‘लोकमत समाचार’ ने छिंदवाड़ा और जलगांव संस्करण बंद किया, एमपी के सभी प्रतिनिधियों को हटाया

नागपुर के लोकप्रिय मराठी अखबार ‘लोकमत’ के हिंदी अख़बार ‘लोकमत समाचार’ को लेकर इन दिनों अच्छी खबर सुनने को नहीं मिल रही है। ‘लोकमत समाचार’ के छिंदवाड़ा और जलगांव संस्करणों को बंद किए जाने की सूचना है। इस अखबार ने मध्यप्रदेश में अपने आगमन का संकेत छिंदवाड़ा से ही दिया था! भोपाल में हाल ही में ‘लोकमत’ ने अपना नया ऑफिस भी बनाया था! अंदर की खबर है कि भोपाल ऑफिस भी बंद किया जा रहा है।

‘खबरें अभी तक’ बंद… उमेश जोशी, नितेश सिन्हा, मनीष मासूम समेत कई बेरोजगार

आखिरकार ‘खबरें अभी तक’ चैनल पर लटका ही दिया ताला… शाम 5.15 पर एक नोटिस चस्पा कर चैनल बंद करने की सूचना चैनल कर्माचारियों को दे दी गई… इसी चैनल के प्रबंधन ने नवंबर में कई कर्मचारियों को यह कह कर निकाल दिया था कि कंपनी का पुनर्गठन हो रहा है. इस बहाने कुछ चाणक्यों ने नौकरी बचा ली थी. अब मालिक ने ऐसे चाटुकारों को भी नहीं छोड़ा. चैनल के मालिक सभापा के राष्ट्रीय अध्यक्ष सुदेश अग्रवाल हैं जो बिजली के खोपचे की दुकान का धंधा करते हैं. इन्होंने अपने चैनल से अपने आपको हरियाणा का भावी मुख्यमंत्री घोषित कर दिया था. मात्र 500 के लगभग वोट पाने वाले अग्रवाल अब अपने औकत में आ गए हैं.

अरुण पुरी को पत्रकारिता से प्रेम होता तो इंडिया टुडे के दक्षिण भारत के तीन एडिशन्स क्यों बंद करते!

एक बुरी खबर इंडिया टुडे ग्रुप से है. इंडिया टुडे पत्रिका के दक्षिण भारत के तीन एडिशन्स बंद कर दिए गए हैं. अब इंडिया टुडे को तमिल, तेलगु और मलायलम भाषी लोग नहीं पढ़ सकेंगे. इन तीन एडिशन्स के बंद होने के बाद इंडिया टुडे सिर्फ अंग्रेजी और हिंदी में बची है. लोग कहने लगे हैं कि अगर अरुण पुरी को सच में पत्रकारिता से प्रेम होता या मीडिया के सरोकार से कोई लेना-देना होता तो वह दक्षिण भारत के तीन एडिशन्स बंद नहीं करता.

पांच माह का वेतन दिए बगैर ‘जानो दुनिया’ चैनल बंद, मीडियाकर्मी आंदोलन के मूड में

गुजरात के अहमदाबाद से संचालित ‘जानो दुनिया’ नामक न्यूज चैनल बंद हो गया है. इस चैनल के प्रबंधन ने अपने कर्मियों को पांच महीने की सेलरी नहीं दी है. पांच महीना बिना सेलरी लिए काम करने वाले सैकड़ों कर्मचारी चैनल के अचानक बंद कर दिए जाने से सदमे में हैं. अब ये एकजुट होकर चैनल मालिक के गुड़गांव स्थित होटल के सामने आमरण अनशन करने की तैयारी कर रहे हैं.

बंद होते न्यूज चैनलों और हजारों पत्रकारों की बेरोजगारी के मसले को प्रहलाद सिंह पटेल ने लोकसभा में उठाया

लोकसभा में दमोह से सांसद प्रह्लाद सिंह पटेल ने पिछले दिनों एक महत्वपूर्ण सवाल उठाया. ये सवाल मीडिया जगत से जुड़ा था. प्रह्लाद सिंह पटेल ने उन न्यूज चैनलों का नाम लिया जो बंद हो गए. इनसे हजारों बेरोजगार पत्रकारों के परिवारों के सामने आए संकट का जिक्र किया. साथ ही इस पूरे मसले में कानून की लाचारी के बारे में बताया. प्रह्लाद सिंह पटेल का पूरा सवाल, पूरा संबोधन ये है….

एबीपी का पंजाबी चैनल बंद हुआ, 200 बेरोजगार हुए, प्रदर्शन किया, पर ‘एबीपी न्यूज’ पर दस सकेंड की भी खबर नहीं चली

एक के बाद एक पंजाबी चैनलों के बंद होने के पीछे किसका हाथ? एबीपी चैनल सांझा ने दफ्तर बंद किया और 200 के करीब कर्मियों की छुट्टी की। उन्हें यह कहकर इस्तीफे देने का आदेश दिया कि पंजाब में केबल नेटर्वक उनका चैनल चलाने के लिए तैयार नहीं है। अगर पंजाब सरकार या केबल नेटर्वक किसी चैनल को जबरदस्ती रोकते हैं तो जिस मीडिया कंपनी का राष्ट्रीय स्तर का चैनल हो और वह अपना चैनल बंद करवाने वाले केबल नेटर्वक या सरकार के खिलाफ एक भी खबर तक न चलाए तो इस बात का क्या अर्थ निकलता है। ‘एबीपी सांझा’ बंद हुआ लेकिन एबीपी न्यूज़ (राष्ट्रीय चैनल) ने 10 सेंकड तक की भी कोई न्यूज़ नहीं चलाई। क्या विरोध केवल सरकार के खिलाफ होना चाहिए, कंपनी के खिलाफ नहीं जिसने अपनी मर्जी से प्रोजेक्ट शुरू किया और अचानक ही घाटे का सौदा बताकर बंद कर दिया।

एबीपी का पंजाबी चैनल लांच होने से पहले ही बंद, 200 मीडियाकर्मी बेरोजगार

एबीपी (आनंद बाजार पत्रिका) वालों ने 200 मीडियाकर्मियों के पाट पर लात मारने का काम किया है. एबीपी की तरफ से पंजाबी चैनल ‘एबीपी सांझा’ लांच करने की तैयारी कई वर्षों से चल रही थी. इसके लिए करीब 200 लोगों को भर्ती किया गया. अब सूचना आ रही है कि प्रबंधन ने चैनल को बंद करने का फैसला ले लिया है और सभी कर्मियों को घर जाने को बोल दिया है. यह चैनल मोहाली से लांच किया जाने वाला था. ABP सांझा नाम से आने वाले चैनल के प्रबंधन ने सभी कर्मचारियों को अपने यहां से बाहर निकाल दिया है.