भारत में रिपोर्टिंग करने के दौरान दो पत्रकारों की हत्या, एक को नक्सलियों ने मारा, दूसरे को अपहर्ताओं ने

दो पत्रकारों के मारे जाने की सूचना है. इनकी हत्या की गई है. छत्तीसगढ़ के दंतेवाड़ा में दूरदर्शन की टीम पर नक्सली हमले में कैमरामैन की मौत हो गई. कैमरामैन का नाम अच्युतानंद साहू है. ये दूरदर्शन दिल्ली में सेवारत थे. घटना अरनपुर थाना छेत्र के नीलावाया के जंगल की है. दूरदर्शन से जुड़े लोग एक कार्यक्रम के लिए छत्तीसगढ़ के दंतेवाड़ा गए थे. Continue reading

कृपया हमें अनुसरण करें और हमें पसंद करें:

गाजीपुर में दैनिक जागरण के प्रतिनिधि राजेश मिश्रा की गोली मार कर हत्या

दैनिक जागरण के पत्रकार राजेश मिश्रा

गाजीपुर जनपद के करण्डा क्षेत्र में दैनिक जागरण के प्रतिनिधि राजेश मिश्रा की आज सुबह गोलियों से भूनकर हत्या कर दी गई. गोलियों की तड़तड़ाहट से गूंज गया गाजीपुर का करंडा क्षेत्र… गाजीपुर के करंडा थाना क्षेत्र अंतर्गत बभनपुरा गांव निवासी राजेश मिश्रा दैनिक जागरण के स्थानीय प्रतिनिधि हैं. उनकी उम्र 35 वर्ष है. उनके छोटे भाई अमितेश मिश्र की उम्र 30 वर्ष है.

इन दोनों को कुछ अज्ञात हमलावर ने गोली मार दी. राजेश मिश्रा की मौत मौके पर ही हो गई. सगे छोटे भाई की हालत नाजुक बनी हुई है. जानकारी के अनुसार दैनिक जागरण के पत्रकार राजेश मिश्र सुबह मार्निंग वॉक करके अपनी दुकान पर पहुंचे थे. बता दें कि राजेश की गिट्टी-बालू और मौरंग की दुकान गांव में सड़क किनारे है. तभी कुछ अज्ञात हमलावरों ने इनके ऊपर और इनके सगे छोटे भाई पर गोली चला दी. दोनों गंभीर रूप से घायल हो गए.

आनन-फानन में इन्हें जिला चिकित्सालय गाजीपुर भेजा गया. यहां पर डाक्टरों ने राजेश मिश्रा को मृत घोषित कर दिया. भाई की हालत नाजुक होने के कारण वाराणसी रेफर कर दिया गया है. करंडा थाना के एसओ का कहना है कि आज सुबह गोली मारने की घटना की जानकारी मिली है. मामले की जांच की जा रही है.

कृपया हमें अनुसरण करें और हमें पसंद करें:

पनामा पेपर्स जैसे फ्रॉड उजागर करने वाली महिला पत्रकार की कार-बम से हत्या

Mohit Soni : पनामा पेपर लीक्स ने दुनियाभर के बड़े-बड़े नेताओं के बारे में बड़े खुलासे किए थे। इस लीक के पीछे जिस जर्नलिस्ट का हाथ था, जिसने दुनियाभर की राजनीतिक और उद्योग घरानों को हिलाकर रख दिया था, उसकी हत्या कर दी गई है। पनामा पेपर लीक्स को सामने लाने वाली महिला पत्रकार और ब्लागर डैफनी कैरुआना गलिजिया की कार बम धमाके के जरिए हत्या कर दी गई। यह कार बम धमाका माल्टा में किया गया। इस महिला पत्रकार ने जो दस्तावेज अपने ब्लॉग के जरिए लीक किए थे, उसे पढ़ने वालों की संख्या उनके देश के सबसे ज्यादा पढ़े जाने वाले अखबार से भी कहीं ज्यादा थी।

सोमवार की दोपहर को गलीजिया की कार पर धमाका किया गया, जिसमें उनकी कार के परखच्चे उड़ गए और इसका मलबा पास के मैदान में चारो ओर फैल गया। उन्होंने हाल ही में माल्टा के प्रधानमंत्री जोसेफ मस्कट और उनके दो करीबियों के बारे में बड़ा खुलासा किया था। गलीजिया पर हमले की अभी तक किसी गुट ने जिम्मेदारी नहीं ली है। लेकिन माल्टा के राष्ट्रपति मरी लुइस कोलेरो प्रका ने शांति की अपील की है।

Anita Misra : पनामा पेपर्स जैसे फ्रॉड को उजागर करके तमाम देशों के लोगों की नींद उड़ाने वाली (भारत आदी है करप्शन का, यहाँ किसी को कोई फर्क नहीं पड़ा) माल्टा की बहादुर पत्रकार डेफ्ने गेलेजिया कार बम से मार दी गईं। डेफ्ने रनिंग कमेंट्री नाम से एक ब्लॉग भी लिखती थी। इस तरह के खोजी और हिम्मती पत्रकार कम ही हैं। साहसी डेफ्ने को सलाम… श्रद्दांजलि rip

Mukesh Kumar : सत्य उजागर करने वालों पर चौतरफा हमला जारी है…पनामा पेपर लीक करने वाली पत्रकार डैफनी कैरुआना गलिजिया की माल्टा में हत्या.

शिखा अपराजिता : पनामा पेपर घोटाले को दुनिया के सामने लाकर कई देशों की सत्ता हिला देने वाली पत्रकार और ब्लॉगर Daphne Caruana Galizia की माल्टा में कार बम से हत्या कर दी गई है।

सौजन्य : फेसबुक

कृपया हमें अनुसरण करें और हमें पसंद करें:

न्यूज24 के एसोसिएट प्रोड्यूसर कामता सिंह को जहर देकर और गला घोंटकर मारा गया था!

इसी साल मार्च महीने में न्यूज24 के एसोसिएट प्रोड्यूसर कामता सिंह की रहस्यमय हालात में मौत हो गई थी. जो पोस्टमार्टम रिपोर्ट आई है उसमें बताया गया है कि उन्हें जहर देकर और गला घोंटकर मारा गया. कामता चैनल से ड्यूटी करके रात 12 बजे सोने चले गए थे. साथ में पत्नी भी सो रही थीं. सुबह छह बजे वे नहीं उठे और न हलचल कर रहे थे. तब पत्नी उन्हें अस्पताल ले गईं. वहां डाक्टरों ने मृत घोषित कर दिया था. फिलहाल बिसरा रिपोर्ट का आना अभी बाकी है.

पोस्टमार्टम रिपोर्ट की खबर हिंदुस्तान अखबार में छपी है, जो इस प्रकार है…

कृपया हमें अनुसरण करें और हमें पसंद करें:

त्रिपुरा में युवा टीवी पत्रकार की जघन्य हत्या से मीडिया जगत स्तब्ध

IFWJ Deplores the Murder of Journalist of Tripura

Indian Federation of Working Journalists (IFWJ) has deplored the murder of Shantanu Bhowmik, a T.V. journalist of Tripura by the goons of a political party in Agartala. He was killed by sharp cutting weapons while performing his duty of covering a road blockade agitation of ‘Indigenous People’s Front of Tripura’ (IPFT). It is alleged that IPFT and ‘Communist Party of India (Marxist)’, which is ruling party in the state, have been at loggerheads. It is believed that he was the victim of the attacks of the political hoodlums and was declared brought dead by the doctors in the hospital.

IFWJ’s Secretary General Parmanand Pandey, Secretary Randeep Ghangas and Treasurer Rinku Yadav have in a statement demanded that the Government of Tripura must immediately swing into action to arrest the culprits and provide adequate compensation to the nearest kin. The IFWJ has also asked the Tripura Government to give a befitting job to any eligible member of his family.

DUJ Condemns Killing of Tripura Journalist

The Delhi Union of Journalists (DUJ) today, condemns the killing of TV journalist Shantanu Bhowmik while covering clashes between various groups. It calls for immediate arrests of culprits. An extended executive meeting on Saturday 23 September will consider the demand for a risk insurance cover for media persons, throughout the country and the twin dangers to the profession, both from physical attacks and on their livelihood, wages and dignity. The DUJ welcomes broadest possible unity on common issues between journalists unions and the press fraternity.

JFA condemns scribe’s murder in Tripura

Guwahati: Expressing shock at the brutal murder of a young television scribe in Tripura, the Journalists’ Forum Assam (JFA) demands a high level probe into the incident and urges the Manik Sarkar led Left government at Agartala to book the culprits under the law. The forum also reiterated its old demand for a special protection law for scribes on duty.

The reports from Agartala narrate that Shantanu Bhowmik, 29, who was associated with a local news channel titled DinRaat, faced the attacks when he went to cover a gory clash between two parties namely Indigenous People’s Front of Tripura (IPFT) and Communist Party of India (Marxist)’s tribal wing Tripura Rajaer Upajati Ganamukti Parishad (TRUGP) at Mandai in west Tripura on 22 September 2017.

Seriously injured Shantanu was taken to a government hospital, but the attending doctors declared him brought dead. Shantanu becomes the seventh Indian victim-journalist this year after the murder of Bengaluru based editor-journalist and social activists Gauri Lankesh (55) on 5 September last. Prior to her, Haryana based television journalist Surender Singh Rana (35) was shot dead on 29 July.

The other victims include Kamlesh Jain (42) of Madhya Pradesh (killed on 31 May), Shyam Sharma (40) also of MP (killed on 15 May), Brajesh Kumar Singh (28) of Bihar (killed on 3 January) and Hari Prakash (31) of Jharkhand (killed on 2 January). India lost six journalists to assailants in 2016, which was preceded by five cases in 2015. The populous country witnessed murders of two scribes in 2014, but the year 2013 reported as many as 11 journalists’ murders, where three northeastern media employees also fall victims to the perpetrators.

The killing of Sujit Bhattacharya (proof reader), Ranjit Chowdhury (manager) and Balaram Ghosh (driver) inside the office premises of DainikGanadoot in Agartala broke as sensational news as Tripura had no recent record of journalist-murders.

“Tripura thus repeated its shameful record on journo-murder after three years. Shantanu’s killing on duty hours also reminds the challenge & risks faced by the working journalists of northeast India. We also extends moral supports to the agitating journalists of Tripura for their endeavor to justice,” said a statement issued by JFA president Rupam Barua and secretary Nava Thakuria.

कृपया हमें अनुसरण करें और हमें पसंद करें:

IFWJ, DUJ and JFA condemns killing of fearless journalist Gauri Lankesh

Bengaluru : Indian Federation of Working Journalist has condemned the gruesome killing of Gauri Lankesh, the bold editor of the popular weekly tabloid ‘Lankesh Patrike’. In a statement, the IFWJ President B V Mallikarjunaiah and the Secretary General Parmanand Pandey have asked the government of Karnatka to immediately bring the culprits to book and take stringent action against them.
It may be noted that, of late, the attacks on the journalists across the country have increased the mainly because of the rise of intolerance of different groups.

Although it is impossible to provide security cover to every journalist throughout the country, yet insuring of severe punishment to such anti-social elements will certainly be an effective deterrence, which will go a long way in protecting the journalists as well as other citizens. The IFWJ has also demanded that the government of Karnataka must adequately compensate the bereaved family of the late Gauri Lankesh. The IFWJ pays its homage to the courageous lady journalist, who made the supreme sacrifice for the sake of the protection of her constitutional rights of freedom of speech and expression.

DUJ Condemns Murder of Journalist Gauri Lankesh
Delhi Union of Journalists strongly condemns the dastardly murder of journalist Gaouri Lankesh and demands immediate identification and arrest of the culprits. It calls up on members to join a collective protest at the Press Club of India at 3pm today.

JFA condemns murder of Bengaluru journalist

Guwahati: Journalists’ Forum Assam (JFA) strongly condemned the murder of Bengaluru  based editor-journalist Gauri Lankesh on 5 September 2017 by unidentified assailants. One of the senior journalist & social activists of Karnataka, Ms  Gauri was shot dead at her residence in Rajarajeshwari Nagar on Tuesday evening. Ms  Gauri, 55, was critical against all kinds of communal forces in the country. She also faced convictions in two defamation cases. Elder daughter of a noted Kannada litterateur- journalist P Lankesh, Ms Gauri used to receive threats from various extreme forces in the recent past, but she did not bow down. Survived by her mother, filmmaker sister Kavita, theatre worker brother Indrajit with others,  Ms  Gauriowned and edited ‘Gauri Lankesh Patrike’, a popular Kannada magazine.

Karnataka chief minister and also a senior Congress leader Siddaramaiah condemned her murder and assured proper actions to book the culprits at the earliest. “Apart from non-physical attacks to silence media, as the year 2017 rolls on, India stands at an awkward position over the journo-murder index, as we have witnessed the murder of six professional journalists in the last nine months. Hence, we reiterate our old demand for a special protection law for the scribes across the country,” said a statement issued by JFA president Rupam Barua and secretary Nava Thakuria.

Prior to Ms  Gauri, a Haryana based television journalist (Surender Singh Rana) was shot dead on 29 July. Rana,  35, was associated with the Jammu-based news channel JK 24×7 News. The other victims include Kamlesh Jain, 42, (killed on May 31 in Madhya Pradesh), Shyam Sharma, 40, (May 15 in MP), Brajesh Kumar Singh, 28, (3 January in Bihar) and Hari Prakash, 31, (2 January in Jharkhand). India lost five journalists to assailants in 2015, which was preceded by two cases in 2014. However, 2013 reported as many as 11 journalists’ murders, as three northeastern media employees (Sujit Bhattacharya, Ranjit Chowdhury and Balaram Ghosh from Tripura) fell victim to the perpetrators.

कृपया हमें अनुसरण करें और हमें पसंद करें:

हत्यारा ही नहीं, देशद्रोही भी है पूर्व सांसद मो. शहाबुद्दीन

पटना के वरिष्ठ पत्रकार विनायक विजेता

Vinayak Vijeta : शहाबुद्दीन का सच… हत्यारा ही नहीं, देशद्रोही भी है पूर्व सांसद मो. शहाबुद्दीन… 2001 में रची थी तहलका के तत्कालीन संपादक और रिपोर्टर की हत्या की साजिश… वर्ष 2002 में पटना से प्रकाशित एक हिन्दी मासिक के संपादक कुणाल एवं वर्ष 2016 में सिवान के पत्रकार राजदेव रंजन की हत्या सहित 45 संगीन मामलों में आरोपित पूर्व बाहुबली सांसद के सिर पर सिर्फ हत्याओं का ही ठीकरा नहीं बल्कि वो देशद्रोही भी है।

पूर्व सांसद और उनके बहनोई बिहार सरकार के पूर्व मंत्री एजाजुल हक का सबंध पाकिस्तानी खुफिया एजेंसी आईएसआई व कश्मीर में कार्यरत पाकिस्तानी आतंकियों से भी है। शहाबुद्दीन और उनके बहनोई ने वर्ष 2001 में आईएसआई एजेंट जैन के साथ पटना में तत्कालीन मंत्री एजाजुल हक के आवास पर ही एक बैठक कर केन्द्र की तत्कालीन बाजपयी सरकार को गिराने के उद्देश्य से तहलका के संपादक तरुण तेजपाल और उनके सहयोगी अनिरुद्ध बहल की हत्या की साजिश रची थी।

इन लोगों की यह सोच थी कि इन दोनों की अगर हत्या हो जाती है तो इसका ठीकरा तत्कालीन बाजपेयी सरकार के सिर पर जाएगा जिस सरकार के खिलाफ तब तरुण तेजपाल लगातार तहलका मचा रहे थे। हत्या की जिम्मेवारी कुख्यात अपराधी अवधेश उर्फ भूपेन्द्र त्यागी और उसके साथियों को सौंपी गई थी। भूपेन्द्र त्यागी दिल्ली पहुचकर इस हत्या को अंजाम देता इसके पूर्व ही व अपने साथियों और हथियार के साथ दिल्ली के लोधी कॉलोनी पुलिस द्वारा दबोच लिया गया। पकड़े जाने के बाद भूपेन्द्र त्यागी ने पुलिस के सामने क्या खुलासा किया, पढ़िए इन कागजात में…. नीेचे दिए एक-एक लिंक पर क्लिक करें :

Download one

Download two

Download three

Download four

बिहार के वरिष्ठ पत्रकार विनायक विजेता की एफबी वॉल से.

इसे भी पढ़ें :

xxx

xxx

xxx

 xxx

कृपया हमें अनुसरण करें और हमें पसंद करें:

शहाबुद्दीन ने तरुण तेजपाल और अनिरुद्ध बहल की हत्या के जरिए तत्कालीन भाजपा सरकार को अस्थिर करने की साजिश रची थी!

कई पत्रकारों का हत्यारा बिहार का बाहुबली शहाबुद्दीन सुप्रीम कोर्ट के आदेश के बाद दिल्ली के तिहाड़ जेल शिफ्ट किया जाना है तो इस मौके पर उसकी करतूतों की फिर चर्चा चहुंओर शुरू हो गई है. खासकर मीडियाकर्मियों में इस बात को लेकर गुस्सा है कि दो-दो पत्रकारों की हत्या कराने वाले शहाबुद्दीन को आखिर क्यों राजनीतिक संरक्षण दिया जाता है और अभी तक उसके गुनाहों की सजा उसको क्यों नहीं दी गई. क्यों उसके सामने नेता, अफसर, जज समेत पूरा सिस्टम भय के मारे नतमस्तक हो जाता है.

इस बीच एक पुराना मामला पता चला है जिसमें शहाबुद्दीन के कुछ गुर्गे दिल्ली में हथियारों के साथ अरेस्ट किए गए थे. उनमें से एक ने पुलिस के सामने अपने दिए बयान में कुछ कुछ सनसनीखेज खुलासे किए थे. उसने बताया था कि नेपाल में आईएसआई, शहाबुद्दीन और अन्य के बीच मीटिंग में तहलका के तत्कालीन एडिटर इन चीफ तरुण तेजपाल और तहलका के ही खोजी पत्रकार अनिरुद्ध बहल को मारने की साजिश रची गई. इनकी हत्या करके तत्कालीन भाजपा सरकार को गिरवाना था क्योंकि तहलका ने भाजपा के लोगों का स्टिंग किया था और स्टिंग करने वालों की हत्या के बाद पूरा दोष भाजपा सरकार पर ही जाता.

ये मामला वैसे है पुराना लेकिन चार पन्नों का यह कुबूलनामा पहली बार भड़ास4मीडिया के जरिए पब्लिक डोमेन में लाया जा रहा है. इसे पढ़ने या डाउनलोड करने के लिए नीचे दिए लिंक पर एक-एक कर क्लिक करें…

Download one

Download Two

Download Three

Download Four


इसके पहले सुप्रीम कोर्ट ने शहाबुद्दीन को बिहार की जेल से दिल्ली की जेल शिफ्ट करने का आदेश दिया, जिसकी खबर इस प्रकार है…

पत्रकार राजीव रंजन की हत्या का आरोपी बाहुबली शहाबुद्दीन तिहाड़ जेल में होगा शिफ्ट, सुप्रीमकोर्ट ने दिया आदेश

देश के पत्रकारिता को झकझोर देने वाली घटना बिहार के पत्रकार राजीव रंजन की हत्या के आरोपी और बिहार के सीवान के बाहुबली सहाबुद्दीन को अब बिहार से नयी दिल्ली के तिहाड़ जेल में भेजा जाएगा। माननीय सुप्रीमकोर्ट ने शहाबुद्दीन को तिहाड़ जेल में शिफ्ट करने का आदेश सुनाया है।माननीय सुप्रीमकोर्ट ने पत्रकार राजीव रंजन की विधवा आशा रंजन सहित कई पीड़ितों की याचिका पर सुनवाई करते हुए यह आदेश दिया। पूर्व सांसद और बिहार का यह बाहुबली इस समय सीवान की जेल में बंद है।

तेजाब कांड समेत कई मामलों के आरोपी राजद नेता और पूर्व सांसद मोहम्मद शहाबुद्दीन को बुधवार की सुबह सुप्रीम कोर्ट ने दिल्ली के तिहाड़ जेल में शिफ्ट कराने का फैसला सुनाया है। शहाबुद्दीन को सीवान जेल से तिहाड़ जेल भेजने की मांग करने वाली कई याचिकाओं पर सभी पक्षों की दलीलें सुनने के बाद सुप्रीम कोर्ट ने 17 जनवरी को फैसला सुरक्षित रख लिया था। पत्रकार राजदेव रंजन की विधवा आशा रंजन ने शहाबुद्दीन से अपनी जान पर खतरा बताते हुए उनको तिहाड़ जेल (दिल्ली) भेजने का आग्रह सुप्रीम कोर्ट से किया हुआ है। सीबीआई, शहाबुद्दीन को तिहाड़ जेल भेजने पर अपनी सहमति जता चुकी है। सरकार भी कह चुकी है कि शहाबुद्दीन को कहीं के भी जेल में रखने पर उसे कोई आपत्ति नहीं है। पूर्व सांसद शहाबुद्दीन फिलहाल सीवान जेल में हैं।मगर जल्द ही उसे तिहाड़ जेल में शिफ्ट किया जाएगा।

प्रिंस सुजीत और शशिकांत सिंह की रिपोर्ट.

कृपया हमें अनुसरण करें और हमें पसंद करें:

दैनिक जागरण के पत्रकार की उसकी प्रेमिका ने ही हत्या करा दी!

झारखंड में मिला पत्रकार का शव, हत्या की आशंका, पिता का आरोप- करीबी महिला मित्र ने अपहरण कर कराई हत्या, जहर से मौत होने की हुई पुष्टि

हजारीबाग : झारखंड के हजारीबाग में एनएच 100 पर रेलवे ओवरब्रिज के समीप दैनिक जागरण के पत्रकार 28 वर्षीय हरि प्रकाश का शव सोमवार को संदिग्ध अवस्था में बरामद किया गया। परिजनों के आवेदन पर हरि प्रकाश की महिला मित्र प्रीति अग्रवाल व प्रीति के सहयोगियों के खिलाफ हत्या की प्राथमिकी दर्ज की गई है। शव के पास से पुलिस ने एक सुसाइड नोट भी बरामद किया है, जिसमें उन्होंने महिला मित्र पर प्रताड़ित करने के गंभीर आरोप लगाए हैं।

एसपी भीमसेन टुटी ने मामले की जांच डीएसपी स्तर के पदाधिकारी से कराने व उसका बिसरा एफएसएल जांच के लिए भेजने की बात कही है। हरि के पिता जीतन महतो ने पुलिस को दिए आवेदन में आरोप लगाया है कि उनके पुत्र का अपहरण कर करीबी महिला मित्र प्रीति अग्रवाल ने हत्या कराई है। प्रीति सदर अस्पताल में गुप्त रोग विभाग में बतौर सहायक कार्यरत है।

महतो ने कहा कि हरि प्रकाश ने घर में अपनी जान को खतरा बताया था तथा महिला मित्र द्वारा एचआइवी का इंजेक्शन लगाने की आशंका भी व्यक्त की थी। हत्या की आशंका को लेकर मेडिकल बोर्ड का गठन कर पोस्टमार्टम कराया गया। चिकित्सकों ने उसकी मौत जहर से होने की बात कही है। हरि प्रकाश 30 दिसंबर से गायब थे। इस बीच प्रीति अग्रवाल दो दिनों की छुट्टी लेकर ऑफिस से निकल गई हैं। इस पूरे मामले में पुलिस अभी कुछ भी स्पष्ट नहीं कह रही है। सुसाइड नोट के आधार भी वो पूरे मामले की जांच में जुटी है।

कृपया हमें अनुसरण करें और हमें पसंद करें:

खुलासा : ठेकेदारी करने वाले टीवी पत्रकार को रंगदारी न देने पर नक्सलियों ने मार डाला

झारखंड के चतरा में ताजा टीवी के पत्रकार इंद्रदेव यादव उर्फ अखिलेश प्रताप सिंह हत्याकांड का खुलासा पुलिस ने कर दिया. चतरा एसपी अंजनी झा ने बताया कि पत्रकार हत्याकांड में छह लोग शामिल थे. इनमें से तीन को गिरफ्तार कर लिया गया है. फिलहाल फरार तीन आरोपियों की गिरफ्तारी के लिए भी तलाश अभियान जारी है. फरार आरोपियों में एक स्थानीय विधायक का प्रतिनिधि भी शामिल है. यह तीनों नक्सली संगठन टीपीसी यानी तृतीय प्रस्तुति कमेटी से जुड़े हुए हैं.

चतरा पुलिस के मुकाबिक टीवी रिपोर्टर अखिलेश प्रताप सिंह उर्फ इंद्रदेव यादव की हत्या ठेकेदारी से जुड़े होने के कारण की गई. नक्सली उनसे सात लाख रुपए की रंगदारी मांग रहे थे. पैसे देने से मना कर देने पर गोली मारकर उनकी हत्या कर दी गई. एसपी ने उन्होंने बताया कि मारा गया रिपोर्टर ठेकेदारी भी करता था. पुलिस ने गिरफ्तार किए गए तीन लोगों के पास से इस हत्याकांड में इस्तेमाल किए गए हथियार, बाइक और मोबाइल फोन बरामद कर लिए हैं.

उन्होंने कहा कि टीपीसी नक्सली मुकेश गंझू के घर मर्डर का प्लान बना था. मास्टर माइंड गंझू ने ही इसकी सारी प्लानिंग की थी. इस मामले में सिमरिया विधायक के प्रतिनिधि सूरज साव, झमन साव और बीरबल साव को गिरफ्तार किया गया है. वहीं हत्या में शामिल शूटर मुनेश गंझू, मास्टरमाइंड मुकेश गंझू और एक अन्य उग्रवादी अभी भी पुलिस की पकड़ से दूर है. पत्रकार हत्याकांड को लेकर मचे बवाल के इसके बाद थमने के आसार हैं.

मूल खबर….

कृपया हमें अनुसरण करें और हमें पसंद करें:

लखनऊ के दो पत्रकारों सिद्दीकी और परितोष के मारे जाने का असली कारण जानिए और पत्रकारिता में धंधेबाजी से बचिए

लखनऊ : स्‍वतंत्र भारत का मुख्‍य उप सम्‍पादक हुआ करते थे सिद्दीकी। एक बार वे अपने आफिस में रात की पाली में काम कर रहे थे। रात आधी से ज्‍यादा हो गयी थी। पेज छूटना ही था। 15 मिनट का समय था, इसलिए सिद्दीकी बाहर चाय की दुकान की ओर बढ़े। रास्‍ते में नाली के किनारे बैठ कर उन्‍होंने पेशाब करना शुरू किया। अचानक कुछ लोगों ने पीछे से चाकुओं से हमला कर दिया। वार इतना सटीक था कि सिद्दीकी ज्‍यादा चिल्‍ला भी नहीं सके और मौके पर ही ढेर हो गये।

सिद्दीकी उस वक्‍त स्‍वतंत्र भारत में बड़े पद पर थे। इसलिए इस हादसे से पूरा प्रदेश हिल गया। लेकिन जब इस मामले का खुलासा हुआ तो लोग सन्‍न हो गये। पता चला कि सिद्दीकी गर्म-गोश्‍त का धंधा करते थे। लड़कियों को फंसाना और उन्‍हें इधर-उधर भेजना उनका असली धंधा था। पुलिस ने सिद्दीकी की आलमारी पर सैकड़ों लड़कियों की तस्‍वीरें बरामद कीं, जिसमें अधिकांश अश्‍लील थीं। कई फोटो में लड़कियों के साथ कुछ पुरूष भी आपत्तिजनक मुद्रा में मौजूद थे, जससे यह भी नतीजा निकला कि सिद्दीकी लोगों को ब्‍लैकमेल करने का भी धंधा करते थे। कहने की जरूरत नहीं कि लड़कियों को ऐयाशों तक मुहैया कराने का काम अकेले किसी एक आदमी की क्षमता में नहीं थी। जाहिर है कि इसके लिए सिद्दीकी का एक पूरा का पूरा गिरोह भी सक्रिय था।

बहरहाल, पुलिस ने इस मामले में एक वकील एमपी सिंह को गिरफ्तार किया। लेकिन तकनीकी कारणों से एमपी सिंह बरी हो गया। लेकिन बाद में एमपी सिंह ने वकालत और पत्रकारिता का एक नया गठजोड़ बनाया। एक चौ-पतिया अखबार निकला, जिसका नाम था नवरात्रि साप्‍ताहिक। इस अखबार में एमपी सिंह ने कप्‍तान से लेकर डीजीपी तक के साथ अपनी फोटो लगा कर तारीफ करती खबरें छापना शुरू किया। बताया जाता है कि इसके बल पर एमपी सिंह का अखबार दारोगा और सीओ तक पर रुआब गालिब किया करता था। इसी प्रक्रिया में उसकी आमदनी भी बेशुमार थी।

बहरहाल, अभी दो दशक पहले ही परितोष पांडे नामक एक पत्रकार को उसके घर में गोली मार दी गयी। हमले में पारितोष मौके पर ही दम तोड़ गया। जब पुलिस ने छानबीन शुरू की तो पता चला कि परितोष का असली काम पत्रकारिता के नाम पर धौंस-पट्टी जमाना ही था। परितोष को तनख्‍वाह तो बहुत कम मिलती थी, लेकिन उसकी जीवन शैली बेहिसाब खर्चीली थी। किसी ऐयाश को मात करती। पुलिस ने पाया कि परितोष झगड़े की जमीनों पर हाथ रखता था। चूंकि उसके रिश्‍ते पुलिस और प्रशासन से करीब के थे, इसलिए जिस भी जमीन पर परितोष हाथ रख देता था, उस पर कोई और नहीं बालने का साहस कर पाता था। लेकिन आखिर यह कब तक चलता। एक दिन पाप का घड़ा भर गया और जमीन के झगड़े में उसे मौत के घाट उतार दिया गया। वह भी तब जब वह अपने घर में हत्‍यारों के साथ बैठ कर शराब पी रहा था। परितोष के श्‍वसुर लखनऊ के आज अखबार के ब्‍यूरो प्रमुख हुआ करते थे। नाम था राजेंद्र द्विवेदी। शुरुआत में तो पत्रकारिता में यह अफवाह फैली कि परितोष की हत्‍या उसके ससुराल के लोगों ने करायी थी, लेकिन जल्‍दी ही यह कोहरा छंट गया।

कहने की तरूरत नहीं कि इन दोनों ही हादसों में मृतकों ने जिन लोगों पर यकीन किया, उन्‍होंने ही उनका काम-तमाम कर दिया। इन सभी को इन दोनों ने पत्रकार बनाने का ठेका ले रखा था। यानी यह लोग उन बदमाशों को सहयोग करने के लिए उन्‍हें पहले पत्रकार बनाते थे, फिर अपना पत्र‍कार गिरोह का प्रदर्शन करते थे।  लखनऊ के तथाकथित पत्रकार हेमन्‍त तिवारी का नाम ऐसे ही लोगों में से एक है। हेमन्‍त तिवारी ने भी लोगों को पत्रकार ही नहीं, वरिष्‍ठ पत्रकार बनाने की फैक्‍ट्री खोल रखी है।

लेखक कुमार सौवीर लखनऊ के वरिष्ठ और बेबाक पत्रकार हैं.

कृपया हमें अनुसरण करें और हमें पसंद करें:

ब्यूरो चीफ की हत्या से दुखी संपादकीय टीम ने मनाया काला दिवस, ‘हिंदुस्तान’ निकला ब्लैक एंड ह्वाइट

बिहार के सीवान में शुक्रवार शाम अपराधियों ने हिंदुस्तान अखबार के पत्रकार राजदेव रंजन की गोली मारकर हत्या कर दी। पत्रकार राजदेव रंजन को 5 गोली मारी गई। पत्रकार की हत्या के अगले दिन अखबार ने अपना पहला पन्ना ब्लैक एंड वाइट रंग में छापा है। अखबार बिहार में इसे ‘काला दिवस’ के रूप में दिखाया है। पत्रकार राजदेव रंजन की हत्या शादी की सालगिरह से एक दिन पहले की गई। रंजन पर हमला करने वाले 4 की संख्या में थे। पुलिस ने दावा किया है कि इन 4 में से 2 की पहचान कर ली गई है। सीवान के एसपी ने बताया कि पुलिस ने दो लोगों को हिरासत में ले लिया है। राजदेव रंजन को 5 गोलियां लगी जिसमें 1 सिर में और दूसरी गर्दन और 3 पेट में गोली लगी है।

इस हत्या के बाद हर तरफ से विरोध झेल रही राज्य सरकार में शामिल दलों के तरफ से प्रतिक्रियाएं आनी शुरू हो गई हैं। जेडीयू प्रवक्ता अजय आलोक ने कहा, ‘आप जो चाहते हैं कहिए… अपराधियों के खिलाफ कार्रवाई हो रही है और वह जल्द ही पकड़े जाएंगे। राज्य सरकार अपने काम को लेकर प्रतिबद्ध है। 48 घंटे में अपराधी पकड़े जाएंगे। आरजेडी नेता मृत्युंजय तिवारी ने कहा कि सीवान में जो घटना हुई वो दुखद है पर हम आश्वस्त करते हैं कि तुरंत कार्रवाई की जाएगी और दोषियों को बक्शा नहीं जाएगा। उन्होंने कहा कि बीजेपी चिल्ला चिल्ला कर सरकार की छवि खराब कर रही है लेकिन उसके अपने राज्यों राजस्थान, छत्तीसगढ़, मध्य प्रदेश में क्या हुआ?

वहीं राज्य में बीजेपी का बड़ा चेहरा सुशील कुमार मोदी ने नीतीश सरकार पर हमला किया। उन्होंने कहा कि सीवाम शाहबुद्दीन के प्रभाव वाला क्षेत्र है। अभी तक कभी पत्रकारों पर हमला नहीं हुआ लेकिन अब हत्या हो रही है। मनोरमा देवी की गिरफ्तारी हो नहीं रही है और उसके बाद ये घटना हुई है। हम लोग बड़ी मेहनत से लालू जी के 15 साल के जंगलराज से बिहार को वापस लाए थे लेकिन अब लोगों में डर बैठा हुआ है कि कहीं फिर से जंगलराज वापस आ रहा है।

लोकजनशक्ति पार्टी (एलजेपी ) प्रमुख रामविलास पासवान ने कहा कि हम लोग तीन महीने से बिहार में राष्ट्रपति शासन की मांग कर रहे हैं। जब गया में आदित्य की हत्या हुई तो हमने सीबीआई जांच की मांग की थी और राष्ट्रपति को चिट्ठी लिखी थी। चिराग राष्ट्रपति से मिलने गए थे। हम इस सीवान की घटना की भी सीबीआई जांच की मांग कर रहे हैं और मांग कर रहे हैं कि बिहार में अब बिना बिलंब किए राष्ट्रपति शासन लगाया जाए। केंद्रीय मंत्री राजीव प्रताप रूडी ने कहा कि नीतीश लालू दोनों चुप हैं। बीजेपी उनसे सवाल पूछती है कि आखिर कब तक वो ऐसे चुप रहेंगे? गिरिराज सिंह ने कहा कि नीतीश पहले बिहार संभालें फिर प्रधानमंत्री बनने का सपना देखें। तेजस्वी यादव गया में एक व्यक्ति की हत्या होती है तो उसे पठानकोट में हुए आतंकी हमले से जोड़ रहे हैं। अंधेर नगरी चौपट राजा और अब सीवान में पत्रकार की हत्या हो गई है।

इस बीच, नेशनल यूनियन ऑफ जर्नलिस्ट्स (इंडिया) ने बिहार के सीवान में दैनिक हिन्दुस्तान के पत्रकार राजदेव रंजन की हत्या की कड़ी निंदा की है। झारखंड के चतरा और बिहार में पत्रकारों की हत्या के खिलाफ एनयूजे और दिल्ली पत्रकार संघ की तरफ से केंद्रीय गृह मंत्री के आवास पर प्रदर्शन किया जाएगा। एनयूजे ने रंजन की हत्या में बिहार के एक माफिया सरगना के गुर्गों पर शक जताया है। अक्टूबर 2005 में भी रंजन पर अखबार के दफ्तर में घुसकर हमला किया गया था। एनयूजे ने पत्रकार के परिजनों को 20 लाख रुपए मुआवजा देने की मांग भी की है।

एनयूजे के अध्यक्ष रासबिहारी ने बताया कि बेखौफ अपराधियों ने 13 मई की रात को सीवान में हिन्दुस्तान के ब्यूरो चीफ पत्रकार राजदेव रंजन की गोली मारकर हत्या कर दी। उन्हें करीब से गोली मारी गई। रंजन कार्यालय से वापस लौट रहे थे। रात आठ बजे के करीब टाउन थाना क्षेत्र के ओवरब्रिज के समीप अज्ञात अपराधियों ने उन्हें गोली मार दी। अपराधी मोटरसाइकिल पर थे और घटना को अंजाम देकर भागने में कामयाब रहे। एक गोली उनके सिर और दूसरी गर्दन में लगी। गंभीर रूप से जख्मी राजदेव रंजन को पुलिस अस्पताल ले गई, लेकिन रास्ते में ही उनकी मौत गई। 46 वर्षीय राजदेव रंजन सीवान के महादेवा मिशन कंपाउंड मोहल्ले में रहते थे। उन्होंने कहा कि इससे एक दिन पहले अपराधियों ने झारखंड के चतरा में पत्रकार इंद्रदेव यादव की ताबड़तोड़ गोलियां मारकर हत्या कर दी थी।

रासबिहारी ने बताया कि इंटरनेशनल फेडरेशन ऑफ जर्नलिस्ट्स ने भी पत्रकारों की हत्या को गंभीरता से लिया है। आईएफजे की तरफ से कहा गया है कि मीडिया के लिए भारत पहले ही असुरक्षित माना जाता है। इन हत्याओं से मीडिया में दहशत व्याप्त है। आईएफजे की तरफ से भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को दक्षिण एशिया के पत्रकार संगठनों की तरफ से पत्र भेजा जाएगा। एनयूजे के महासचिव रतन दीक्षित ने पत्रकारों की हत्या के खिलाफ बड़े पैमाने पर आन्दोलन करने की चेतावनी दी है। उन्होंने कहा कि पिछले साल देश में आठ पत्रकारों की हत्या हुई थी और 120 से ज्यादा हमले हुए थे। पत्रकारों की हत्या के लिए जिम्मेदार लोगों की तुरंत गिरफ्तार कारणों का खुलासा किया जाए। एनयूजे बिहार के महासचिव राकेश प्रबीर ने कहा कि राज्य में विधानसभा चुनाव के दौरान भी दो पत्रकारों की हत्या हुई थी। पत्रकारों की हत्या के बाद बिहार की मीडिया में खौफ पैदा हो गया है। उन्होंने कहा कि रंजन की हत्या के बाद पुलिस अपराधियों को पकड़ने के लिए कोई तत्परता नहीं दिखा रही है। घटना के विरोध में बिहार में जगह-जगह प्रदर्शन किए जा रहे हैं।

एनयूजे से संबद्ध दिल्ली पत्रकार संघ (डीजेए) के अध्यक्ष अनिल पांडेय और महासचिव आनंद राणा ने कहा कि झारखंड और बिहार में पत्रकारों ही हत्या के खिलाफ मीडिया जगत में भारी नाराजगी है। इससे पहले फरीदाबाद में महिला पत्रकार की रहस्यमय हालात में मौत हो गई थी। उन्होंने कहा कि पत्रकारों की हत्या के खिलाफ केंद्रीय गृह मंत्री राजनाथ सिंह के आवास पर प्रदर्शन किया जाएगा। साथ ही प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को भी ज्ञापन दिया जाएगा।

बिहार के सीवान जिले में हिन्दी दैनिक हिन्दुस्तान के ब्यूरो चीफ राजदेव रंजन की नृशंस हत्या की इंडियन फेडरेशन आफ वर्किंग जर्नलिस्ट (आईएफडब्लूजे) ने कड़े शब्दों में निंदा की है। आईएफडब्लूजे के राष्ट्रीय महासचिव परमानंद पाडे व उपाध्यक्ष हेमंत तिवारी ने एक साझा बयान में बिहार में पत्रकार की दिन-दहाड़े हत्या पर रोष जताते हुए कहा है कि इस घटना से यह साफ हो गया है कि राज्य में कानून का राज धवस्त हो गया है। उन्होंने कहा कि हाल के कुछ दिनों में पत्रकारों पर बढ़ते हमलों की घटनाओं से भी सरकारों ने कोई सबक नही सीखा है। आईएफडब्लूजे ने बिहार के मुख्यमंत्री नितीश कुमार से अपराधियों के तुरंत गिरफ्तारी की मांग करते हुए राज्य में पत्रकारों की सुरक्षा के लिए कड़े कदम उठाने को कहा है। हेमंत तिवारी ने राजरंजन देव के परिवार को २५ लाख रुपये की सहायता पर परिवार के एक सदस्य को नौकरी देने की मांग की है।

The Indian Federation of Working Journalist (IFWJ) has strongly condemned the brutal killing of a journalist in Bihar on Friday. The Bureau Chief of Siwan district, Bihar, Raj Ranjan Dev was sprayed with bullets by miscreants in daylight on Friday. The National Secretary General of IFWJ, Parmanand Pandey and National Vice-President Hemant Tiwari in a joint statement said that the gory killing of journalist in Bihar has exposed the law and order situation in the state. Expressing concern over the growing attacks and killing of scribe in the country IFWJ office-bearers said that it seems government has not learnt any lesson from it. Demanding immediate arrest of culprits, IFWJ office-bearers said that strict measures should be taken to ensure safety and security of journalists. Hemant Tiwari has demanded compensation of Rs 25 lakh to the family of slain journalist and government job of the kin.

अब राजदेव नहीं रहे, टारगेट में कलमकार

योगेश मिश्रा, छत्तीसगढ़
yogeshmishra333@gmail.com

तो सुन लीजिये, एक और कलमकार की साँसे बन्द कर दी हैं, बिहार के किसी हत्यारे ने, एक बार फ़िर एक पत्रकार का परिवार छाती पीट रहा है, एक बार फ़िर एक चौथे खंभे का एक हिस्सा ख़तम कर दिया गया है। दुःखद ख़बर है, कि नितिशराज बिहार के सीवान में दैनिक अख़बार हिन्दुस्तान के ब्यूरो चीफ राजदेव रंजन की गोली मारकर हत्या कर दी गई है, बिहार के सीवान में नगर थाने के स्टेशन रोड स्थित फल मंडी के पास बाइक सवार अपराधियों ने शुक्रवार की देर शाम लगभग आठ बजे दैनिक अखबार के ब्यूरो प्रभारी राजदेव रंजन की गोली मार कर हत्या कर दी।

गत दिनों गुरूवार को झारखंड के चतरा के पत्रकार इंद्रदेव यादव की भी हत्या कर दी गई थी, इन घटनाओं के बाद हमेशा की तरह फ़िर से पत्रकारों की सुरक्षा पर सवाल खड़ा होना लाज़मी है, बिहार की इस घटना पर अभी से विभिन्न पत्रकार संगठनों ने सरकार के ख़िलाफ़ भौहें ताननी भी शुरु कर दी हैं, हो सकता है कल विभिन्न राष्ट्रीय पत्रकार संगठन अपने अपने प्रदेशों में शासन से एक बार फ़िर पत्रकारों की सुरक्षा, पत्रकारों की जान बचाने वाले कानून के मसौदे को हरी झंडी दिखाने की अर्ज़ी लगाते दिख जाये, ये होता आया है, होना भी चाहिए, पर क्या सिर्फ़ ज्ञापन और विज्ञापनों की दुनिया में खबरें ढूंढने वाले हमारी पत्रकार बिरादरी ज्ञापन-ज्ञापन खेलती रहेगी? बिहार में हुए पत्रकार की हत्या के मामले में आगे जो भी पहलू आये, पर इतना तो तय है कि देश के विभिन्न राज्यों में पत्रकारों की हालत बेहद चिंताजनक है, एक सर्वे की मानें तो बिहार, उत्तरप्रदेश, मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़, ओड़िसा समेत अनेक राज्यों में लगभग हर महीने पत्रकारों से दुर्भावना, मारपीट की ख़बरें आती रहीं हैं, बाक़ायदा प्रेस काउंसिल ने इस विषय में कई बार ‘घुड़की’ भी दी है, पर फ़िर भी पत्रकारों के साथ हमले, उनकी हत्या जैसे संगीन अपराधों का ग्राफ बढ़ता ही जा रहा है।

मीडिया24न्यूज़ एजेंसी की जर्नलिस्ट टीम के सर्वे ये भी बतलाते हैं कि कई प्रदेशों के ग्रामीण इलाकों में तो पत्रकारों से दुर्भावना, मारपीट आम बात है, बल्कि हैरत की बात ये भी है कि ऐसे मामले सामने नहीं आ पाते, और लोकल स्तर पर रहने वाला पत्रकार हमला करने वाले शख़्स की शिकायत करने को ‘जल में रहकर मगर से बैर’ सा लेता है। उत्तर प्रदेश के शाहजहांपुर में पत्रकार को जिंदा जलाने के मामले में तो सुप्रीम कोर्ट को दख़ल देना पड़ा है, बीते साल जुलाई में देश की आर्थिक राजधानी मुम्बई में बीयर बार वालों ने राघवेंद्र नामक पत्रकार की बेदर्दी से हत्या कर दी थी, मध्यप्रदेश में व्यापम मामले की रिपोर्टिंग करने गए टीवी पत्रकार की मौत पर कोहराम मचा ही था, मध्यप्रदेश में खनन माफियाओं का तो अफसरों, पत्रकारों पर वाहन चढ़ा देना आम घटना बनती दिखी गई, छग में बस्तर के पत्रकार बस्तर से दिल्ली तक पत्रकारों के उत्पीड़न के मसले पर हुंकार भर रहे हैं, काफ़ी देर से रायपुर के आउटर में होने के कारण राजदेव की मौत पर चैनलों के स्लॉट, हेडलाइंस नहीं देख पाया हूँ, पर अगर अपनी बिरादरी के एक भाई की मौत पर फ़िर हम न्याय नहीं दिला पाये, जवाबदारों के हलफ़ से जवाब नहीं निकलवा पाये, तो हमें अपने आप पर शर्म आनी ही चाहिये, और खुदकी सुरक्षा ही ना कर पाने के बाद हम आमलोगों को ढांढस बांधें, तो ये बेमानी होगी।

कृपया हमें अनुसरण करें और हमें पसंद करें:

झारखंड में टीवी पत्रकार तो अब बिहार में हिंदुस्तान अखबार के ब्यूरो चीफ की हत्या

बिहार के सिवान में हिंदुस्तान अख़बार के ब्यूरो चीफ़ राजदेव रंजन की शुक्रवार देर शाम गोली मारकर हत्या कर दी गई. सिवान के पुलिस अधीक्षक सौरभ कुमार साह का कहना है कि पत्रकार को एक रेलवे पुल के पास पत्रकार को दो गोलियां मारी गई हैं. उनकी मौके पर ही मौत हो गई. हमलावर मोटरसाइकिल पर आए थे. उनकी संख्या अभी स्पष्ट नहीं है लेकिन हम ये मान कर चल रहे हैं कि हमलावर दो या तीन हो सकते हैं.

 

उन्होंने बताया कि मृतक पत्रकार राजदेव रंजन के परिजन अभी बयान देने की स्थिति में नहीं हैं. परिजनों के बयान लेकर ही आगे की कार्रवाई की जाएगी. फिलहाल पुलिस हत्यारों की तलाश में जुटी है. भाजपा के राष्ट्रीय प्रवक्ता और बिहार के नेता शाहनवाज़ हुसैन ने ट्वीट किया, “राजदेव रंजन निर्भीक होकर लिखने वाले पत्रकार थे। बहुत दुख हुआ सुनकर कि उनकी हत्या कर दी गई.” शाहनवाज़ ने इसके बाद दो ट्वीट और किए, “यह जंगल राज नहीं, महा जंगल राज है.” उन्होंने आगे लिखा है, “सिवान के हिन्दुस्तान अखबार के ब्यूरो चीफ राजदेव रंजन की हत्या। नीतीश बनारस घूम रहे हैं और बिहार में लोकतंत्र का चौथा स्तंभ खतरे में है.”

ज्ञात हो कि इसके पहले झारखंड के चतरा जिले में गुरुवार रात को अज्ञात हमलावरों ने एक टीवी पत्रकार की गोली मारकर हत्या कर दी। पुलिस के मुताबिक, मोटरसाइकिल पर सवार हमलावरों ने गुरुवार रात को छतरा के पत्रकार इंद्रदेव यादव पर चार बार गोलियां दागीं, और उनकी घटनास्थल पर ही मौत हो गई। हमला उस समय हुआ, जब इंद्रदेव यादव काम के बाद घर लौट रहे थे। इंद्रदेव एक स्थानीय समाचार चैनल में संवाददाता थे। झारखंड पत्रकार संघ (जेएए) और पत्रकार बिहार मंच एवं अन्य मीडिया संघों ने इस घटना की निंदा की है। जेएए ने आरोपियों की गिरफ्तारी की मांग करते हुए यादव के परिवार के लिए 50 लाख रुपये की आर्थिक मदद की मांग भी की है।

कृपया हमें अनुसरण करें और हमें पसंद करें:

रइसजादों ने छोटी सी बात पर दिल्ली में टीवी पत्रकार हरदीप की हत्या कर दी

रइसजादों ने दिल्ली में एक टीवी पत्रकार की जान ले ली. एक न्यूज चैनल में काम करने वाला हरदीप अपने घर में दोस्तों के साथ बैठा हुआ था. उसके फ्लैट के नीचे एक रईसजादे का जिम था. जिम में शराब की पार्टी चल रही थी, तेज म्यूजिक बज रहा था. हरदीप ने नीचे पार्टी कर रहे लोगों से शोर न करने का निवदेन किया तो रईसजादे को ये बात बर्दाश्त नहीं हुई और उसने पत्रकार को गोली मार दी.

ये घटना दिल्ली के पॉश वसंत कुंज इलाके की है. वारदात रविवार की है. 30 साल का हरदीप कई न्यूज चैनलों में काम कर चुका था और माता-पिता का इकलौता बेटा था. हरदीप के घर के नीचे रिंकू नाम के शख्स का जिम है और उसी के जिम में रात को लगभग साढ़े दस बजे शराब पार्टी चल रही थी. हरदीप ने जब रिंकू को शोर-शराबा न करने के लिए कहा तो पहले तो उसने हरदीप के साथ गाली-गलौच किया. उसके बाद हरदीप वापस अपने कमरे में आ गया.

कुछ देर बाद रिंकू बंदूक ताने हरदीप के कमरे में पहुंच गया और मारपीट करने के बाद उसे गोली मार दी. इसके बाद रिंकू वहां मौजूद हरदीप के दोस्तों को धमका बंदूक लहराता हुआ चला गया. हरदीप के दोस्तों ने 100 नंबर पर कॉल की, लेकिन पुलिस पहुंची नहीं. दोस्त उन्हें ऑटो में बैठाकर सफदरजंग अस्पताल ले गए और अस्पताल पहुंचने के कुछ देर बाद ही हरदीप ने दम तोड़ दिया. हरदीप का परिवार हरियाणा के कैथल में रहता है. पुलिस ने हत्या का मामला तो दर्ज कर लिया है, लेकिन अभी तक आरोपी रिंकू की गिरफ्तारी नहीं हो पाई है.

कृपया हमें अनुसरण करें और हमें पसंद करें:

No one killed cartoonist Irfan Hussain!

Sanjaya Kumar Singh : पुलिस ऐसे सुलझाती है मामले और ऐसे होते हैं उसके सबूत। ‘आउटलुक’ के कार्टूनिस्ट इरफान हुसैन की हत्या दिल्ली-गाजियाबाद सीमा पर मार्च 1999 में हो गई थी। पुलिस पर इस मामले को सुलझाने का भारी दबाव था और उसने इस मामले को ‘सुलझा’ भी लिया था। अब पढ़िए कि कैसे सुलझाया था और अदालत में कथित हत्यारे साफ बच निकले क्योंकि पुलिस ने उन्हें फंसा दिया था। जब असली हत्यारों को ढूंढ़ने की बात हुई तो हत्या के कई साल गुजर चुके थे। कुल मिलाकर, हत्या तो हुई पर पुलिस के ढूंढ़े ‘हत्यारे’ ऐसे बच गए जैसे हत्या हुई ही नहीं। पुलिस में किन लोगों ने लापरवाही की या जानबूझकर यह सब किया उसका भी कुछ पता नहीं चला। पढ़िए पेरी महेश्वर की आंख खोलने वाली पोस्ट…

Peri Maheshwer : What I am about to say is chilling. But it happened. And I was a mute spectator. This is also the reason I speak up most vehemently against probable innocents being charged. In 1999, one of the finest cartoonists of this country was working at Outlook. His name was Irfan Hussain. He was shy, perceptive and a master at his work. His cartoons used to hit people where it hurts. And because of his mastery, he was under constant threat. And one such threat was very credible that we reported to police too. And within a couple of months, in March 199, he was murdered.

The police was under tremendous pressure from the journalist community. The President, the Prime Minister(Mr.Vajpayee) and every one in power was beseeched to get justice for Irfan’s family. By the end of 1999, the police arrested 5 accused and charged them for carjacking and murder. Atleast 2 of them were from Anantnag in Srinagar. Charges were framed in 2001. After due process, the trial started in 2006. And once the trial started, the police conspiracy became clear. They had identified 5 carjackers from different places already facing trial in similar car jacking cases and charged them for Irfan’s murder too. What was a political murder became a case of carjacking and murder. The charge sheet was so frivolous that they talked of 28 stab wounds inflicted on Irfan during the car jacking. However, when the clothes were produced, there wasn’t a single blood stain on them! It is as if they disrobed him, stabbed him and put the clothes back on him. While acquitting the accused, the court said “looks like another story directly lifted either from a story book or from screen play of a movie,” said the court. The police knew what they did so much that they decided not to appeal the acquittal.

Completely depressed and disgusted, we moved the court to order a re-investigation, which was declined as no evidence would exist after 10 years. However In 2009, the court ordered a probe into the investigation to fix responsibility within the police for the botch up. To summarise, five supposedly innocent young men were arrested by police. The judiciary took seven years to acquit them. They spent seven years of their prime years in prison. Somewhere in India, Irfan’s killers are alive and laughing. The political masters of the killers got rid of Irfan and continue to loot. And the police continues to do what it does best. Irfan is dead. And no one killed Irfan!

वरिष्ठ पत्रकार संजय कुमार सिंह और पेरी महेश्वर के फेसबुक वॉल से.

कृपया हमें अनुसरण करें और हमें पसंद करें:

खनन, खबर और पैसे का जानलेवा काकटेल : हत्या से पहले दो बार पत्रकार करुण को समझाने की कोशिश की गई थी!

सुल्तानपुर : पांच दिन पूर्व दिनदहाड़े गोली मारकर की गई पत्रकार की हत्या मिट्टी के अवैध खनन और पैसे के लेन-देन में हुई थी। इसके लिए भाड़े के शूटर का इस्तेमाल किया गया था। एसटीएफ और जिले की पुलिस ने हत्या में शामिल मुख्य साजिशकर्ता समेत पांच लोगों को गिरफ्तार कर मामले का खुलासा कर दिया। पत्रकार की हत्या करने वाले शूटर समेत दो आरोपियों की गिरफ्तारी के लिए पुलिस प्रयास में जुटी है। आईजी जोन लखनऊ ए सतीश गणेश ने बृहस्पतिवार को पुलिस लाइंस सभागार में घटना का खुलासा किया। अंबेडकरनगर जिले के हंसवर के तरौली मुबारकपुर गांव निवासी करुण मिश्र लखनऊ से प्रकाशित एक हिंदी दैनिक के ब्यूरो चीफ थे।

बीते 13 फरवरी की सुबह करीब नौ बजे करुण अपने बुआ के बेटे अभिषेक दीक्षित पुत्र गोविंद प्रसाद निवासी रामनगर कोट के साथ कार से अंबेडकरनगर जा रहे थे। रास्ते में गोसाईगंज थाना क्षेत्र के इनायतपुर के पास बाइक सवार तीन युवकों ने गोली मारकर करुण की हत्या कर दी थी। हत्या में शामिल राहुल सिंह निवासी इमिलिया कला, पवन सिंह निवासी रामनगर कोट, संदीप सिंह निवासी माल्हा थाना कोतवालीनगर, अजय सिंह निवासी कादीपुर, हैदर अब्बास उर्फ गब्बर निवासी मनियारपुर थाना कुड़वार को गिरफ्तार कर हत्या में प्रयुक्त नाइन एमएम पिस्टल और दो तमंचा समेत 20 हजार रुपये नगद बरामद कर लिया।

आईजी जोन लखनऊ ए सतीश गणेश ने बताया कि राहुल सिंह मिट्टी के अवैध खनन के कारोबार में लिप्त है। अवैध खनन के कारोबार के लिए राहुल ने दो जेसीबी व कई ट्रैक्टर बैंक से फाइनेंस कराया था। पत्रकार करुण मिश्र ने जिला प्रशासन व स्थानीय कुड़वार पुलिस की मदद से राहुल सिंह की खनन में प्रयुक्त जेसीबी व ट्रैक्टर को सीज करा दिया था। राहुल ने कुछ धनराशि करुण को दी थी। बाद में पैसे को लेकर पत्रकार और राहुल के बीच दूरियां बढ़ गईं। राहुल के खनन कार्य बंद होने से राहुल को बैंक से फाइनेंस जेसीबी और ट्रैक्टर की किस्त देने में परेशानी होने लगी। इस दौरान करुण का संदीप सिंह से भी विवाद हो गया।

संदीप सिंह को करुण ने किसी फर्जी मुकदमें में फंसाने की धमकी दी थी। इससे संदीप भी करुण से रंजिश रख रहा था। राहुल ने करुण को रास्ते से हटाने के लिए संदीप से संपर्क किया और उसे एक लाख रुपये की सुपारी दी। सुपारी लेने के बाद संदीप ने ही भाड़े के शूटर मामा से संपर्क साधा। करुण की हत्या से पूर्व 11 और 12 फरवरी को मामा, अमन सिंह, संदीप सिंह हैदर अब्बास ने रेकी की थी। 13 फरवरी को करुण की हत्या की प्लानिंग के तहत विवेकनगर चौराहे से दो मोटर साइकिलों पर पांच लोग बैठकर करुण की कार का पीछा करते हुए इनायतनगर के पास पहुंचे थे।

अवैध खनन का काम बंद होने से तिलमिलाए राहुल सिंह ने करुण की हत्या से पहले उसे दो बार समझाने की कोशिश की थी। करुण के न मानने पर उसे जान से मारने की धमकी भी दी थी। पुलिस हिरासत में पकड़े गए आरोपी राहुल ने बताया कि पांच फरवरी को वह और पवन सिंह व संदीप सिंह करुण से मिलने अंबेडकरनगर गए थे लेकिन करुण ने उनसे मिलने से इंकार कर दिया था। करुण की हत्या के वक्त कार चला रहे रिश्तेदार अभिषेक दीक्षित की भूमिका की जांच चल रही है। आईजी ने बताया कि हत्या के दिन 12.28 मिनट पर अभिषेक के मोबाइल पर राहुल सिंह ने फोन किया था। राहुल ने अभिषेक से कहा था कि मृतक के घर और आस-पास नजर रखे कि हत्या में किसका नाम आ रहा है।

आईजी ए सतीश गणेश ने पत्रकार करुण मिश्र की हत्या के पीछे अवैध खनन के काले कारोबार को माना है। आईजी ने कहा कि अवैध खनन क्यों, कहां और कैसे हो रहा है, ये अनुत्तरित प्रश्न है। उन्होंने कहा कि अवैध खनन न होता तो पत्रकार की हत्या न होती। आईजी जोन ए सतीश गणेश ने कहा कि पांच दिन में हत्या का खुलासा करने में एसटीएफ के एएसपी रसीद खां, जिले के स्वॉट/ सर्विलांस सेल प्रभारी अजय प्रताप सिंह, नगर कोतवाल वीपी सिंह, एसआई शिव प्रकाश सिंह, एसओ गोसाईगंज देवेश कुमार सिंह, सिपाही प्रवेश कुमार व अनुराग की अहम भूमिका है।  आईजी जोन ने बताया कि गिरफ्तार किए गए संदीप सिंह पर सुल्तानपुर, आजमगढ़, फैजाबाद में हत्या, हत्या के प्रयास व गैंगदस्टर से संबंधित कुल नौ मुकदमें दर्ज हैं। अभियुक्त अमन के खिलाफ तीन जिलों में सात मुकदमें, पवन कुमार सिंह के खिलाफ छह और अजय सिंह के विरुद्घ दो मुकदमें पंजीकृत हैं।

