आतंक के खेल में एक मासूम के जिंदा पकड़े जाने का मीडिया टेरर

कुछ मित्रों ने जिंदा पकड़े गए आतंकवादी यानी कसब पर मेरी राय जाननी चाही है. मैंने मना किया तो कहने लगे कि लिखने से डरते हैं. अब ये हाल भी नहीं है कि कोई मुझे कुछ कहकर उकसा ले. पर अगर आप सुनना ही चाहते हैं तो लीजिए सुनिए….

ये लिखते हुए मेरा कलेजा भर आया, अपने बच्चों की शक्ल याद आई

ये लड़का जो पकड़ा गया है कासिम खान । क्या उम्र होगी ? बमुश्किल 20 – 22 साल या शायद उस से भी कम ? 16 – 17 साल ? मुझे कसाब की शक्ल भी याद आती है । वो तो इस से भी छोटा था उम्र में । सच कहूँ, मुझे कभी गुस्सा नहीं आया कसाब पर, बल्कि दया आई ।