गाजीपुर में दैनिक जागरण के प्रतिनिधि राजेश मिश्रा की गोली मार कर हत्या

दैनिक जागरण के पत्रकार राजेश मिश्रा

गाजीपुर जनपद के करण्डा क्षेत्र में दैनिक जागरण के प्रतिनिधि राजेश मिश्रा की आज सुबह गोलियों से भूनकर हत्या कर दी गई. गोलियों की तड़तड़ाहट से गूंज गया गाजीपुर का करंडा क्षेत्र… गाजीपुर के करंडा थाना क्षेत्र अंतर्गत बभनपुरा गांव निवासी राजेश मिश्रा दैनिक जागरण के स्थानीय प्रतिनिधि हैं. उनकी उम्र 35 वर्ष है. उनके छोटे भाई अमितेश मिश्र की उम्र 30 वर्ष है.

इन दोनों को कुछ अज्ञात हमलावर ने गोली मार दी. राजेश मिश्रा की मौत मौके पर ही हो गई. सगे छोटे भाई की हालत नाजुक बनी हुई है. जानकारी के अनुसार दैनिक जागरण के पत्रकार राजेश मिश्र सुबह मार्निंग वॉक करके अपनी दुकान पर पहुंचे थे. बता दें कि राजेश की गिट्टी-बालू और मौरंग की दुकान गांव में सड़क किनारे है. तभी कुछ अज्ञात हमलावरों ने इनके ऊपर और इनके सगे छोटे भाई पर गोली चला दी. दोनों गंभीर रूप से घायल हो गए.

आनन-फानन में इन्हें जिला चिकित्सालय गाजीपुर भेजा गया. यहां पर डाक्टरों ने राजेश मिश्रा को मृत घोषित कर दिया. भाई की हालत नाजुक होने के कारण वाराणसी रेफर कर दिया गया है. करंडा थाना के एसओ का कहना है कि आज सुबह गोली मारने की घटना की जानकारी मिली है. मामले की जांच की जा रही है.

कृपया हमें अनुसरण करें और हमें पसंद करें:

No one killed Arushi!

Prateek Chaudhary : पुलिस ने शुरू से ही आरुषि मर्डर को ऐसे ट्रीट किया जैसे कोई बच्ची नही कोई जानवर मरा हो। कोई भी सबूत किसी के खिलाफ नही मिला पुलिस को जांच में ओर अब कोर्ट से सब बरी! आखिर कैसे मर गयी आरुषि? कोई तो होगा उसका कातिल? इस केस के इन्वेस्टिगेटर ऑफीसर पर कायर्वाही होनी चाहिए जिन्होंने अपना जमीर बेचकर एक मासूम बच्ची की लाश का सौदा कर सबूत मिटा दिये। माफ करना आरुषि, तुम ऐसे देश मे पैदा हुई जिसमें इंसान की कोई कीमत नहीं, जहाँ हर कुर्सी बिकाऊ है।

Haresh Kumar : अब तो ईश्वर ही बता सकते हैं कि आखिर में आरुषि को मारा किसने था? सारे गवाह और सबूत आरुषि के हत्यारों को दुनिया के सामने न ला सके। शुरुआत में इस केस में घरेलू नौकर से लेकर उनके दोस्तों पर शक गया था, लेकिन अगले दिन घरेलू नौकर हेमराज भी मृत पाया गया था, तो बाद में माता-पिता पर आरुषि की हत्या की बात सामने आई। इसके पीछे जो लोग थे उन्होंने इसे- ओनर किलिंग कहा। सवाल ये है कि आरुषि को मारा किसने। क्या आरोपी को सजा मिल सकेगी या आरोपी भी आपस में एक-दूसरे के हाथों मारे गए। कई पेंच हैं। 16 मई 2008 से आज तक यह मामला उलझा हुआ है और अब तो इसका सुलझना भी ईश्वर के हाथों में है। एक्स्ट्रीम कंडीशन में ही कोई मां-बाप अपनी बच्ची की हत्या कर सकता है, लेकिन यहां तो कई मर्डर हुए हैं। और डॉक्टर इतना निर्दयी नहीं होता। उसे भी समाज की परवाह होती है। पूरा करियर खत्म हो गया। सामाजिक प्रतिष्ठा चली गई और बेटी गई अलग से। अब जीने का क्या मकसद हो सकता है भला। उस दंपती के बारे में भी सोचें, जिसने अपनी इकलौती बेटी को खोया है। सच्चाई सिर्फ ईश्वर जानता है या उस घटना से संबंधित लोग, जिनमें से कई अब हैं नहीं।