कृपया हमें अनुसरण करें और हमें पसंद करें:

‘मैं पत्रकार हूं, तुम लोगों को पकड़वा दूंगा’ कहने पर बदमाशों ने राजेन्द्र काण्डपाल की हत्या कर दी थी

गाज़ियाबाद। पिछले साल मार्च में पत्रकार राजेन्द्र काण्डपाल की हत्या का खुलासा करते हुए थाना इंदिरापुरम पुलिस ने जयपुरिया मॉल बीकानेर रेस्टोरेंट के सामने से एक बदमाश हसमुददीन (पुत्र कमरूददीन निवासी ग्राम कल्लूगढ़ी नई मस्जिद के सामने डासना थाना मसूरी जनपद गाज़ियाबाद) को गिरफ्तार किया है। इसके कब्जे से थाना इन्दिरापुरम से संबंधित मृतक राजेन्द्र काण्डपाल से लूटा गया सैमसंग का टैब बरामद हुआ।

पूछताछ पर उक्त बदमाश ने बताया कि यह मोबाइल फोन मैंने लालच में आकर इरफान, युसुफ, शाहरूख, सुशील उर्फ सुनील से लिया था. यह सभी शातिर किस्म के बदमाश हैं जो रात्रि मे ऑटो में अकेली सवारी को बैठाकर उनके साथ लूटपाट करते हैं. सवारी के विरोध करने पर उसे जान से मारकर हत्या कर देते थे. यह मोबाइल फोन भी एक व्यक्ति से करीब 11 माह पूर्व यूपी गेट से बैठाकर रास्ते में उससे लूट लिया था. जब राजेन्द्र काण्डपाल ने लूट का विरोध किया तथा बताया कि मैं पत्रकार हूँ और तुम लोगों को पकड़वा दूँगा तब इन्हीं बदमाशों ने उसकी गला दबाकर हत्या कर दी थी तथा शव को सेक्टर 5 व 6 वैशाली की ग्रीन बैल्ट मे फेंक दिया था. बदमाश इरफान, युसुफ, शाहरूख, सुशील उर्फ सुनील जो इस समय थाना गलशहीद जनपद मुरादाबाद से 17 ऑटो लूट के साथ पकड़े गये थे तथा वर्तमान समय में जिला कारागार मुरादाबाद मे निरुद्ध हैं.

कृपया हमें अनुसरण करें और हमें पसंद करें:

दैनिक जागरण प्रबंधन की प्रताड़ना से परेशान और मजीठिया वेज बोर्ड न मिलने से दुखी मीडियाकर्मी ने आत्महत्या की

लुधियाना से एक बुरी खबर आ रही है. पता चला है कि दो दशक से ज्यादा समय से दैनिक जागरण के साथ कार्यरत मीडियाकर्मी अतुल सक्सेना ने आत्महत्या कर लिया है. कुछ लोग यह भी कह रहे हैं कि उन्हें जहर देकर मारा गया है क्योंकि उन्होंने मजीठिया वेज बोर्ड का केस वापस लेने के प्रबंधन के दबाव में आने से इनकार कर दिया था. अतुल ने मजीठिया वेज बोर्ड का हक पाने के लिए सुप्रीम कोर्ट में केस कर रखा था और इस मामले में फैसला आने में हो रही देरी से दुखी थे. उन पर दैनिक जागरण प्रबंधन लगातार दबाव बनाए हुए था कि वह केस वापस लें अन्यथा उनका दूरदराज तबादला कर दिया जाएगा.

अतुल दैनिक जागरण लुधियाना में दो दशक से ज्यादा समय से पीटीएस डिपार्टमेंट में कार्यरत थे. अतुल की पूरी गृहस्थी लुधियाना में सेटल है. उनकी पत्नी म्यूजिक टीचर के रूप में शहर के एक स्कूल में कार्यरत हैं. जागरण प्रबंधन के लगातार दबाव बनाने और मजीठिया वेज बोर्ड के तहत लाभ न दिए जाने से दुखी अतुल सक्सेना करीब पंद्रह दिनों से घर बैठे हुए थे. वे प्रबंधन के दबाव व प्रताड़ना से बेहद परेशान और डरे हुए थे. बताया जाता है कि उन्होंने कल घरवालों से कहा था कि वह अगले दिन यानि आज दैनिक जागरण आफिस जाकर इस्तीफा दे देंगे. उनकी पत्नी रोजाना की तरह आज स्कूल पढ़ाने चली गई थीं. जब वह शाम को लौटीं थी अतुल सक्सेना बेहोश हालत में मिले.

उन्हें तुरंत दयानंद मेडिकल कालेज ले जाया गया जहां डाक्टर उन्हें बचा नहीं सके. उन्हें जहर देकर मारा गया या उन्होंने खुद जहर खाया, यह पता नहीं चल पाया है. उनकी बाडी को फिलहाल मेडिकल कालेज के पोस्टमार्टम हाउस में रखा गया है. दैनिक जागरण प्रबंधन के लोग इस मामले में लीपापोती के लिए सक्रिय हो चुके हैं. वहीं दैनिक जागरण कर्मियों की यूनियन के लोग भी अतुल सक्सेना के घर के लिए रवाना हो चुके हैं. मीडिया एक्टिविस्ट और पत्रकार अभिषेक श्रीवास्तव भी दिल्ली से लुधियाना के लिए चल चुके हैं. अभिषेक ने बताया कि अभी तक जो जानकारी मिल रही है उसके मुताबिक ये सारा मामला पुलिस केस का है. इस आत्महत्या या हत्या जो भी है, के लिए पूरी तरह दैनिक जागरण प्रबंधन जिम्मेदार है.

ज्ञात हो कि दैनिक जागरण प्रबंधन ने हरियाणा, पंजाब और दिल्ली-नोएडा के सैकड़ों मीडियाकर्मियों को नौकरी से इसलिए बर्खास्त कर दिया है क्योंकि उन्होंने मजीठिया वेज बोर्ड के तहत सेलरी व अन्य लाभ पाने के लिए सुप्रीम कोर्ट में मानहानि का केस कर रखा है. दर्जनों ऐसे लोग जो अब भी जागरण में नौकरी कर रहे हैं, उन्हें केस वापस लेने हेतु प्रबंधन के बनाए फार्मेट पर हस्ताक्षर करने या फिर तबादले जैसी प्रताड़ना झेलने को मजबूर होना पड़ रहा है. इसी किस्म की प्रताड़ना अतुल सक्सेना झेल रहे थे. वह अत्यधिक दबाव, प्रताड़ना, उपेक्षा और अलगाव झेल नहीं पाए.

दैनिक जागरण लुधियाना के मीडियाकर्मियों का कहना है कि इस खून के लिए पूरी तरह दैनिक जागरण प्रबंधन जिम्मेदार है. दैनिक जागरण कर्मचारी यूनियन के लोग जल्द इस पूरे प्रकरण पर अपनी जांच रिपोर्ट जारी करने वाले हैं और आगे की कार्रवाई का ऐलान करने वाले हैं.

इसे भी पढ़ें :

अतुल सक्सेना के खून के छींटे जागरण के मालिकों के माथे से लेकर सुप्रीम कोर्ट के न्याय के तराजू और नरेंद्र मोदी के अच्छे दिनों के नारे तक पर पड़े हैं

कृपया हमें अनुसरण करें और हमें पसंद करें:

हिमाचल प्रदेश के पत्रकार अजय पठानिया का उनके ही दोस्त ने किया मर्डर

अजय पठानिया

कुल्लू (हिमाचल प्रदेश) घाटी के कसोल के समीप जरी में पालमपुर के 30 वर्षीय पत्रकार अजय पठानिया का दोस्त ने ही मर्डर कर दिया. पेशे से इलेक्ट्रीशियन बताया जा रहा आरोपी सुभाष कौंडल उर्फ बंटू फरार है. इसकी तलाश नजदीक के जंगलों में की जा रही है. प्रारंभिक जांच में खुलासा हुआ है कि पालमपुर से अजय, सुभाष व रमेश घूमने के लिए मणिकर्ण आए हुए थे. इसी दौरान कसोल के नजदीक होटल में कमरा बुक किया गया.

आधी रात के वक्त अजय व सुभाष के बीच कहासुनी के बाद झगड़ा हो गया. होटल का कमरा खाली करने के बाद तीनों ही कमरे से निकल गए. टैक्सी में अचानक सुभाष ने पत्रकार अजय पठानिया पर चाकू से 3-4 बार हमला कर दिया. इसके बाद वह गाड़ी से उतर कर फरार हो गया. टैक्सी चालक व रमेश ने घायल अवस्था में अजय को नजदीकी स्वास्थ्य संस्थान में पहुंचाया, जहां उसे चिकित्सकों ने मृत घोषित कर दिया. एएसपी एनएस नेगी ने घटना की पुष्टि करते हुए कहा कि आरोपी की तलाश की जा रही है. उन्होंने कहा यह घटना रात करीब एक बजे के आसपास घटित हुई. एएसपी ने कहा कि आरोपी के जंगलों में छिपे होने की आशंका है.

पर्यटन नगरी कसोल में पालमपुर के पत्रकार अजय पठानिया की निर्मम हत्या की प्रेस क्लब कुल्लू ने जहां निंदा की है, वहीं इस घटना पर दुख भी प्रकट किया है. प्रेस क्लब ने इस दुख की घडी में अजय के परिवार को दुख सहन करने की कामना की है और साथ ही पुलिस से मांग की है कि हत्यारे को शीघ्र गिरफ्तार किया जाए और घटना को अंजाम देने के कारणों का पता लगाया जाए. प्रेस क्लब के प्रधान धनेश गौतम ने कहा कि अजय पठानिया ईमानदार, मेहनती, नेक व भावुक इंसान थे. उन्होंने कहा कि अजय ने अपना पूरा जीवन मीडिया क्षेत्र में बिताया. उन्होंने दिव्य हिमाचल से शुरुआत की थी और इसके बाद दैनिक जागरण, आपका फैसला, पहली खबर के अलावा कई सप्ताहिक समाचार पत्रों में भी कार्य किया. उन्होंने कहा कि अजय के पास तीन वर्षों तक कुल्लू मंडी का भी प्रभार रहा था और यहां भी वे अपने कार्य के लिए समय-समय पर आते रहे हैं और सभी पत्रकारों से उनका व्यवहार काफी मधुर था.

कृपया हमें अनुसरण करें और हमें पसंद करें:

छंटनी के शिकार पत्रकार ने लाइव शो के दौरान चैनल के दो मीडियाकर्मियों को मार डाला

अमेरिका ढेर सारे अच्छे बुरे मामलों में दुनिया भर के देशों और जनता को रास्ता दिखाता है. उसने अब एक और रास्ता दिखा दिया है. छंटनी का शिकार बनो तो गोली मार दो! इस बुरे रास्ते पर जाने की सीख कोई नहीं देगा लेकिन अमेरिका में जो कुछ हुआ उसके बारे में बहस बात विमर्श जरूरी है. प्राइवेट न्यूज चैनल्स कभी भी किसी को फायर कर देने का जो कारनामा करते हैं, उससे आम मीडियाकर्मियों के मन में भारी गुस्सा रहता है. अमेरिका में गुस्से का प्रकटीकरण गोली मारने के रूप में हुआ लेकिन लोग यह सवाल कर रहे हैं कि छंटनी के शिकार पत्रकार का गुस्सा अगर चैनल मालिक से था तो उसने दो आम मीडियाकर्मियों को क्यों दंड दिया. यहां यह कहना जरूरी है कि हिंसा किसी भी समस्या का हल नहीं है लेकिन कई बार कान आंख खोलने के लिए भगत सिंह की तरह धमाका करना पड़ता है ताकि शोषितों की कराह सुनाई पड़ सके.

छंटनी के शिकार चैनल के पूर्व कर्मी ने गोली मारने के दौरान जो वीडियो बनाया उससे ली गई एक स्टिल पिक्चर. इसमें वो रिपोर्टर पर पिस्तौल ताने हुए है.

घटनाक्रम अमेरिका के वर्जीनिया में घटित हुआ. एक टीवी शो के लाइव प्रोग्राम के दौरान एक महिला रिपोर्टर और कैमरामैन की उस शख्स ने गोली मारकर हत्या कर दी जिसे छंटनी के नाम पर चैनल से निकाल बाहर किया गया था. भागने के दौरान हत्यारे ने खुद को गोली मार ली और अस्पताल पहुंचाते समय उसने दम तोड़ दिया. हत्यारे ने रिपोर्टर-कैमरामैन का मर्डर करने के दौरान खुद भी वीडियो बनाया था, जिसे उसने हत्या के तुरंत बाद सोशल साइट पर अपलोड कर दिया था. साथ ही कई पन्नों का फैक्स उस चैनल के आफिस भेजा था, जिसने उसे निकाला था और जिसके कर्मियों को उसने गोली मारी थी.

WDBJ7 टीवी चैनल रिपोर्टर एलिसन पार्कर (24) अपने कैमरामैन एडम वार्ड (27) के साथ बुधवार सुबह वर्जीनिया शहर के मोनेटा स्थित ब्रिजवाटर प्लाजा में रिपोर्टिंग के दौरान एक महिला से बातचीत कर रही थीं. इसका प्रसारण लाइव किया जा रहा था. तभी अचानक एक हथियारबंद शख्स वहां आया और रिपोर्टर एलिसन पार्कर और कैमरामैन एडम वार्ड को गोली मार दी. स्टेशन जनरल मैनेजर जेफ मार्क ने बताया कि लाइव प्रसारण के दौरान इस वारदात को अंजाम दिया गया. हत्या करने वाला शख्स फरार हो गया. इसके बाद पुलिस ने हत्यारे का दूर तक पीछा करके उसकी गाड़ी रुकवाई. इस दौरान हत्यारे ने खुद को गोली मार ली और अस्पताल पहुंचने से पहले ही दम तोड़ दिया.

वर्जीनिया के मोनेटा में बुधवार को लाइव टीवी ब्रॉडकास्ट के दौरान रिपोर्टर और कैमरामैन का गोली मारकर मर्डर करने वाला शख्स इसी चैनल का ही एक पूर्व रिपोर्टर था, जिसे दो साल पहले पहले नौकरी से निकाल दिया गया था. बदला लेने के लिए उसने इन दोनों का मर्डर किया. इसका वीडियो भी खुद ही बनाया और बाद में इसे सोशल मीडिया पर अपलोड कर दिया. रिपोर्टर एलिसन पार्कर (24) बुधवार सुबह कैमरामैन एडम वार्ड (27) के साथ लाइव ब्रॉडकास्ट कर रही थीं. इसी दौरान वेस्टर ली फ्लैंगमैन (41) नामक शख्स ने गोली मारकर दोनों की हत्या कर दी थी. घटना सुबह 6 बजकर 45 मिनट पर हुई. चैनल ने तुरंत लाइव ब्रॉडकास्ट बंद कर दिया और ट्वीट के जरिए घटना की जानकारी दी.

