लालकिले से कई अच्छी बातें करने-कहने वाले नरेंद्र मोदी रोजमर्रा की महंगाई की मार क्यों भुला गए : ओम थानवी

Om Thanvi : प्रधानमंत्री ने भाषण पढ़ा नहीं, नोट्स के आधार पर सीधे बोले यह अच्छा लगा। गोली-निरोधक शीशे की आड़ भी हटा दी, बच्चों से भी जाकर मिले। बेटियों के प्रति संवेदनशील नजरिया, गाँव-किसान, गरीबी, सफाई, सुशासन की बातें भी मुझे अच्छी लगीं। यह भी अच्छा किया कि राममंदिर निर्माण की बात नहीं की, न विवादग्रस्त अनुच्छेद 370 या समान नागरिक संहिताका राग छेड़ा। पाकिस्तान को भी नहीं ललकारा।

मोदी को ’24 घंटे वालों’ से डर लगता है!

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने मीडिया पर टिप्पणी करते हुए कहा कि सांसदों को कुछ बोलते हुए डर लगता है कि ‘24 घंटे वाले’ जाने क्या रंग दे डाले। मोदी ने संसद भवन परिसर में बालयोगी सभागार में कांग्रेस के करण सिंह, भाजपा के अरूण जेटली और जदयू के शरद यादव को ‘उत्कृष्ठ सांसद’ का पुरस्कार दिये जाने के लिए आयोजित समारोह में यह बात कही।