प्रबल प्रताप और संजीव पालीवाल ला रहे एक नया नेशनल न्यूज चैनल!

नोएडा के सेक्टर63 में जहां पर न्यूज एक्सप्रेस चैनल का आफिस हुआ करता था, उसके ठीक बगल वाली बिल्डिंग से एक नया चैनल अवतार लेने जा रहा है. चैनल का नाम वैसे तो फाइनली तय नहीं हुआ है लेकिन लोग कह रहे हैं कि यह ‘नेशन्स वायस’ नाम से लांच होगा. चैनल से अभी दो लोग जुड़ चुके हैं. प्रबल प्रताप सिंह और संजीव पालीवाल. प्रबल प्रताप के नेतृत्व में ही चैनल के सारे इक्विपमेंट्स, मशीनों आदि की खरीद-फरोख्त होने से लेकर इंस्टालेशन का काम चल रहा है. संजीव पालीवाल चैनल से सलाहकार की भूमिका में जुड़े हैं. भड़ास4मीडिया ने जब प्रबल से मैसेज कर इस चैनल से जुड़ने के बारे में पूछा तो उन्होंने पूरी तरह से इनकार किया. हालांकि सूत्र कहते हैं कि प्रबल प्रताप सिंह चैनल से न सिर्फ जुड़े हुए हैं बल्कि चैनल इंस्टालेशन का सारा काम उनकी अगुवाई में हो रहा है.

जिंदल के दो नए चैनल लांच कराएंगे शैलेष, बने सीईओ और एडिटर इन चीफ

जी ग्रुप के सुभाष चंद्रा से लंबी लड़ाई लड़ रहे नवीन जिंदल का फोकस टीवी वाला प्रयोग फ्लाप रहा. इस कारण मतंग सिंह से लिए गए फोकस टीवी को बंद कर दिया जाएगा. इसके एडिटर इन चीफ संजीव श्रीवास्तव इस्तीफा दे चुके हैं. नवीन जिंदल ने नए सिरे से अपना मीडिया वेंचर खड़ा करने के लिए अबकी दाव शैलेष पर लगाया है. शैलेष ने न्यूज नेशन चैनल लांच किया और उसे टीआरपी में अच्छा खासा मुकाम दिलाया. शैलेष लंबे समय तक आजतक न्यूज चैनल में रह चुके हैं. वे कई चैनलों को लांच करा चुके हैं.

‘इंडिया नॉऊ उत्तर प्रदेश / उत्तराखंड’ चैनल जल्द होगा लांच

‘इंडिया नॉऊ’ एक रजिस्टर्ड ब्रांड है. भारत सरकार के सूचना प्रसारण मंत्रालय के द्वारा ‘इंडिया नॉऊ’ के नाम पर टीवी न्यूज़ चैनल का लाइसेंस निर्गत हो चुका है. समूह का पहला हिंदी रीज़नल चैनल उत्तर प्रदेश / उत्तराखंड के दर्शकों के लिए लॉन्च किया जाएगा. सेक्टर 63, नोएडा में चैनल के लिए बिल्डिंग खरीदी जा चुकी है और ज़रूरी काम आरंभ हो चुका है. मौजूदा फाइनेंशियल ईयर की दूसरी तिमाही में ‘इंडिया नॉऊ’ को दर्शकों के बीच मुहैया करवाने की योजना है.

भारतीय टीवी न्यूज इंडस्ट्री में बड़ा और नया प्रयोग करने जा रहे हैं दीपक शर्मा समेत दस बड़े पत्रकार

(आजतक न्यूज चैनल को अलविदा कहने के बाद एक नए प्रयोग में जुटे हैं दीपक शर्मा)


भारतीय मीडिया ओवरआल पूंजी की रखैल है, इसीलिए इसे अब कारपोरेट और करप्ट मीडिया कहते हैं. जन सरोकार और सत्ता पर अंकुश के नाम संचालित होने वाली मीडिया असलियत में जन विरोधी और सत्ता के दलाल के रूप में पतित हो जाती है. यही कारण है कि रजत शर्मा हों या अरुण पुरी, अवीक सरकार हों या सुभाष चंद्रा, संजय गुप्ता हों या रमेश चंद्र अग्रवाल, टीओआई वाले जैन बंधु हों या एचटी वाली शोभना भरतिया, ये सब या इनके पिता-दादा देखते ही देखते खाकपति से खरबपति बन गए हैं, क्योंकि इन लोगों ने और इनके पुरखों ने मीडिया को मनी मेकिंग मीडियम में तब्दील कर दिया है. इन लोगों ने अंबानी और अडानी से डील कर लिया. इन लोगों ने सत्ता के सुप्रीम खलनायकों को बचाते हुए उन्हें संरक्षित करना शुरू कर दिया.

किसान चैनल साकार करेगा धरती से दौलत पैदा करने का सपना

भोपाल 12 सितम्बर । दूरदर्शन द्वारा प्रारम्भ किया जा रहा किसान चैनल धरती से दौलत पैदा करने का सपना साकार करेगा। हमारे देश में पुरातनकाल से यह मान्यता है कि किसान समृद्ध होगा तो देश समृद्ध होगा। खेती लाभ का धंधा बने, समस्त कृषि आधारित कार्यों को किसान से जोड़कर एक बड़ी इंडस्ट्री खड़ी की जा सके, किसानों को कृषि के संबंध में शिक्षा, सूचना एवं ज्ञान प्राप्त हो सके, ऐसे सभी प्रयासों में दूरदर्शन का किसान चैनल महत्वपूर्ण भूमिका अदा करेगा। यह विचार माखनलाल चतुर्वेदी राष्ट्रीय पत्रकारिता एवं संचार विश्वविद्यालय में मध्यप्रदेश के जनसंपर्क मंत्री श्री राजेन्द्र शुक्ल ने व्यक्त किये। वे विश्वविद्यालय द्वारा प्रसार भारती एवं मेपकॉस्ट के सहयोग से आयोजित “दूरदर्शन किसान चैनल: स्वरूप एवं रचना”  विषयक संविमर्श में बतौर मुख्य अतिथि बोल रहे थे।

जल्द शुरू होंगे किसानों और चार्टर्ड एकाउंटेंट्स के लिए टीवी चैनल

Dish tv

केन्द्र सरकार ‘डीडी किसान’ नाम का किसानों के लिए एक 24 घंटे का चैनल शुरू करने की योजना बना रही है। चैनल को जल्द से जल्द लॉन्च करने के लिए सरकार प्रसार भारती के साथ काम कर रही है। सरकार इस बात पर विचार कर रही है कि चैनल क्षेत्रीय फ़ीड के साथ एक राष्ट्रीय चैनल हो या प्रत्येक क्षेत्र के लिए अलग चैनल होने चाहिए। नया चैनल मौसम और बीज संबंधित जानकारी कृषक समुदाय को देगा। दूरदर्शन और ऑल इंडिया रेडियो (एआईआर) पहले से ही कृषि संबंधी कार्यक्रमों को चलाते हैं।