क्या एबीपी न्यूज अपनी चलाई सनसनियों पर एक बार भी नजर डालने को तैयार है?

Sheetal P Singh : लम्बे समय तक पेड मीडिया और चिबिल्ले चैनल इस कथित बाबा की गप्पों को UPA2 की हैसियत बिगाड़ने के लिये राष्ट्रीय ख़बर बनाते रहे। अब कोई अपनी ही चलाई सनसनियों पर एक बार भी नज़र डालने को तैयार नहीं है… और यह ढोंगी बाबा तो खैर टैक्सपेयर की कमाई से Zplus कैटगरी का हो ही गया!

Sanjeev : बाबा रामदेव को ऐसा क्या मिल गया, जो अपनी ही कही बातों को भूल गए…

Kunal k Verma : एबीपी न्यूज को जरूर एक बार बाबा रामदेव से पूछना चाहिए कि अब उनका इन मुद्दों पर क्या रिएक्शन है… उन दिनों तो एबीपी न्यूज ने रामदेव के कथन को ऐसे चलाया जैसे बाबा कोई बड़ी ब्रेकिंग न्यूज दे रहे हों… कम से कम इन न्यूज चैनलों को अपनी चलाई खबरों का कभी-कभार तो फालोअप कर लेना चाहिए… पर ये पेड और कार्पोरेट न्यूज चैनल ऐसा कहां करने वाले… इन्हें तो अपना टर्नओवर बढ़ाने से फुर्सत नहीं… अगर एबीपी न्यूज में थोड़ी भी शरम हया बाकी है तो वह बाबा रामदेव की इन मुद्दों पर चुप्पी की असलियत उजागर करेगा…

वरिष्ठ पत्रकार शीतल पी. सिंह और सोशल मीडिया एक्टिविस्ट संजीव व कुणाल के फेसबुक वॉल से.

कृपया हमें अनुसरण करें और हमें पसंद करें: