Flipkart पर कुछ भी ऑर्डर करने से पहले मेरी कहानी सुनिए

31 अगस्त 2015 का दिन. मेरे दिल में एक स्मार्टफोन लेने का विचार आया. मैं इंटरनेट पत्रकार हूं तो ये मेरे लिए काफी ज़रूरी भी था. मेरा पुराना स्मार्टफोन मेरी अपेक्षाओं पर खरा नहीं उतर पा रहा था और काम काफी प्रभावित हो रहा था. जो स्मार्टफोन मेरे बजट में था वह Flipkart पर बिक्री के लिए उपलब्ध था. मैंने Flipkart को एक मोटो-ई सेकेंड जेनरेशन फोन ऑर्डर कर दिया. मेरी परेशानी की शुरुआत यहीं से हुई.

फ्लिपकार्ट विज्ञापन और नेटवर्क क्रैश का निहितार्थ : घर में घुसकर जेब से पैसा निकालने की कोशिश

Rana Yashwant : ६ अक्टूबर की सुबह जब दिल्ली के लोगों ने शहर का नामी गिरामी अखबार हाथ में लिया तो उसके पहले औऱ आखिरी पन्ने पर ई शापिंग की कंपनी फ्लिपकार्ट के विज्ञापन दिखे। बंपर डिस्काउंट का विज्ञापन। रसोई की जरुरत से लेकर टीवी लैपटॉप मोबाइल औऱ कई छोटी मोटी जरुरत तक की चीजों की ऑनलाइन बुकिंग का विज्ञापन। समय भी लिख दिया गया था- सुबह ८ बजे से। नतीजा ये हुआ कि कंपनी का नेटवर्क क्रैश कर गया। कहने का मतलब ये कि हिंदुस्तान में ऑनलाइन शॉपिंग के लिये इतने लोग आ गये कि ट्रैफिक कंजेशन ने सिस्टम ठप कर दिया।

( File Photo Rana Yashwant )