Samar Anarya : तलवार दंपत्ति आरुषी हत्याकांड में बरी. दोषी कोई नहीं। न असली हत्यारे, न पुलिस जिसने केस बिगाड़ा, न मीडिया जिसने टीआरपी के लिए मामले को सनसनीखेज ही नहीं बनाया- जिसने मीडिया ट्रायल में तलवार परिवार को हत्यारा और यौन रोगी जैसा तक बना के पेश किया, उस 13 साल की बच्ची तक को! न्याय की जय हो. No one killed Arushi. कन्या पूजने वाले, बेटियों का अंतरराष्ट्रीय दिवस मनाने वाले, बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ जैसी योजनाएँ चलाने वाले देश में कोई सोच भी कैसे सकता है- किसी बेटी को मारने का?

Abhishek Srivastava : बधाई हो। इंसाफ़ हुआ है। तलवार दंपत्ति के वकील कह रहे हैं कि इंसाफ़ हुआ है। जब माई-बाउ को सज़ा हुई थी तब रेबेका जॉन ने कहा था कि यह ”मिसकैरेज ऑफ जस्टिस” है। लीजिए, जस्टिस हो गया। बस एक सवाल है। जस्टिस आरुषि को चाहिए था या उसके कथित हत्‍यारों को? अब तो हत्‍यारा कहना भी पाप है। छूट गए हैं। अदालत से। इलाहाबाद वाली। मने, आरुषि ऐसे ही मर गई थी। बेमतलब इतना टाइम वेस्‍ट किया सबका। ठीके है। जाएदा…

Krishan Bhanu : सीबीआई से यक्ष प्रश्न… माँ-बाप बरी! तो फिर आरुषि को किसने मारा? शिमला के वरिष्ठ वकील छब्बील दास के हत्यारे क्यों नहीं पकड़े गए? मामला 1995 का है। शिमला के बड़े कारोबारी हर्ष बालजीज की शाम ढलते ही आर्मी एरिया में किसने गोली मारकर हत्या कर दी? हर्ष को 2003 में गोली मार दी गई थी। क्या ऐसे में कोटखाई गुड़िया रेप और हत्या की गुत्थी सुलझने की सीबीआई से उम्मीद की जा सकती है?

अलीगढ़ के युवा वकील प्रतीक चौधरी, दिल्ली के पत्रकार हरेश कुमार, मानवाधिकारवादी समर अनार्या, मीडिया विश्लेषक अभिषेक श्रीवास्तव और शिमला के वरिष्ठ पत्रकार कृष्ण भानु की एफबी वॉल से.

कृपया हमें अनुसरण करें और हमें पसंद करें:

न्यूज24 के एसोसिएट प्रोड्यूसर कामता सिंह को जहर देकर और गला घोंटकर मारा गया था!

इसी साल मार्च महीने में न्यूज24 के एसोसिएट प्रोड्यूसर कामता सिंह की रहस्यमय हालात में मौत हो गई थी. जो पोस्टमार्टम रिपोर्ट आई है उसमें बताया गया है कि उन्हें जहर देकर और गला घोंटकर मारा गया. कामता चैनल से ड्यूटी करके रात 12 बजे सोने चले गए थे. साथ में पत्नी भी सो रही थीं. सुबह छह बजे वे नहीं उठे और न हलचल कर रहे थे. तब पत्नी उन्हें अस्पताल ले गईं. वहां डाक्टरों ने मृत घोषित कर दिया था. फिलहाल बिसरा रिपोर्ट का आना अभी बाकी है.

पोस्टमार्टम रिपोर्ट की खबर हिंदुस्तान अखबार में छपी है, जो इस प्रकार है…

कृपया हमें अनुसरण करें और हमें पसंद करें: