी निभाता चला जाता है।मुझसे भी यही गलती हुयी। तुम और कितनों की भावनाओं के साथ खिलवाड़ कर रहे हो।कोई व्यक्ति अपने स्वार्थ और देहसुख के लिए क्या इतने जीवनों के साथ एक साथ खिलवाड़ कर सकता है? तुम इतने गिरे हुए कैसे हो गए? महिलाओं के लिए इतनी बड़ी बड़ी बातें कहने और लिखने वाला ये व्यक्ति अंदर से कितना भयानक है।

नीलोत्पल छल, धोखे और झूठ से भरा हुआ है। वो नौकरी लगते ही शादी की बात करता, घर छोड़कर देने की बात करता। जब भी उससे अलग होने की कोशिश करती तो रो रो कर, पैर पड़ कर, तुम्हारे बिना मर जाऊंगा, बात करो नहीं तो सुसाइड कर लूंगा, कहते हुए ब्लैकमेल किया करता।

मुझे इज्जत, समाज और फलाना फलाना सलाह देने वाले अपने गिरेबान में झांके, मैंने कानूनी लड़ाई लड़ने का फैसला किया जो किसी भी विक्टिम लड़की के लिए आसान नहीं है। समाज में किसी लड़की के लिए इस तरह का कदम लेना कितना दुष्कर होता है और ये एकदम अंतिम कदम होता है ,जो कोई भी लड़की तब उठाती है जब उसे उसे ऐसा एहसास होता है कि अब उसके बाद खोने को और कुछ बचा नहीं है।

मुझे पता है कि तुम अभी भी कई लड़कियों को धोखे में रखकर उनके साथ प्रेमालाप कर रहे होंगे। किसी को ब्याह का वादा करके उसका दैहिक और मानसिक शोषण कर रहे होंगे तो किसी 22-23 साल की लडकी को गुमराह कर रहे होंगे। तुम्हारी मानसिकता इससे भी कहीं ज़्यादा विकृत है।ये लड़ाई बस मेरी नहीं है ,हर उसकी लड़की की है जो शोषण का शिकार होने के बाद भी समाज से उठने वाले सवालों के डर से सामने आने से डरी हुयी है।उस पर आप मेरा साथ नहीं दे सकते तो न सही लेकिन मैं जिस हिम्मत के साथ लड़ने को खड़ी हुई हूं उसे कमजोर न करें। लोग कह रहे कि u p sc की तैयारी करने वाली लडकी को इतनी भी समझ नही क्या? तो शुभचिंतकों कई बार कई विषयो पर जानकरी कम रहने पर सच झूठ पता नही चलता। देखिए कैसे हमको विपाशना के नाम पे बेवकूफ बना रहा था, बाद मे पता चला के साहब उस समय कोई और ही उपासना कर रहे थे।

View Comments

  • नीलोत्पल ने 10 साल तक शादी का झांसा देकर मेरा शोषण किया, मेरे साथ जबरदस्ती की, मेरा रेप किया, मुझे ब्लैकमेल किया, मेरी मजबूरी का फायदा उठाया।

    जब आप अदालत का दरवाजा खटखटा चुकी है तो आपको अपनी ऊपर लिखी बातों का जवाव तैयार रखना होगा । आपकी बातों से यह साबित होता है कि जो भी हुआ वो आपसी कंसेंट से हुआ । आप भी बालिग है और वो भी । इसलिए जबरदस्ती औऱ बलात्कार जैसी कोई चीज यहां साबित कर पाना मुश्किल होगा । बाकी आप खुद समझदार है । अगर आप सही है तो परमेश्वर आपकी मदद करे अन्यथा आपको इसका दंड दे ।

  • नीलोत्पल मृणाल ने जो किया वह इस विश्वास में आपकी सहमति से हुआ दस साल बड़ा समय होता है जो यह भी लगता है कि आप लिव इन रिलेशनशिप जैसी स्थिति सब स्वीकृति से कर रही थीं जिसे रेप बलात्कार तभी सिद्ध कर सकती है जब जबरन हुआ हो कानूनी पेचीदगी समझकर चलना उचित होगा

Latest 100 भड़ास