माखनलाल यूनिवर्सिटी के छात्रों ने लड़ाई के लिए कमर कसी

माखनलाल चतुर्वेदी राष्ट्रीय पत्रकारिता विश्वविद्यालय का आंतरिक विवाद गहराता जा रहा है। कभी फर्जी नियुक्ति का मामला, कभी छात्र विरोधी स्थितियां तो कभी शिक्षकों के शोषण का मसला। इस तरह के एक नहीं बल्कि सैकड़ों प्रकरण उलझे हुए हैं। ऐसा लगता है, जैसे माखनलाल विश्वविद्यालय और विवादों का आपस में चोली-दामन का साथ है। विगत पांच सालों से लागातार छात्र हित की अनदेखी की जा रही है। छात्रों ने अपने हित की लड़ाई के लिए कमर कस ली है।

भाजपाइयों ने बनारस में मीडियाकर्मियों से की मारपीट

क्‍या भाजपा कार्यकर्ता भी समाजवादी पार्टी की राह पर चल पड़े हैं? क्‍या उन्‍हें भी सत्‍ता का नशा हो गया है? क्‍या वे भी अब गुंडई करेंगे, पत्रकारों से मारपीट करेंगे? ये सारे सवाल तब खड़े हुए जब बुधवार को बनारस में भाजपा के कार्यकर्ता कवरेज कर रहे पत्रकारों तथा छायाकारों से भिड़ गए, उनसे मारपीट किया.