मीडिया ट्रायल रोकने के नाम पर मीडिया पर बैन?

मुंबई और महाराष्ट्र में मीडिया का काम कठिन होने वाला है। खासकर अपराध से जुड़ें मामलों में। महाराष्ट्र सरकार ने बॉम्बे हाईकोर्ट मे एक हलफनामा दायर कर बताया है कि आरोपी और पीड़ित की निजता बनाए रखने के लिए पुलिस को दिशा-निर्देश जारी किया है, जिसमें आरोपी का नाम, उसकी तस्वीर और उससे जुड़ी कोई भी जानकारी मीडिया को देने के लिए मना किया गया है। यह हलफनामा बॉम्बे हाईकोर्ट में दायर एक जनहित याचिका के जवाब में दिया गया है। जनहित याचिका दायर करने वाले वकील राहुल ठाकुर के मुताबिक, किसी पर भी मामला दर्ज होते ही पुलिस उसकी पुरी जानकारी, तस्वीर मीडिया को दे देती है। नतीजा ये होता है कि दोष साबित होने के पहले ही वह शख्स अपराधी मान लिया जाता है, जो अन्याय है।