जानिए प्रिंट मीडिया के एक वरिष्ठ पत्रकार क्यों दुखी हैं टीवी न्यूज़ वालों से!

सुबह ठेला नाश्ते में एक टीवी पत्रकार मित्र मिले. कहने लगे कि तुम टीवी न्यूज़ से नाराज़ क्यूँ हो. मैंने कहा कि नाराज़ नहीं हूँ, दुखी हूँ. अब तुम लोग ना लादेन का पता बताते हो, ना बग़दादी को मारते हो, ना अल-ज़वाहिरी को पकड़ते हो. किम जोंग उन की भी ख़बर नहीं मिलती. भारत …