रिपोर्टर और कैमरामैन के मर्डर के बाद फ्लैंगमैन वहां से भाग गया और उसने खुद का बनाया हुआ वीडियो सोशल मीडिया पर शेयर किया. उसने चैनल को 23 पेज का सुसाइड नोट फैक्स किया, जिसमें हमले की वजह के बारे में बताया. सुसाइड नोट में उसने लिखा, “मेरी बंदूक की हर गोली पर मरने वालों का नाम लिखा था.” हमले के बाद फ्लैंगमैन पुलिस से बचते हुए तीन घंटे की ड्राइव करके वर्जीनिया की फैकिअर काउंटी पहुंचा और वहां उसने खुद को गोली मार ली. बुधवार दोपहर 1.30 बजे उसकी मौत हुई. वेस्टर ने खुद को मंकी कहे जाने पर टीवी प्रोड्यूसर के खिलाफ वर्ष 2000 में मुकदमा दायर किया था. उसने आरोप लगाया था कि टीवी चैनल का सुपरवाइजर अश्वेतों को आलसी कहता था. उसने 2012 में ‘WDBJ7-टीवी’ ज्वाइन किया था. यहां वह ब्राइज विलियम्स के नाम से काम करता था. वह न्यूज एंकर था और नाइट रिपोर्टर के तौर पर भी काम करता था. कुछ साल बाद बजट कटौती की वजह से उसे नौकरी से निकाल दिया गया था. इस वजह से नाराज चल रहा था. 

कृपया हमें अनुसरण करें और हमें पसंद करें:

शीना (खुद की बेटी) और राहुल (पति पीटर का बेटा) के बीच रिलेशनशिप से हत्यारिन बन गई इंद्राणी मुखर्जी!

स्टार इंडिया के पूर्व सीईओ पीटर मुखर्जी की पत्नी आईएनएक्स मीडिया की पूर्व सीईओ इंद्राणी मुखर्जी आखिर अपनी ही बेटी की हत्या कैसे करा सकती हैं? लेकिन ये खुलासा हो चुका है कि इंद्राणी ने अपनी ही बेटी शीना वोरा की हत्या की. बेटी शीना के बारे में इंद्राणी ने अपने पति पीटर मुखर्जी तक को बता रखा था कि वह उसकी बहन है. इंद्राणी ने पुलिस के सामने शीना को अपनी बेटी के रूप में कुबूल किया है. एक और बड़ा खुलासा हुआ है कि शीना (इंद्राणी की बेटी) और पीटर मुखर्जी के बेटे के बीच रिश्ते थे. यानी पति-पत्नी के बच्चों के बीच आपस में संबंध थे.

(शीना की फाइल फोटो. इनसेट में शीना और राहुल की नजदीकी दिखाती एक फाइल फोटो.)

स्टार इंडिया के पूर्व सीईओ पीटर मुखर्जी का कहना है कि मुझे ये जानकर धक्का लगा है कि शीना उनकी पत्नी इंद्राणी की बेटी थी. इंद्राणी ने शीना को मुझे उसकी बहन बताया था. मुझे इस बारे में कुछ भी नहीं पता था. उसने मुझे बताया था कि शीना अमेरिका में है. मेरे बेटे और शीना के रिश्ते थे. मेरे बेटे ने मुझे कहा था कि शीना दरअसल इंद्राणी की बेटी है लेकिन मैंने उसकी बात का विश्वास नहीं किया. मैं और इंद्राणी दोनों ही शीना के मेरे बेटे के साथ रिश्ते से खुश नहीं थे. शीना के भाई मिखाइल वोरा ने भी शीना और इंद्राणी के मां-बेटी के संबंध का दावा किया है. इसके साथ ही इंद्राणी ने पुलिस से पूछताछ में इस बात को कबूल कर लिया है कि शीना वोरा उन्हीं की बेटी थी.  इंद्राणी को 31 अगस्त तक पुलिस कस्टडी में भेज दिया गया है.

इंद्राणी और पीटर मुखर्जी पहले से शादीशुदा थे. उन दोनों के बच्चे भी हैं. इन दोनों की शादी 2002 में हुई थी. इंद्राणी मुखर्जी INX मीडिया की CEO रही हैं. इंद्राणी से पीटर मुखर्जी ने दूसरी शादी की थी. एचआर कंसल्टेंट इंद्राणी मुखर्जी थी. इंद्राणी ने कई चैनल लांच किए. 2009 में इंद्राणी और पीटर ने INX मीडिया छोड़ा.

इंद्राणी मुखर्जी की बेटी की हत्या 2012 में हुई थी. उस समय शीना 24 साल की थी. इंद्राणी मुखर्जी और शीना वोरा के बीच पारिवारिक विवाद चल रहा था. 2012 से शीना का पता नहीं था लेकिन मुखर्जी परिवार ने किसी को नहीं बताया. 2012 में रायगढ़ के जंगलों में शव मिला था. बाद में तफ्तीश में पता चला कि शव शीना का है. रायगढ़ पुलिस की जांच पर बाद में मुंबई पुलिस ने इंद्राणी और उनके ड्राइवर को गिरफ्तार किया.

उल्लेखनीय है कि अदालत में रिमांड मांगते हुये पुलिस ने इंद्राणी के ड्राईवर को हथियार बनाया. ये वही शख़्स था जो 2012 में इंद्राणी का वफादार हुआ करता था. जब इंद्राणी ने अपनी बेटी शीना वोरा को मारने का प्लान बनाया तो ये ड्राइवर ही इस अपराध में उसका पार्टनर बना. शीना इंद्राणी वोरा की इकलौती बेटी थी, दोनों में अच्छी बनती थी लेकिन उसने दुनिया के सामने शीना को हमेशा अपनी बहन के रूप में पेश किया. शीना का इंद्राणी के सिवाय कोई था भी नहीं. इंद्राणी एक समय में एचआर की मैनेजर हुआ करती थी और बाद में वही पेशा शीना ने भी चुना और वो जल्द ही एक बड़े कॉरपोरेट कंपनी में काम करने लगी.

उथल-पुथल और दो शादियों के बाद इंद्राणी ने पीटर को चुना और जब पीटर अपने करियर के शिखर पर थे तब दोनों की शादी हो गई. दोनों ने जब स्टार इंडिया छोड़ा तो एक नई मीडिया कंपनी बनाई, लेकिन ये सब कुछ ज्यादा नहीं चल पाया. पीटर और इंद्राणी कुछ कानूनों के उल्लंघन के मामले में कई एजेंसियों की नज़र में चढ़े और थोड़े ही दिनों में पता चला कि अब उनका नया ठिकाना लंदन है.  जब तमाम लोगों की नज़रें और ख़बरें ठंड़ी पड़ गई तो एक बार फिर इंद्राणी मुंबई में नज़र आने लगीं और उनके पति पीटर के कई मीडिया वेंचर की खबरें भी आईं लेकिन कुछ जमता हुआ सा नहीं दिखा.

2012 में इंद्राणी को अचानक से कुछ ऐसा पता लगा जो वो सहन न कर पाई. शीना और उनके पति पीटर के बेटे राहुल के रिश्तों की ख़बर से इंद्राणी ऐसा तिलमिलाई की अपने ड्राइवर के साथ मिलकर शीना की हत्या कर डाली. उसकी लाश को रायगढ़ के जंगलों में ठिकाने लगा दिया. जब राहुल और शीना के बीच बढ़ते संबंधों को लेकर दोनों घर में तनाव रहने लगा तभी राहुल ने पीटर को बताया था कि शीना, इंद्राणी की बेटी थी. फिर शीना अचानक गुम हो गई. उसने पीटर को बताया कि शीना पढ़ाई करने के लिए यूएस चली गई है. शीना की गुमशुदगी पर इंद्राणी ने कभी कोई शिकायत दर्ज नहीं कराई और पीटर को भी कुछ पता नहीं चल पाया था. हत्या के तीन साल बाद सब कुछ सामान्य हो चुका था और शीना की खोजख़बर लेने वाला भी कोई नहीं था.

इंद्राणी के कथित हत्या में शामिल होने का राज़, राज़ ही रहता अगर उनका ड्राइवर गैरकानूनी हथियार के केस में ना पकड़ा जाता. जब वो पुलिस की गिरफ़्त में आया तो कुछ ही दिन में ये राज़ भी उगल दिया कि कैसे उसने इंद्राणी के साथ मिलकर शीना की हत्या की. इस पूरी मर्डर मिस्ट्री और हिला देने वाली कहानी में अभी ऐसे कई राज खुलने वाले हैं जो सेक्स, पैसा और हाईप्रोफाइल जिंदगी के कई परतें उतार देगी. पुलिस की पूछताछ के दौरान इंद्राणी मुखर्जी ने कुबूला कि शीना उनकी बहन नहीं बल्कि बेटी थी. इंद्राणी ने बेटी की बात पति से छुपा रखी थी. इंद्राणी के पति और स्टार इंडिया के पूर्व सीईओ पीटर मुखर्जी ने एक न्यूज चैनल को बताया कि इंद्राणी ने शीना को उसकी बहन बताया था.

इंद्राणी मुखर्जी के अलावा पुलिस ने इंद्राणी के ड्राइवर श्याम मानव मनोहर राय को भी गिरफ्तार किया हुआ है. पुलिस ने इन दोनों को एक स्थानीय अदालत में पेश करके 31 अगस्त तक हिरासत में लिया है. इंद्राणी ने वर्ष 2007 में 9एक्स मीडिया खोला था और वह उसकी सीईओ थीं. उन्होंने वर्ष 2002 में पीटर से शादी की थी. सूत्रों के मुताबिक तीन साल पुराना यह मामला तब सामने आया जब कुछ दिनों पहले गैरकानूनी हथियार के मामले में श्याम को गिरफ्तार किया गया था. उसने पूछताछ में शीना की हत्या के बारे में बताया और इसमें इंद्राणी के सहभागी होने की भी बात कही. इसके बाद पुलिस की एक टीम रायगढ़ के जंगल में गई जहां श्याम की निशानदेही पर शीना के शव के कुछ अवशेष मिले. पुलिस ने इंद्राणी को मंगलवार को समन भेजकर बुलाया. उनसे कई घंटों तक पूछताछ की गई. प्राथमिक जांच में पुलिस ने इंद्राणी को संदिग्ध पाया और उन्हें गिरफ्तार कर लिया. पुलिस को शक है कि संपत्ति विवाद की वजह से शीना की अपहरण के बाद हत्या की गई होगी और इसमें इंद्राणी भी शामिल है.

इंद्राणी स्टार इंडिया में एचआर थी, तब उनके बॉस पीटर हुआ करते थे. स्टार इंडिया में रहते हुए ही दोनों के बीच प्यार हुआ. कुछ साल तक डेटिंग करने के बाद पीटर ने इंद्राणी को प्रपोज़ किया था.  2002 में इंद्राणी की पीटर मुखर्जी से शादी हुई. पीटर मुखर्जी की ये दूसरी शादी थी. शादी के समय पीटर 46 और इंद्राणी 30 वर्ष की थी. पीटर के पहली पत्नी से दो बेटे और एक बेटी है. पीटर ने 2007 में 9X चैनल शुरू किया. इस कंपनी में वे खुद चेयरमैन बने और इंद्राणी को सीईओ बनाया. 2009 में दोनों ने कंपनी से इस्तीफ़ा दे दिया था.

हाई प्रोफाइल शीना बोरा मर्डर केस में बुधवार को नया ट्विस्‍ट आ गया जब स्टार इंडिया के पूर्व सीईओ पीटर मुखर्जी ने दावा किया कि उनकी दूसरी पत्नी इंद्राणी मुखर्जी ने शीना को अपनी बहन बताया था, जबकि असल में वह इंद्राणी की बेटी थी. इस खुलासे के बाद मुंबई में पीटर से पूछताछ के लिए पुलिस उनके घर पहुंच गई. उधर, कोलकाता में भी पुलिस इंद्राणी के पहले पति संजीव खन्‍ना से पूछताछ के लिए उनके घर पहुंची. बताया जाता है कि शीना संजीव और इंद्राणी की बेटी थीं. वहीं, खुद को इंद्राणी का बेटा बता रहे मिखाइल बोरा ने गुवाहाटी में कहा कि वे जानते हैं कि किस वजह से शीना का मर्डर हुआ. इसका खुलासा करने से पहले वे इंद्राणी के पुलिस में दिए बयान का इंतजार करेंगे. शीना के मर्डर की सही वजह अब तक पता नहीं चली है. पुलिस प्रॉपर्टी और ऑनर किलिंग के एंगल से केस की जांच कर रही है.

गुवाहाटी से शीना के भाई मिखाइल बोरा ने मीडिया से बातचीत की. मिखाइल ने कहा- मैं भी शॉक में हूं. हां, इंद्राणी मेरी बहन नहीं, मां है. मुझे यह बात साबित करने की जरूरत नहीं है क्योंकि उसी ने मुझे जन्म दिया है. किसी भी जांच में यह बात कन्फर्म हो सकती है. मुझे मेरी बहन के लिए इंसाफ चाहिए. मैं जब भी शीना के बारे में पूछता था, इंद्राणी कहती थी कि वह यूएस में है और खुश है. इससे ज्यादा वह कुछ नहीं बताती थी. इससे पहले शीना मुंबई में ही रिलायंस में जॉब करती थी. मैं नहीं जानता कि पुलिस किस एंगल से जांच कर रही है. मैं सिर्फ यही चाहता हूं कि शीना के असली कातिल का पता चल जाए.

इन्हें भी पढ़ सकते हैं….

इंद्राणी मुखर्जी अपनी बहन की हत्या के आरोप में अरेस्ट

xxx

बेटी को बहन बताती थी इंद्राणी… तीसरी शादी की थी पीटर मुखर्जी से…

कृपया हमें अनुसरण करें और हमें पसंद करें:

बेटी को बहन बताती थी इंद्राणी… तीसरी शादी की थी पीटर मुखर्जी से…

सास बहू की बजाय मां बेटी की इस उलझी कहानी की परतें जितनी खुल रही हैं, उतने ही नए नए खुलासे हो रहे हैं. स्टार इंडिया के पूर्व सीईओ पीटर मुखर्जी का कहना है कि इंद्राणी मुखर्जी ने उन्हें शीना को हमेशा बहन बताया. अब पता चल रहा है कि वो बहन नहीं बल्कि बेटी थी. उधर, यह भी पता चला है कि इंद्राणी ने पीटर मुखर्जी से तीसरी शादी की थी. उसने अपनी पहले की दो शादियों को भी छुपा रखा था. इंद्राणी मुखर्जी की गिरफ्तारी के बाद पुलिस लगातार नए खुलासे कर रही है.

((पहली और दूसरी तस्वीर में पीटर मुखर्जी व इंद्राणी मुखर्जी. तीसरी तस्वीर में पीटर मुखर्जी का बेटा रोहित मुखर्जी और इंद्राणी मुखर्जी की बेटी शीना वोरा. चौथी तस्वीर में बेटी मां शीना वोरा और इंद्राणी मुखर्जी. आखिरी तस्वीर में इंद्राणी का बेटा मिखाइल वोरा.))

