रवीश हम आपके साथ हैं… #‎IStandWithRavishKumar‬

Ashok Kumar Pandey : रवीश से कोई दोस्ती तो नहीं पर वह मुझे जानते हैं। उनको तो खैर कौन नहीं जानता। मेले में स्टाल पर आये तो दो किताबें लीं। एक प्रशंसक ऑटोग्राफ के लिए पगलाया था। उसके हाथ में फैज़ का संकलन था आगे बढ़ा दिया। मुझसे रहा नहीं गया। पर मैं कुछ बोलूँ उसके पहले वह बोल पड़े – मैं फैज़ की किताब पर ऑटोग्राफ दूंगा? इतनी औकात नहीं है मेरी। इसे संभाल के रखिये। यह असली साहित्य है। लाइए कोई सादा काग़ज़ उस पर साइन कर देता हूँ। उस आदमी के सामने यह सेलिब्रिटी वगैरह बकवास है। Satyanand Nirupam थे वहां… उस घटना ने सम्मान जगा दिया रवीश के लिए मन में। आज जब उन पर घटिया हमले हो रहे हैं तो मैं कहना चाहता हूँ : रवीश हम आपके साथ हैं। #‎IStandWithRavishKumar‬

अशोक कुमार पांडेय के उपरोक्त फेसबुक स्टेटस पर आए कुछ प्रमुख कमेंट्स इस प्रकार हैं….

आनलाइन गुंडागर्दी से दुखी रवीश कुमार ने अपना फेसबुक और ट्विटर एकाउंट बंद कर दिया

Ambrish Kumar : पत्रकार रवीश कुमार ने अपना फेसबुक और ट्विटर एकाउंट बंद कर दिया ‘आन लाइन गुंडागर्दी’ के खिलाफ. यह शब्द ‘आनलाइन गुंडागर्दी’ भी उन्ही का गढ़ा है क्योंकि उन्हें लगातार निशाना बनाया जा रहा था. यह बहुत दुर्भाग्यपूर्ण और दुखद है. पर किसी भी तरह की गुंडागर्दी से पलायन समस्या का समाधान नहीं है. आज देश के हर जिले हर कसबे में सामान्य गुंडागर्दी जारी है. कई जगह स्कूली छात्राओं को इतना परेशान किया गया कि कई ने ख़ुदकुशी कर ली. गांव में दलित अति पिछड़ों के साथ सामन्ती व्यवहार आज भी जारी है. ऐसे में पत्रकार ही सुरक्षित रहें, यह भी संभव नहीं. पर कुछ तथ्य गौर करने वाला है.

ट्वीटर और फेसबुक पर मेरे नाम का दुरुपयोग कर घटिया बातें लिखी जा रही हैं : रवीश कुमार

मेरे नाम से समय समय पर सोशल मीडिया पर अफवाह फैलाया जाते रहता है। इस मुल्क की संस्थाएँ इतनी फटीचर हो चुकी है आप उनसे संपर्क भी नहीं कर सकते कि कौन फैला रहा है और उसके ख़िलाफ़ कार्रवाई होनी चाहिए। ट्वीटर और फेसबुक पर नकली आईडी से मेरे नाम का इस्तमाल किया जा रहा है। तस्वीर लगाकर मेरे नाम से अनाप शनाप बातें कही जा रही है। ऑनलाइन दुनिया के गुंडाराज से किसे दिक्कत नहीं हो रही है? क्या ये वही हैं जिन्हें जंगलराज से दिक्कत हो रही है? ये कैसा घटिया समाज है जो मुझे अकेला छोड़ इस गुंडागर्दी को सह रहा है। मैं गिन रहा हूँ। देख रहा हूँ।

सारा चैट सुरक्षित है, अपने लड़कियापे का नाजायज फायदा न उठाओ : यशवंत सिंह

Yashwant Singh : परसों एक लौंडिया पर शक किया कि उसकी fb id फेक लग रही है तो वो बार बार धमकावे कि unfriend kar dungi. उसकी फेक id की पहचान की प्रक्रिया में उसके परिचय और फोन आदि के बारे में फिर बहाने से तहकीकात की तो वो कहे बार बार कि unfriend kar …

