ईटीवी के सीनियर रिपोर्टर आलोक शर्मा ने छेड़छाड़ कर भाग रहे एक वहशी दरिंदे को धर दबोचा

Alok Sharma : दोस्तों, लड़की के साथ अभद्रता और छेड़छाड़ कर भागे लड़के को करीब एक किलोमीटर दौड़ कर पकड़ा, मुद्दा ये नहीं था कि मुझे हीरो बनना था, बड़ी बात ये थी कि आज उसे छोड़ दिया जाता या वो बच जाता तो कल को हमारी बहन-बेटियों के साथ भी ऐसा ही करता। घटनाक्रम सात मई की रात 9.30बजे का है। अपने परिवार के साथ B 2- By Pass के पास गार्डन में घूम रही स्कूल से कुछ समय पहले ही Pass Out हुई लड़की के साथ यह सब हुआ। बेशर्म में हवस इतनी थी कि उसकी गोद में बैठी डेढ़ साल की बच्ची को भी गोद से गिरा दिया।

आलोक शर्मा

ईटीवी के पत्रकार ऋतुराज ने खून देकर आदिवासी भाई-बहन की जान बचायी

देवघर में ईटीवी बिहार के पत्रकार ऋतुराज सिन्हा ने रक्षाबंधन के दिन खून देकर आदिवासी भाई बहन की जान बचायी. प्राप्त सूचना के अनुसार देवघर के एक अस्पताल कुंडा सेवा सदन में एक आदिवासी भाई बहन जिनकी उम्र सात साल एवं नौ साल बतायी जा रही है, सेरेब्रल मलेरिया से ग्रसित होकर भर्ती थे. वहाँ उन बच्चों का हीमोग्लोबिन काफी नीचे गिर गया था. उन बच्चों की जान खून के अभाव में जा भी सकती थी. ईटीवी के पत्रकार ऋतुराज को इस संबंध में जानकारी मिली तो उन्होंने उन बच्चों को खून देने का निर्णय लिया.