कर्जखोर माल्या पर सिस्टम की दरियादिली से दुखी वेस्ट यूपी के एक प्रगतिशील किसान ने सुनाई आपबीती

Mukesh Yadav : किसान Vs माल्याज : नीचे एक किसान की आपबीती है… यह पोस्ट इस व्यवस्था का आईना है, जरूर पढ़िए. अंधभक्त भी देखें कि ‘सीमा पर जवान, खेत में किसान’ शहादत दे रहे हैं और माल्या अम्बानी अडानी जैसे लुटेरे टैक्सपेयर्स का पैसा लूटकर प्रधामनंत्री टाइप के लोगों को किस तरह जेब में रखते हैं. संविधान इनकी डस्टबिन में पड़ा है और जज पुलिस इनकी ‘शुभ दीपावली’ की मिठाई खाकर जमीर इनके यहां गिरवी रख चुके हैं. अब आप बताइये कौन देशभक्त और कौन देशद्रोही?

वेब जर्नलिस्ट मुकेश यादव के फेसबुक वॉल से.

गुलामी का दूसरा नाम है कर्ज

ग्रीस एक बेहद खूबसूरत देश है। कई मायनों में स्विट्जरलैंड से भी ज्यादा खूबसूरत और दिलकश। दुनिया भर के सैलानियों की पसंदीदा सैरगाह। इसके अलावा भी दुनिया के नक्शे में ग्रीस एक ऐसा मुल्क है जिसका अपना एक गौरवशाली इतिहास है और असाधारण उपलब्धियों का जखीरा है। सिकंदर महान (एलेक्जेंडर दी ग्रेट) का जिक्र छोड़ भी दिया जाए तो गणित फिलोस्फी और हुनर में ग्रीस का योगदान अनदेखा नहीं किया जा सकता।