इंद्राणी का बेटा भी है मिखाइल नाम से. बेटे का कहना है कि उसकी मां हमेशा झूठ दर झूठ बोला करती थी. रहती थी मुंबई में लेकिन फोन पर कहती थी कि वो लंदन में है. इंद्राणी के बेटे का कहना है कि अगर मां इंद्राणी खुद गुनाह नहीं कबूल करती है तो वह सारे सच पुलिस को बता देगा. अभी वो इंतजार कर रहा है कि इंद्राणी खुद क्या पुलिस को बताती है. पता चल रहा है कि शीना के पहले पति से एक बेटा और बेटी है. ये बेटा मिखाइल है और बेटी शीना. बेटी शीना का इंद्राणी के वर्तमान पति पीटर मुखर्जी के बेटे रोहित मुखर्जी से अफेयर चल रहा था. शीना और रोहित एक अलग फ्लैट में साथ रहा करते थे. इससे भी इंद्राणी नाराज थी.

स्टार इंडिया के पूर्व सीईओ पीटर मुखर्जी का कहना है कि शीना मेरी बीवी की छोटी बहन है, ऐसा मुझे 15 साल से पता है. मुझे मालूम नहीं था कि वो बहन नहीं बेटी है. पीटर ने कहा कि वे इंद्राणी के अभिभावकों से कभी नहीं मिले हैं. इस मर्डर के मामले में प्रॉपर्टी का विवाद है या नहीं, इस बारे में अभी उन्हें नहीं पता है. अब जो कानून और पुलिस कहेगी वही हम करेंगे. शीना और इंद्राणी के बीच कोई तकरार हुई ऐसा भी मुझे पता नहीं था. पीटर ने स्वीकार किया कि शीना का उनके बेटे के साथ अफेयर था, लेकिन उन्होंने इसे तवज्जो नहीं दी. इसके बाद से शीना हमारे पास नहीं आई. मुझे बताया गया था कि उसे अमेरिका भेज दिया गया.

मेरे बेटे ने मुझे बताया कि वह अमेरिका से नहीं लौटेगी. इंद्राणी और शीना के बीच संबंधों को लेकर मेरे दिमाग में ऐसा कुछ नहीं था जिससे मुझे कुछ गड़बड़ लगे. दोनों के बीच ऐसा झगड़ा नहीं था कि इस पर ध्यान जाए. मुझे मिखाइल से इंद्राणी के भाई और शीना से बहन के तौर पर मिलवाया गया था. इंद्राणी ने मुझे जो भी बताया मैंने उस पर भरोसा किया. पीटर ने कहा कि मैं काफी हैरान हूं. कोई कह रहा है कि शीना, इंद्राणी की बेटी थी, कोई कह रहा है कि शीना, इंद्राणी की छोटी बहन थी. ड्राइवर श्याम राय हमारे यहां तीन-चार साल पहले काम करता था. कल पुलिस हमारे घर आई और इंद्राणी को लेकर गई. हम पुलिस को पूरा सहयोग करेंगे. सच्चाई सबके सामने आनी चाहिए.

शुरुआती खबर…

इंद्राणी मुखर्जी अपनी बहन की हत्या के आरोप में अरेस्ट

xxx

शीना (खुद की बेटी) और राहुल (पति पीटर का बेटा) के बीच रिलेशनशिप से हत्यारिन बनी इंद्राणी मुखर्जी!

कृपया हमें अनुसरण करें और हमें पसंद करें:

इंद्राणी मुखर्जी अपनी बहन की हत्या के आरोप में अरेस्ट

स्टार इंडिया के पूर्व सीईओ पीटर मुखर्जी की पत्नी इंद्राणी मुखर्जी को हत्या के आरोप में गिरफ्तार किया गया है। इंद्राणी पर आरोप है कि उन्होंने अपने ड्राइवर के साथ मिलकर अपनी बहन की हत्या कर दी थी और उसे महाराष्ट्र के रायगढ़ जिले के जंगल में गाड़ दिया था। वर्ष 2012 में इंद्राणी की बहन शीना बोरा की हत्या हुई थी। शोना आईएनएक्स मीडिया कंपनी की सीईओ भी रह चुकी था। तब से यह मामला सुलझ नहीं पाया था।

इस हत्या के बारे में एक सूत्र ने पुलिस को सुराग दिया जिसके बाद इंद्राणी के ड्राइवर से पूछताछ की गई। पुलिस पूछताछ में ड्राइवर ने स्वीकार किया कि उसने इंद्राणी के कहने पर शीना की हत्या की थी। हत्या के बाद ड्राइवर ने शीना के शव को रायगढ़ के जंगल में फेंक दिया था। रायगढ़ के जंगल में शव मिलने की पुष्टि के बाद और ड्राइवर की स्वीकारोक्ति पर मुंबई पुलिस ने मंगलवार को इंद्राणी को पूछताछ के लिए बुलाया। पूछताछ के बाद उन्हें गिरफ्तार कर लिया गया। इंद्राणी को अदालत ने 31 अगस्त तक पुलिस हिरासत में भेज दिया है।

मुंबई पुलिस के डीसीपी धनंजय कुलकर्णी ने बताया कि खार पुलिस ने उन्हें धारा 406/15, 302, 201, 34 के तहत अरेस्ट किया है। इन्द्राणी स्टार इंडिया के पूर्व सीईओ पीटर मुखर्जी की पत्नी हैं। 2002 में इंद्राणी की पीटर मुखर्जी से शादी हुई। यह पीटर मुखर्जी की दूसरी शादी थी। सीईओ बनने के पहले तक इन्द्राणी एचआर कंसल्टेंट थी। शादी के बाद वे आईएनएक्स मीडिया कंपनी की सीईओं भी बनीं। उन्होंने कई चैनल भी लॉन्च करवाए थे। पुलिस को शक है कि इन्द्राणी ने शीना की हत्या प्रॉपर्टी विवाद के चलते की। दरअसल, दोनों बहनों के बीच लम्बे समय से किसी प्रॉपर्टी को लेकर विवाद चल रहा था। उनके बीच कई बार झगड़े भी हुए।

कृपया हमें अनुसरण करें और हमें पसंद करें:

CBI FILES A CHARGESHEET AGAINST THREE ACCUSED IN A CASE RELATING TO ALLEGED MURDER OF SHRI CHANDRIKA RAI, THEN JOURNALIST AND THREE HIS FAMILY MEMBERS

New Delhi : The Central Bureau of Investigation has filed a chargesheet against three accused, resident of Shahdol & Umariya Districts of Madhya Pradesh U/s 120 B, 392 & 302 of IPC relating to alleged murder of Shri Chandrika Rai, then Journalist and three his family members in the Court of Chief Judicial Magistrate, Umariya(MP).

CBI had registered a case U/s 302, 460, 380 r/w 34 IPC on 05.03.2014 on the orders of Madhya Pradesh High Court, Principal Bench, Jabalpur and took over the investigation of said case which was earlier registered at Police Station Umariya(MP). It was alleged that Shri Chandrika Rai, Journalist, his wife Smt. Durga Rai, Shri Jalaj Rai (son) and Ms.Nisha Rai (daughter) were brutally murdered in the intervening night of 17/18.02.2012 by unknown persons, in his house at MPEB Colony, District Umariya(MP). The dead bodies were found in four different rooms of the house of Shri Chandrika Rai when the house was broke open by the relatives of Chandrika Rai on 18.02.2012. The family members of deceased Chandrika Rai approached the Hon’ble High Court of MP with the request for investigation of the case by CBI vide Writ Appeal No.803/2012 and Writ Appeal No.20/2013. The Hon’ble High Court vide its order dated 24.01.2014 stayed the ongoing trial against accused and had passed order for re-investigation of the case by CBI.

CBI conducted a thorough investigation and arrested one accused, resident of District Shahdol(MP). The role of other accused persons were also found in said case.

The public is reminded that the above findings are based on the investigation done by CBI and evidence collected by it. Under the Indian Law, the accused are presumed to be innocent till their guilt is finally established after a fair trial.

कृपया हमें अनुसरण करें और हमें पसंद करें:

दोषी तक पहुंचने में नाकाम पुलिस ने निदोर्षों को जेल में ठूंसा

बघौली : बीते वर्ष 2014 में हुए पिपरीडीह हत्याकाण्ड में कई थानेदारों की जांच पड़ताल को दरकिनारकर हुई कानूनी कार्रवाई इनदिनों चर्चाओं में है। वास्तविक दोषी तक पहुंचने में नाकाम रही कानून प्रक्रिया ने निर्दोषों पर कहर ढा दिया। जेल में बन्द निर्दोष आरोपी किसी भी तरह से जांच की प्रक्रिया से गुजरने को तैयार हैं। अपनी समस्या को जन-जन तक पहुंचाकर न्याय की भीख मांग रहे हैं। 

बघौली पुलिस थाने के अन्तर्गत ग्रामसभा थोकमाधौ के मजरा पिपरीडीह में 29 मई 14 को घर के बाहर चारपाई पर सो रहे झब्बूलाल (60) पुत्र भिखारी की गोली लगने से मौत हुई थी जिसमें मृतक के परिजन ने गांव के ही संजय द्विवेदी पुत्र घासीराम, मनीष द्विवेदी पुत्र स्व राकेश द्विवेदी व डीह निवासी रमाकान्त शुक्ला पुत्र रामनरेश उर्फ बड़कौनू पर बघौली पुलिस थाने में अपराध संख्या 157/14 धारा 302आईपीसी के तहत मामला दर्ज कराया था। 

घटना को लेकर चर्चाओं पर गौर करें तो यह मामला पूरी तरह फर्जी था। योजनाबद्ध तरीके से इन तीनों लोगों को फंसाने के लिए फायर मार कर केस बनाया जा रहा था। निशाना चूकने से घटना असलियत में हो गई। इस केस को बनाने वाले को पुलिस ने बहुत ढूंढा मगर आज तक उसकी गिरफ्तारी नहीं हो पाई। अपना बचाव करते हुए जानबूझकर पुलिस के सक्षम अधिकारी ने निर्दोष पर कानून का चाबुक चला दिया। आखिरकार वह तीनों लोग जेल पहुंच गए, जिनका इस घटना से कोई लेना-देना नहीं था। 

कारण पर गौर करें। पहला यह कि घटना प्रधानी चुनाव की रंजिश से जुड़ी हुई थी। दूसरा यह कि आरोपी संजय आदि गांव न रहकर बघौली कस्बे में रहने लगे थे। उनकी जमीन पर लोगों ने मनमर्जी से निर्माण कराना शुरू कर दिया था। एक दिन उन्होंने उसका विरोध किया और अपनी जमीन से कब्जेदारों को हटवा दिया था। 

बघौली पुलिस थाने में तैनात रहे थानाध्यक्ष लालता प्रसाद साहू के कार्यकाल में हुई घटना की विधिवत जांच में घटना के आरोपी निर्दोष पाए गए। थानाध्यक्ष रहे आरपी सोनकर ने जांच के दौरान घनश्याम को दोषी पाया। परशुराम कुशवाहा ने इस मामले की तफ्तीश की, जिसमें भी किसी भी तरह पीड़ित की तहरीर खरी नहीं पाई गई। 

मौजूदा थानाध्यक्ष जावेद अहमद ने नामित तीनों लोगों के खिलाफ कोई साक्ष्य नहीं पाया। घनश्याम की खोजबीन की, न मिलने पर अदालत से एनपीडब्लयू जारी कराया। घनश्याम ने अदालत में समर्पण की बात कही और हाजिर न होने पर दफा 82 की कार्यवाही हुई। घनश्याम ने वादी से मिलकर हाईकोर्ट में प्रार्थनापत्र दिला दिया। जहां से पुलिस कप्तान हरदोई को जांच के लिए आदेशित किया गया लेकिन जांच एएसपी प्रदीप गुप्ता के द्वारा की गई जिसमें केवल वादी के बयानों के आधार पर निदोर्षों को जेल में ठूंस दिया गया। चालीस दिनों बाद भी जमानत नहीं हो पाई है।

हत्या के आरोपी संजय द्विवेदी ने जेल से भेजे गए पत्र में पूरी घटना को दर्शाते हुए लिखा है कि उसको किसी भी कसौटी पर जांच कर लिया जाए वह निर्दोष है। पत्र में समाज के सभी लोगों तक अपनी बात पहुंचाने और सहयोग की अपील की गई है। 

संजय द्विवेदी की पत्नी सर्वेश ने शासन-प्रशासन के उच्चाधिकारियों को लिखे गए पत्र में दशार्या है कि हाईकोर्ट ने हरदोई एसएसपी को स्वयं विवेचना करने के लिए निर्देशित किया था। जो जांच 13 महीनों में नहीं हो पाई, उसे एक महीने में पूरी कर कानून की धारा 164 के बयान पर हुई कार्यवाई में न्याय की गुहार लगाई है। 

संजय द्विवेदी और उसका भतीजा मनीश घर के जिम्मेदार थे। उन दोनों के जेल में होने से परिवार घर-गृहस्थी से लेकर कानूनी मसलों के लिए दर-बदर भटकने को मजबूर है। नेहा व सोनम का रो- रोकर बुरा हाल है। दिव्यम की पापा की याद में हो रही बेचैनी घरेलू परेशानी का कराण बनी हुई है। 

सुधीर अवस्थी ‘परदेशी’ से संपर्क : graminptrkar@gmail.com

कृपया हमें अनुसरण करें और हमें पसंद करें:

फोटो पत्रकार की हत्या, अपार्टमेंट में मिले पांच लोगों के शव

मैक्सिको की एक खोजी पत्रिका प्रोसेसो के मुताबिक मैक्सिको सिटी में एक अपार्टमेंट में पांच लोगों के शव मिले, जिनमें एक फोटो पत्रकार का शव भी है। फोटो पत्रकार रूबेन एस्पिनोसा शुक्रवार से लापता थे और शनिवार दोपहर उनके परिवार के सदस्यों ने उनकी पहचान की। उनके शरीर पर दो जगह गोली लगने के निशान थे।

एस्पिनोजा अन्य मीडिया से भी जुड़े थे और हाल में वह खाड़ी तट के राज्य वेराक्रूज चले गए थे, जहां उन्हें उनकी जान को खतरा महसूस होता था। अन्य पीड़ितों की पहचान नहीं हो पाई। वेराक्रूज पत्रकारों के लिए बहुत खतरनाक राज्य रहा है। पत्रकारों की सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिए बनी समिति ने जनवरी में इस बात की पुष्टि की थी कि काम के कारण 2011 से चार पत्रकारों की हत्या कर दी गई। समिति कम से कम छह अन्य की मौत की जांच कर रही थी।

कृपया हमें अनुसरण करें और हमें पसंद करें:

राघवेंद्र हत्याकांड : गूंजा भड़ास, मुंबई के पत्रकारों ने मुंह पर काली पट्टी बांधकर प्रशासन की बोलती बंद की

यशवंत भाई,

सहयोग के लिए आपका आभार. जिस पत्रकार की हत्या से मुंबई के मठाधीश बन बैठे पत्रकारों का दिल नहीं पसीजा, वहीं आंदोलन की ख़बर को प्रधानता देकर आपने इस आवाज़ को गली से निकाल कर दिल्ली तक पहुंचा दिया. आपके और हमारे अन्य पत्रकार भाइयों के समर्थन ने पत्रकार राघवेंद्र दूबे की आत्मा को सच्ची श्रद्धांजलि देने में मदद की है.

