हिट्स-लाइक के लिए अश्लीलता पर उतारू पत्रिका ग्रुप का पोर्टल, देखें ये हेडिंग और फोटो

एक दौर था जब लोग पत्रकारों के ईमानदार होने और निष्पक्ष पत्रकारिता के शानदार प्रयोगों के उदारहण दिया करते थे। बदलते समय के साथ साथ लोकतंत्र के चौथे स्तंभ कहे जाने वाले मीडिया का भी स्वरूप और लेखन बदल गया है। अब पत्रकारिता के नाम पर बड़े बैनर के वेब पोर्टल तक ज्यादा से ज्यादा हिट्स और लाइक के चक्कर में अश्लीलता परोसने में जरा भी गुरेज नहीं कर रहे हैं।

नवभारत टाइम्स ने सांसद पप्पू यादव की हत्या करा दी!

हत्या हुई आरजेडी नेता पप्पू यादव की लेकिन फोटो लगा कर छाप दिया सांसद पप्पू यादव की… धन्य है नवभारत टाइम्स के डिजिटल सेक्शन वाले बालकों… जब इतने बड़े ब्रांड में इस लेवल की गलती हो जा रही है तो दैनिक जागरण और दैनिक भास्कर के डिजिटल वाले तो यकीनन गलती करने के लिए ही पैदा हुए होंगे…