A+ A A-

Amitabh Thakur : स्पष्ट गंभीर प्रशासनिक अकर्मण्यता के चलते इतने सारे लोगों की मौत के जिम्मेदार डीएम और एसएसपी मथुरा का मात्र ट्रांसफर पूर्णतया अपर्याप्त है और न्याय-हित में इनका तत्काल निलंबन अपरिहार्य प्रतीत होता है. मथुरा की घटना गलत पैसे को हासिल करने की हवस और अनैतिक राजनैतिक शह का ज्वलंत उदहारण है. मेरी समझ के अनुसार इस घटना के सबसे बड़े गुनाहगार श्री शिवपाल सिंह यादव हैं.

मुझे मथुरा से एक सज्जन ने फोन से बताया कि जाँच अधिकारी कमिश्नर अलीगढ ने डीएम और एसएसपी मथुरा के खिलाफ उनके द्वारा प्रस्तुत प्रत्यावेदन को लेने तक से मना कर दिया और डीएम ने उन्हें जाँच अधिकारी से मिलने में भी व्यवधान डाला था. यदि यह बात सही है तो यह श्री मुकुल और श्री संतोष की शहादत के साथ भद्दा मजाक है. तथ्य प्राथमिक स्तर पर डीएम और एसएसपी को कर्तव्य में लापरवाही के सीधे दोषी बताते दिखते हैं, अतः न्याय का तकाजा है कि उनके खिलाफ तत्काल कठोर प्रशानिक कार्यवाही हो. साथ ही यह जाँच पूरी तरह निष्पक्ष और प्रत्येक बिंदु पर गहराई से होनी चाहिए.

मथुरा कांड में मैं निम्न दो कार्यवाही की मांग करता हूँ- i) डीएसपी जिया उल हक़ के परिवार की तरह एसपी सिटी और एसओ के परिवार को भी 50 लाख रुपये और 2 नौकरी का मुआवजा (ii) सरकारी पार्क पर सालों से कब्ज़ा करने वाले आपराधिक संगठन को मंत्री शिवपाल सिंह यादव की प्रत्यक्ष और परोक्ष सहयोग और इससे घटित घटना के सम्बन्ध की जाँच.

हम शीघ्र ही मथुरा जा कर व्यक्तिगत स्तर पर पूरे प्रकरण की जाँच करेंगे ताकि इस मामले में असली गुनाहगारों के खिलाफ कार्यवाही कराने में योगदान दे सकें.

Considering the apparent grave administrative lapses leading to loss of so many lives, mere transfer of DM and SSP Mathura is completely inadequate and the two officer need to be immediately suspended in the interest of justice.  Mathura incidence is nothing more than lust for ill-gotten money and illegal political favour. The prime accused of the incidence in my opinion is Mr Shiv Pal Singh Yadav.

I got a phone call from Mathura telling that the Enquiry officer Commissioner refused to take his representation stating facts against DM and SSP Mathura and the DM tried to stop him from meeting the enquiry officer. If this is true, it is nothing more than making mockery of the martyrdom of Sri Mukul and Sri Santosh. The facts clearly hold DM and SSP Mathura prima-facie responsible for abject dereliction of duty, hence justice demands immediate stern action against the two. Also, the enquiry needs to be completely impartial and must go into each and every fact related with the incidence.

Regarding Mathura incidence, I seek the following two actions- (a) the same compensation of Rs 50 lakh and 2 jobs to family of slain SP City and SO as was given to DSP Zia-ul Haq family (b) enquire the role of Shiv Pal Singh Yadav in the entire episode, particularly as regards his overt and covert support to the criminal outfit that illegally captured the public park.

यूपी के आईजी अमिताभ ठाकुर के एफबी वॉल से.

इन्हें भी पढ़ें...

xxx

xxx

xxx

xxx

xxx

भड़ास4मीडिया डॉट कॉम को छोटी-सी सहयोग राशि देकर इसके संचालन में मदद करें: Rs 100 > Rs 200 > Rs 500 > Rs 1000 > Rs 2000 > Rs 5000

Tagged under amitabh thakur,

Leave your comments

Post comment as a guest

0
Your comments are subjected to administrator's moderation.
terms and condition.
  • No comments found

Latest Bhadas