मुंबई में जर्नलिस्ट एक्शन कमेटी के झंडे तले मुंह पर काली पट्टी बांधकर राघवेंद्र दूबे हत्याकांड के खिलाफ मौन विरोध करते पत्रकार 

जर्नलिस्ट एक्शन कमिटी के झंडे तले पत्रकारों ने बंद जुबान से ही आंदोलन कर प्रशासनिक ढांचे को झकझोर दिया है. इसमें सबसे बड़ी बात यह हैं कि जर्नलिस्ट एक्शन कमिटी, मीरा-भाईंदर में पत्रकारों के मूक प्रदर्शन के बाद आखिरकार झुका प्रशासन और बीयर पर कारवाई के लिए महानगर पालिका के आयुक्त को आगे आना पड़ा. लेकिन मीरा भाईंदर के जर्नलिस्ट एक्शन कमिटी को इसके लिए बरसते पानी में भीगते हुए सड़क पर छह घंटे तक आंदोलन जारी रखना पड़ा. इस कमिटी के मुखिया के तौर पर भरत मिश्रा को हालांकि मनपा आयुक्त ने दो घंटे बाद ही अपने कार्यालय में बुलाने के लिए अपना अधिकारी भेजा था, लेकिन भरत मिश्रा ने पत्रकारों के साथ एक सुर में इसे खारिज कर दिया और आखिरकार प्रशासन को झुकना पड़ा और मनपा आयुक्त खुद पत्रकारों के बीच आए और अपनी तीस वर्ष की सेवा का वास्ता देते हुए कहा कि जिस बीयर बार में यह घटना हुई है वह पंद्रह दिनों में तोड़ा जाएगा. हालांकि पत्रकारों के इस आंदोलन के लिए भरत मिश्रा को काफी मशक्कत करनी पड़ी. इस आंदोलन को पहले दिन से ही मुंबई के तथाकथित बड़े पत्रकारों ने यह कहकर छोड़ दिया था कि, यह हत्या  सप्ताहिक अख़बार के एक छोटे पत्रकार की है. 

इसके अलावा आंदोलन के बीच कुछ असामाजिक तत्वों ने घुसकर पत्रकारों की शांति को भंग करने की कोशिश की, लेकिन नैसर्गिक मिजाज़ और बार माफिया के आंतक के बीच पत्रकार अपने जर्नलिस्ट एक्शन कमिटी के मुखिया भरत मिश्रा के कंधे से कंधा मिलाते हुए सब को परास्त कर दिया. पुलिस को आमतौर पर ढाई तीन सौ लोगों के आंदोलन को नियंत्रण में रखने के लिए जहां बड़ा दल लगाना पड़ता है वहीं सिर्फ दो पुलिस सिपाही इस आंदोलन के लिए लगाए गए थे और वह भी बारिश के बिगड़े मिजाज़ से अपने को बचाते हुए आस पास की दुकानों में पनाह लेकर खड़े नज़र आए.  

पत्रकारों ने अपने आंदोलन को खुद संचालित किया. मूक प्रदर्शन के बल पर पत्रकारों ने स्थानीय प्रशासन को ही नहीं बल्कि मंत्रालय में मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस को भी सोचने पर मजबूर कर दिया. जिस समय आंदोलन चल रहा था उसी बीच मंत्रालय में हुई बैठक में मुख्यमंत्री ने पत्रकार हमला विरोधी कानून को शिघ्र लाने का फैसला किया, इसके लिए मुख्यमंत्री ने संबंधित विभाग को एक महीने में मसौदा तैयार करने का समय दिया है. जबकि ठाणे जिलाधिकारी, पुलिस अधिक्षक हरकत में आते हुए मीरा-भाईंदर के बीयर बारों में छापा कारवाई शुरू कर दी. जिसमें पुलिस सूत्रों की मानें तो कई बार मालिक सामान्य खाने वाले रेस्टारण्ट के लाईसेन्स पर डांस बार चला रहे हैं. इसके अलावा अब मीरा-भाईंदर के सभी बारों पर नियंत्रण रखने के लिए हर बार के लिए एक पुलिस अधिकारी और जिलाधिकारी कार्यालय का एक अधिकारी नियुक्त किया जाएगा.  

इस आंदोलन की ख़बर को पहले ही दिन प्राथमिकता से उजागर करने के बाद मुझे विपरीत परिस्थितियों में संघर्ष करके विजय प्राप्त करने का हौसला मिला. यह प्रेस रिलीज़ जर्नलिस्ट एक्शन कमिटी के द्वारा जारी की गई है, यह उनका बड़प्पन है कि उन्होंने इस आंदोलन की अगुवाई का मौका दिया. मैं कोई आंदोलनकारी नहीं हूं, आम चैनल के रिपोर्टर की तरह एक राष्ट्रीय चैनल का वरिष्ठ संवाददाता हूं. जिस दिन यह घटना घटी, मीरा रोड में ही रहने के कारण उत्सुकतावश में पुलिस स्टेशन पहुंच गया. वहां का माहौल देखकर मैं समझ गया कि उस छोटे समाचार पत्र के संपादक की जघन्य हत्या पर स्थानीय पुलिस प्रशासन और कुछ पत्रकार यह कहकर लीपापोती कर रहे थे कि मारा गया पत्रकार राघवेंद्र पीत पत्रकार था. 

मैंने इस पूरे मामले में सिर्फ यह सोचकर दखल दी कि जब आंतकवादी का मानवाधिकार हो सकता है तो फिर इस पत्रकार का मानवाधिकार क्यों नहीं. पीत पत्रकार कहकर क्या पुलिस और बार माफिया को यह अधिकार मिलता है कि वह बर्बरता से एक इंन्सान की हत्या कर दे. क्या यह बर्बरता की पराकाष्ठा नहीं है कि पत्रकार राघवेंद्र दूबे को पुलिस ने बुलाया था और वहां से निकलते ही इसकी हत्या की गई। ये सोचते ही एक गहरे आक्रोश ने एक आवाज़ को जन्म दिया जिसमें देखते देखते करीब चार सौ छोटे-बड़े पत्रकार जुड़ गए और सरकार को झुकना पड़ा।

मुंबई के जुझारू पत्रकार भरत मिश्रा से संपर्क : mishrabharat8@gmail.com

कृपया हमें अनुसरण करें और हमें पसंद करें:

मुंबई के बीयर बारों के नाश के लिए लड़ाई में उतरे एकजुट पत्रकार, सीएम फडणवीस ने दिया जांच का आदेश

मुंबई (महाराष्ट्र) : मीरा भाईंदर में पत्रकार राघवेंद्र दूबे की हत्या के प्रकरण को पत्रकारों के मुखपत्र भड़ास4 मीडिया में जगह देने के लिए आभार जताते हुए पत्रकार भरत मिश्रा ने बताया है कि इस मामले में मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस ने अपने अधिनस्थ प्रशासनिक उच्च-अधिकारियों को जांच के लिए सौंप दिया है. अफसोस है की स्थानीय मीरा भाईंदर महानगर पालिकe अब भी अवैध बीयर बार पर कारवाई नहीं कर रही । उल्टे मनपा में बने पत्रकार कक्ष को ही ताला जड़ने की मंगलवार को कोशिश की गई, जिससे पत्रकार की आवाज़ दब जाए. 

मीरा- भाईन्दर में पत्रकार राघवेंद्र दूबे की हत्या के बाद भी प्रशासनिक तौर पर जो कारवाई होनी चाहिए, वह अभी पूरी तरह से नहीं हुई है. जिस बीयर बार की संलिप्तता इस मामले में है, वह अवैध है, जिसे महानगर पालिका के आयुक्त ने भी मानते हुए कारवाई का वादा किया था।

जर्नलिस्ट एक्शन कमिटी – मीरा भाईन्दर के मुताबिक वादे सिर्फ वादे ही रहे, कारवाई से कोसों दूर हैं. मंगलवार को मीरा भाईन्दर महानगर पालिका में कारवाई की मांग करने गए पत्रकारों को आयुक्त महोदय ने कोई जवाब तो नहीं दिया, लेकिन मनपा भवन के पत्रकार कक्ष को जरूर ताला जड़वाने की कोशिश की.

पत्रकार की जघन्य हत्या और उसके बाद प्रशासनिक लाल फीताशाही के खिलाफ अंत में मीरा भाईन्दर के पत्रकार बुधवार 22-07-2015 की सुबह 10-00 बजे मीरा भाईन्दर महानगर पालिका के समक्ष मूक धरना आंदोलन कर रहे हैं. इस आंदोलन का एक मात्र उद्देश्य व्हाईट हाऊस बीयर बार पर मनपा की तोड़क कारवाई है. हमारा मानना है कि अब यह अवैध बीयर बार हमारे शहर के लिए एक गंदी गाली बन गए हैं. जिसका सच हमें मीरा-भाईन्दर से बाहर जाने के बाद तब पता चलता है, जब लोग हमें बीयर बार के शहर वाला कहकर बुलाते हैं. हम इस गंदगी का पूरी तरह से नाश चाहते हैं.इ सीलिये हमने यह कदम उठाया है.

यह आंदोलन एक पत्रकार की जघन्य हत्या और राज्य में पत्रकारों पर हो रहे हमलों के विरोध में ही है, क्योंकि अन्याय की मुखालफत गलत को पूरी तरह से नष्ट करने से ही होगी. आंदोलन को मुंबई, ठाणे, नई मुंबई, विरार, पालघर के पत्रकार संगठनों का पूरा सहयोग प्राप्त है. 

जुझाऊ पत्रकार भरत मिश्रा से संपर्क – 9870109566, mishrabharat8@gmail.com

कृपया हमें अनुसरण करें और हमें पसंद करें:

मुंबई में एक पत्रकार की हत्या, एक अगवा और एक की हालत गंभीर

मुंबई : महानगरी में आज एक पत्रकार की हत्या कर दी गई। अन्य दो पत्रकारों पर जानलेवा हमला कर उन्हे गंभीर रूप से जख्मी कर दिया गया. उनमें एक पत्रकार को अगवा कर लिया गया है, उसका कोई अता-पता नहीं है। एक पत्रकार को गंभीर हालत में हास्पिटल में भर्ती कराया गया है। 

मुंबई में पत्रकारों पर लगातार हो रहे हमलों के खिलाफ मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस से मुलाकात करते पत्रकार

कल रात मीरा रोड के व्हाईट हाऊस नामक एक लेडीज बार पर पुलिस का छापा पड़ा था। इस रेड की कवरेज करने गये एक स्थानीय विकली के संपादक राघवंद्र दुबे, संतोष मिश्रा एवं शशी शर्मा , अनिल नॉटियाल को पकड़ कर बार वालों ने बुरी तरह से पीटा. जख्मी शशी शर्मा को मीरा रोड के एक हॉस्पिटल में भर्ती किया गया, जबकि मीरा रोड के केएसके रेसिडेन्सी लॉज के सामने सड़क पर राघवेंद्र दुबे का शव मिला. तीसरे पत्रकार सन्तोष मिश्रा लापता हैं. उनका अभी तक पता नहीं चला है. 

इस हत्या तथा हमले की पत्रकार हमला विरोधी कृती समिती ने कड़े शब्दों में निंदा की है. आज समिति और टीवी जर्नलिस्ट एसोसिएशन का एक प्रतिनिधि मंडल मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस से मिला और इस हत्यारोपियों को गिरफ्तार करने की मांग की. महाराष्ट्र में पत्रकारों पर हो रहे हमले के विरोध में पत्रकार सुरक्षा कानून लाने की भी समिति ने मांग की है. इस विषय पर मुख्यमंत्री अब पत्रकारों के संघटन के साथ मंगलवार को बातचित करेंगे. महाराष्ट्र विधानसभा का वर्षाकालीन संत्र चल रहा है. आज विधान परिषद में विपक्ष के नेता धनंजय मुंडे ने पत्रकारों पर बढ़ते हमले पर गहरी चिंता व्यक्त की. उन्होंने आरोप लगाया कि इस मामले में सरकार गंभीर नहीं है.

कृपया हमें अनुसरण करें और हमें पसंद करें:

अमर मणि त्रिपाठी का बेटा अमन मणि पत्नी साहा सिंह की हत्या में गिरफ्तार

Dayanand Pandey : पिता अमर मणि त्रिपाठी प्रेमिका मधुमिता की हत्या के जुर्म में आजीवन कारावास भुगत रहे हैं सपत्नीक। अब आज बेटा अमन मणि त्रिपाठी अपनी प्रेमिका और पत्नी सारा सिंह की हत्या के संदेह में आज गिरफ्तार हो गया है। फीरोजाबाद के सिरसागंज में एक्सीडेंट हो गया। अमनमणि अपनी पत्नी सारा सिंह के साथ स्विफ्ट कार से लखनऊ से दिल्ली जा रहा था।

अमनमणि ने घरवालों की मर्जी के खिलाफ शादी कर ली थी। यह शादी पिछले साल लखनऊ के एक आर्यसमाज मंदिर में हुई थी। बताया जा रहा है कि अमनमणि इस लड़की से लखनऊ में मिला था। मुलाकातों के दौर में वह उसे दिल दे बैठा था। इसके बाद उसने जुलाई 2013 में लड़की से लखनऊ के अलीगंज स्थित एक आर्यसमाज मंदिर में शादी कर ली। शादी के दौरान सिर्फ अमनमणि, लड़की और दो गवाह मौजूद थे। लड़की की मां एक राष्ट्रीय राजनीतिक पार्टी की नेता और वकील हैं। लड़की ठाकुर बिरादरी की थी। अमनमणि के घरवालों ने रिश्ते को मंजूरी नहीं दी थी।

उत्तर प्रदेश के गृहसचिव देवाशीष पंडा की भांजी बताई जाती है सारा । पिछले साल एक युवक का अपहरण कर मार पीट करने, फिरौती मांगने और जानमाल की धमकी देने के मामले में पूर्व सपा मंत्री के अमरमणि त्रिपाठी के बेटे और सपा नेता अमनमणि त्रिपाठी को कोर्ट ने भगोड़ा घोषित कर दिया है। आरोप है कि पिछले साल 07 अगस्त को अमनमणि त्रिपाठी ने गोरखपुर के रहने वाले ठेकेदार ऋषि पांडेय को अगवाकर पीटा और एक लाख रुपये की रंगदारी मांगी। लखनऊ की कैंट पुलिस ने ऋषि पांडेय की शिकायत पर अमनमणि, रवि व अन्य लोगों के खिलाफ अपहरण, जान से मारने की धमकी देने, मारपीट व वसूली मांगने की धाराओं में रिपोर्ट दर्ज की थी। अमनमणि त्रिपाठी 2012 के विधानसभा चुनाव में नौतनवा, महाराजगंज से चुनाव लड़ा था और हार गया था।

पत्रकार दयानंद पांडेय के फेसबुक वॉल से.

कृपया हमें अनुसरण करें और हमें पसंद करें: