‘गोजए’ के रंगोत्सव में कवि-कलाकारों का जलवा

जौनपुर। गोमती जर्नलिस्ट एसोसिएशन (गोजए) की ओर से शकुंतला सेण्ट्रल एडकेमी में आयोजित हिन्दी नव संवत्सर व होली मिलन समारोह में कलाकारों ने रंगारंग कार्यक्रम प्रस्तुत कर लोगों को जमकर थिरकाया और गुदगुदाया। 

मिथिला में रंग बरसे…

मिथिला में होली खेलने की बहुत पुरानी परंपरा है। यहां की निराली होली के कहने ही क्या ! रंग और उमंग में पूरा मिथिलांचल सराबोर हो जाता है। मिथिला नरेश की इस धरती पर राम को याद किए बिना, उनके साथ रंग अबीर उड़ाए बिना सीता के मायके की होली भला कैसे पूरी हो सकती है। इस दिन हर घर, दरवाजे पर लोग पारंपरिक होली गीत गाने जाते हैं और वो भी ढ़ोल और नगाड़े के साथ।