भड़ास वाले यशवंत जैसे नमूने ने आज मुझे काफी मेंटल टार्चर किया : अर्चना गौतम

Archana Gautam : कोई बताएगा का फेसबुक चैट का स्क्रीन शॉट निकलते कैसे हैं? एक नमूने का निकालना है, भड़ास4मीडिया का यशवंत सिंह है कोई। पहले तो बोलता है कि आप फेक हैं और फिर नंबर मांगता है मेरी कन्फर्मेशन के लिए। उसके बाद कहता है कि तुममें बहुत घमंड है और ईश्वर उसे जरूर तोड़ेंगे और फिर गाली दे कर निकल जाता है। ऐसे नमूनों को भी देखना चाहिए कभी-कभी।

फेसबुक अपनी तरफ से कर रहा मेरा प्रचार, मैंने एक पैसा खर्च नहीं किया : बरखा दत्त

बरखा दत्त के स्पांसर्ड फेसबुकी पेज के बारे में भड़ास4मीडिया पर छपी खबर को लेकर ट्विटर पर बरखा दत्त ने अपना बयान ट्वीट के माध्यम से जारी किया. उन्होंने लोगों के सवाल उठाने पर अलग-अलग ट्वीट्स के जरिए जवाब देकर बताया कि उनकी बिना जानकारी के फेसबुक उनके पेज को अपने तरीके से प्रमोट कर रहा है. उन्होंने बताया कि फेसबुक की तरफ से उनके पास फोन आया था जिसमें ट्विटर की तरह एफबी पर भी सक्रिय होने के लिए अनुरोध किया गया. तब मैंने उन्हें कहा कि कोशिश करूंगी. ऐसे में एक भी पैसा देने का सवाल ही नहीं उठता. बिलकुल निराधार खबर भड़ास4मीडिया पर प्रकाशित हुई है. 

पैसे वाली पत्रकार हैं बरखा दत्त, फेसबुक लाइक तक खरीद लेती हैं!

Yashwant Singh : बरखा दत्त इन दिनों फेसबुक पर खूब सक्रिय हो गई हैं. उन्होंने अपने फेसबुक पेज पर इस बाबत लिखा भी है. साथ ही कई कहानियां किस्से विचार शेयर करना शुरू कर दिया है. बरखा समेत ज्यादातर अंग्रेजी पत्रकारों की प्रिय जगह ट्विटर है. लेकिन सेलेब्रिटी या बड़ा आदमी होने का जो नशा होता है, वह फेसबुक पर भी ले आता है, यह जताने दिखाने बताने के लिए यहां भी मेरे कम प्रशंसक, फैन, फालोअर, लाइकर नहीं हैं. सो, इसी क्रम में अब ताजा ताजा बरखा दत्त फेसबुक पर अवतरित हुई हैं और अपने पेज पर लाइक बढ़ाने के लिए फेसबुक को बाकायदा पैसा दिया है. यही कारण है कि आजकल फेसबुक यूज करने वाले भारतीयों को बरखा दत्त का पेज बिना लाइक किए दिख रहा है. पेज पर Barkha Dutt नाम के ठीक नीचे Sponsored लिखा है.

शादी की खबर फैलते ही Amrita Rai ट्विटर ट्रेंड्स में सबसे टॉप पर पहुंचीं

कांग्रेस नेता दिग्विजय सिंह से शादी कर लेने की सूचना को पत्रकार अमृता राय ने फेसबुक पर पोस्ट किया और इस तरह शादी की अटकलों की पुष्टि कर दी. इसके कुछ घंटे के भीतर ही यह खबर मीडिया जगत में फैलने लगी. इस वक्त Amrita Rai शब्द ट्विटर पर ट्रेंडिंग में सबसे शीर्ष पर है. दरअसल आज अंग्रेजी अखबार इंडियन एक्सप्रेस ने अपने सूत्रों के हवाले से दिग्विजय और अमृता की शादी की खबर पब्लिश की है.

दिग्विजय सिंह और अमृता राय की शादी ने समाज को नया रास्ता दिखाया है

Sadhvi Meenu Jain : खबर है कि दिग्विजय सिंह ने अमृता राय से विवाह कर लिया है. खबर सुनकर चुस्की लेने या सिंह की नैतिकता / अनैतिकता से इतर मैं इस बहाने एक दूसरे विषय पर बात करना चाहती हूँ. हमारा समाज विधवा / विधुर / तलाकशुदा वरिष्ठ नागरिकों को दोबारा से एक नया जीवनसाथी चुनने की इजाजत क्यों नहीं देता और जो समाज की धारणा के विपरीत जाकर ऐसा कर भी लेते हैं उनका मखौल उड़ाया जाता है. उन पर ‘चढ़ी जवानी बुढ्ढे नूं’ ‘बुड्ढा जवान हो गया’ ‘तीर कमान हो गया’ ‘बुड्ढी घोड़ी, लाल लगाम’ जैसी फब्तियां कसी जाती हैं.

वीडियो एडिटर को चैनल से क्लिप चुरा कर वायरल करना पड़ा महंगा, अरेस्ट

चैनल से क्लिप चुरा कर लीक करने की ढेर सारी घटनाएं हुई हैं जिससे कई किस्म के खुलासे भी हुए. आमतौर पर ऐसे मामलों में चैनल के अंदर काम करने वालों की भूमिका होती है. कई बार ये काम जनहित में बहुत बड़ा होता है क्योंकि चैनल जिस खबर सूचना बातचीत को दबाना चाहता है, एडिट कर देता है, उसे लीक करके जनता के सामने ला दिया जाता है ताकि सच्चाई सामने आ सके.

टीवी पत्रकार स्वाति चतुर्वेदी पर ट्विटर से कई सेक्सिस्ट टिप्पणियां करने वाले अंग्रेजी के एक बड़े पत्रकार जाएंगे जेल

(टीवी पत्रकार स्वाति चतुर्वेदी)


Deepak Sharma : महिलाओं का सम्मान किया जाना चाहिए. चाहे वो कर्मचारी हों या अधिकारी. चाहे वो पत्रकार हों या टीवी पर खबर पढ़ने वाली एंकर. भाषा का संयम और भद्रता अनिवार्य है. वरना वही हाल होगा जो अब दिल्ली के अंग्रेजी अखबार के एक बड़े पत्रकार का होने वाला है. इन्होंने अपने ट्विटर अकाउंट से टीवी पत्रकार स्वाति चतुर्वेदी पर कई सेक्सिस्ट टिप्पणियां की और आज़िज़ आकर स्वाति ने पुलिस में रिपोर्ट लिखवा दी.

सोशल मीडिया पर खूब शेयर हो रही बाबा रामदेव और बालकृष्ण की ये तस्वीर, जानें क्यों…

 

जब तक कांग्रेस की सरकार केंद्र में थी, बाबा रामदेव रोज काला धन की हुंकार भरते थे. काला धन का हिसाब अपने भक्तों और देशवासियों को बताते थे कि अगर वो काला धन आ गया तो देश की सारी समस्याएं हल हो जाएंगी. काला धन के मुद्दे को नरेंद्र मोदी ने भी लपका और बाबा रामदेव की मुहिम को समर्थन किया. माना जाने लगा कि रामदेव और नरेंद्र मोदी की जोड़ी अगर जीतकर केंद्र में सरकार बनाने में सफल हो गई तो यह तो तय है कि देश में काला धन वापस आ जाएगा. लेकिन जोड़ी के जीतने और सरकार बनाने के बावजूद काला धन देश वापस नहीं आया.

दसवीं पास हैं तो तीन महीने में पत्रकार बनें!

जी हां. ये दावा है एक विज्ञापन का. विज्ञापन में बताया गया है कि उन्हें तीन महीने में क्या क्या सिखाया जाएगा ताकि पत्रकार बन सकें. साथ ही पांच सौ रुपये अलग से देने पर उन्हें क्या अलग ज्ञान दिया जाएगा. सोचिए. दसवीं पास अगर तीन महीने की ट्रेनिंग के बाद पत्रकार बन गया तो वह क्या देश समाज को दिशा देगा और सच्चाई को क्या कितना समझ पाएगा. जिनको खुद अपने ज्ञान को अपडेट करने की जरूरत है, वही जब पत्रकार बनकर सही गलत का फैसला करेंगे तो जाहिर तौर पर उनका दकियानूसी माइंडसेट आम जन और समाज का बहुत नुकसान करेगा. दसवीं पास पत्रकार बनने का यह विज्ञापन आजकल सोशल मीडिया पर खूब शेयर किया जा रहा है और लोग पत्रकारिता के गर्त में गिरने को लेकर चिंता जता रहे हैं.

भाजपा के आईटी सेल ने नरेंद्र मोदी के सोशल मीडिया समर्थकों में कराया दो-फाड़!

Sharad Tripathi : नरेंद्र मोदी के सर्वाधिक मजबूत गढ़ “सोशल मीडिया” पर पार्टी के भीतर से ही अबतक का सबसे बड़ा और सफल हमला. हमले में पार्टी के IT CELL गैंग ने निभायी निर्णायक और महत्वपूर्ण भूमिका. केंद्र में सत्तारूढ़ होते ही दिल्ली के “अंधाधुंध” भाजपाई दरबार में कैसे कैसे गधे पंजीरी खा रहे हैं और कैसे कैसे बंदरों के हाथों में किस किस तरह के उस्तरे चमक रहे हैं इसका सर्वाधिक शर्मनाक उदाहरण दो दिन पूर्व सामने आया है.

यूट्यूब की तरह फेसबुक भी वीडियो अपलोड करने वालों को देगा कमाई करने का मौका

जैसे यूट्यूब पर लोग वीडियो अपलोड करके पैसे कमाते हुए, उसी तरह फेसबुक पर भी ओरिजनल वीडियो अपलोड करने वाले कमाई कर सकते हैं. फेसबुक एक नया फीचर जोड़ने जा रहा है. इसके तहत अगर आप अपनी टाइमलाइन या फेसबुक पेज पर कोई वीडियो अपलोड करते हैं तो फेसबुक उस पर एड चलाएगा और इससे होने वाली आमदनी को आपके साथ शेयर भी करेगा. वीडियो ओरिजनल होना चाहिए और उस पर किसी का कॉपीराइट नहीं होना चाहिए.

और भाजपा के मंत्री महोदय महिला डाक्टर का कालर ठीक करने लगे… फोटो हुई वायरल

ये वो तस्वीर है जो सोशल मीडिया पर वायरल हो गई है. जो शख्स इसमें दिख रहे हैं वो मंत्री हैं और भाजपा नेता भी. महिला डॉक्टर का कॉलर पकड़े ये मंत्री जी उसे बता रहे हैं कि कालर कैसे रखना चाहिए. मंत्री का नाम चौधरी लाल सिंह है. ये जम्मू-कश्मीर सरकार में मंत्री हैं. चौधरी लाल सिंह की ये तस्वीर सोशल मीडिया पर फैल गई है. इसमें उन्हें एक महिला डॉक्टर का कॉलर ठीक करते हुए देखा जा सकता है.

दिल्ली में ‘पीपली लाइव’ : वो फांसी लगाता रहा और तुम लाइव रिपोर्टिंग में लगे रहे…

Sheetal P Singh : दौसा, राजस्थान से दिल्ली आकर एक किसान ने केजरीवाल की रैली के दौरान पेड़ पर फन्दा डालकर आत्महत्या की कोशिश की। राजस्थान और केन्द्र में पूर्ण बहुमत की बीजेपी की सरकारें हैं पर वहाँ का किसान भी आत्महत्या कर ले तो टीवी चैनल केजरीवाल को कैसे दोषी सिद्ध कर सकते हैं, बीजेपी का नाम भी लिये बिना, यह इस समय देखने लायक है! किसान “आप” की रैली में फाँसी चढ़ा : इसको तो रिपोर्ट करो, गढ़ो, फैलाओ… लेकिन किसान फाँसी क्यों चढ़ा : इसे पूरी तरह गोल कर जाओ… मीडिया के पाखंड का सूक्त…

Ajay Bhattacharya : वो फांसी लगाता रहा और तुम लाइव रिपोर्टिंग में लगे रहे. कैमरा छोड़कर उसे थाम लेते तो एक जिंदगी बच जाती. जो तुम्हारी खबर से कहीं ज्यादा महत्वपूर्ण थी. खुद को मीडिया वाले कहते हो?

फेसबुक ने लेखक-पत्रकार अमरेंद्र किशोर के अकाउंट को बिना किसी कारण बताये बंद कर दिया

(अमरेंद्र किशोर)


: फेसबुक का मनमानापन भारत में अघोषित आपातकाल की ओर इशारा कर रहा है – अमरेंद्र किशोर : फेसबुक ने लेखक-पत्रकार अमरेंद्र किशोर के अकाउंट को बिना किसी कारण बताये बंद कर दिया है। अमरेंद्र ने बीते शुक्रवार को यह जानकारी दी। उन्होंने कहा कि वह अपने कॉलेज के जमाने से ही सांप्रदायिक ताक़तों के खिलाफ लिखते रहे हैं और ख़ास तौर से राज-व्यवस्था में फिरकापरस्त ताक़तों के  बढ़ते वर्चस्व को खारिज किया है। फेसबुक की इस कार्रवाई को अमरेंद्र ने पूरी तरह से घटिया करार देते हुए फेसबुक के कट्टरपंथी भावना से मुक्त होने के दावे पर सवाल उठाए हैं। अमरेंद्र ने जोर देकर कहा कि हाल के दिनों में उन्होंने केंद्र सरकार द्वारा प्रस्तिवित भूमि-बिल, हरियाणा के मुख्यमंत्री का अचानक उभर आया गीता-प्रेम और मोदी सरकार के वादों के सन्दर्भ में जमकर फेसबुक पर सवाल उठाये थे। इनमें श्रीमद्भागवत गीता के सामाजिक सरोकारों पर अमरेंद्र द्वारा उठाये गए सवालों को लेकर फेसबुक पर जमकर मोदी समर्थकों ने आपत्ति प्रकट की थी।

मेरी इस सुंदर-सी फेसबुक दोस्त ने कल आधी रात के बाद सुसाइड कर लिया और मैं अनजान रहा…

Yashwant Singh : मेरी इस सुंदर-सी फेसबुक दोस्त ने कल आधी रात के बाद सुसाइड कर लिया और मैं अनजान रहा… अपने फेसबुक फ्रेंड और प्रतिभाशाली युवा लिक्खाड़ नितिन ठाकुर की पोस्ट पढ़कर ठिठक गया. दुबारा-तिबारा पढ़ा. अंशु सचदेवा ने खुदकुशी कर ली. उन्होंने यह जानकारी देते हुए अंशु का फरवरी महीने का एक स्टेटस शेयर किया जिसमें अंशु सचदेवा ने लिखा है: ”वो अफसाना जिसे अंजाम तक लाना ना हो मुमकिन, उसे एक खूबसूरत मोड़ दे के छोड़ना अच्छा”. यह सब पढ़ के सोचा कि देखूं, कहीं अंशु सचदेवा मेरी फ्रेंड लिस्ट में तो नहीं. देखा तो ऐसा ही निकला. अंशु सचदेवा मेरी फेसबुक फ्रेंड हैं. 16 अप्रैल तक उन्होंने अपना स्टेटस अपडेट किया हुआ है. उनकी वॉल और उनकी पोस्ट्स और उनकी तस्वीरें देखकर कोई अंदाजा नहीं लगा सकता कि यह खूबसूरत संगीतमय लड़की अचानक सुसाइड कर लेगी.

इसीलिए तो ये PRESSTITUTE कहलाते हैं… फिर सारे क्यूं दिल पर ले रहे हैं…

Rajat Amarnath : जब पत्रकार कलम के ज़रिऐ चैनल के अख़बार के मालिक बन जाते हैं और दो नंबर का धंधा करने वाले मालिक अपना धंधा बचाने के लिऐ पत्रकार बन जाते हैं (वो भी शामिल हैं जो जोड़तोड से सरकार का गुणगान करके इनाम लेते हैं) तभी वो “PRESSTITUTE” कहलाते हैं. सारे क्यूं दिल पर ले रहे हैं.

वीके सिंह पर बड़ा सवाल पूछने वाला एबीपी न्यूज खुद सवालों के घेरे में घिरा

फेसबुक और ट्विटर पर एबीपी न्यूज की तरफ से एक बड़ा सवाल पूछा गया है. लेकिन जो सवाल है, वह खुद सवाल के घेरे में है. वजह है पूछे गए सवाल के वाक्य संरचना में गलती. एक छोटी-सी गलती के कारण अर्थ का अनर्थ हो रहा है. लोग मजे ले लेकर इसे शेयर कर रहे हैं. इस तरह एबीपी न्यूज ने जो सवाल पूछा, वह तो गौण हो गया. प्रमुख हो गया एबीपी न्यूज द्वारा की गई गलती.

सहारा के रिपोर्टर आजकल बांट रहे डाइरेक्टर की बेटी की शादी के कार्ड

लखनऊ : सहारा लखनऊ के संपादक मनोज तोमर अपने रिपोर्टरों से न्यूज का काम रुकवा कर डाइरेक्टर ओपी श्रीवास्तव की बेटी की शादी के कार्ड बंटवा रहे हैं। 

bhadash4media से वैकल्पिक मीडिया की ताकत मिली तो लांच कर दिया ऑनलाइन चैनल ‘newsnationonline’

”आदरणीय यशवंत जी, प्रभु कृपा और आपके आशीर्वाद से अपना वेब न्यूज़ चैनल ‘न्यूज़ नेशन ऑनलाइन’ के नाम से लांच कर दिया हैं। इस बारे आपसे फ़ोन पर भी बात हुई थी। bhadash4media ने ही हमे यह ताकत दी वरना मध्यमवर्गीय परिवार में पैदा हुआ एक अदना पत्रकार यह कैसे साहस कर सकता था।

Protest in arrest on FB comment on Azam Khan’s pressure

Social activists, led by Dr Nutan Thakur, today protested at Gandhi Statue, Hazratranj, Lucknow against arbitrary arrest of Class XI student for FB comment saying that this is complete State highhandedness undertaken purely on Azam Khan’s pressure. They included Devendra Dixit, Sharad Mishra, Anupam Pandey, Rohit Tripathi, Dr Praveen and others.

झूठ, घंटा और मोदी (चुटकुला)

यमराज : हे चित्रगुप्त, हर आदमी के नाम पर एक ऐसी मशीन बना जो झूठ बोलने पर बजने लगे ताकि पता चल सके कौन बदमाश झूठ बोल रहा है…!!

चित्रगुप्त : ठीक है प्रभु…!!

चित्रगुप्त ने एक घंटा बनवाया. उसमें लाई-डिटेक्टर समेत कई तरह के एप इंस्टाल किए. प्रत्येक घंटा का सेंसर संबंधित व्यक्ति से ब्लूटूथ-वाईफाई के जरिए मैनुवली कनेक्ट-अटैच किया.

अखबारों और न्यूज चैनलों के फेसबुक पेज न्यूज की आड़ में गंदगी परोसते हैं

Sushant Jha : पिछले साल भर में जितने भी हिंदी समाचार पत्र या चैनलों के फेसबुक पेज थे लगभग सबको अनलाइक कर चुका हूं, क्योंकि ये सिर्फ न्यूज की आड़ में ‘गंदगी’ परोसते हैं। फेसबुक पेज पर भी वे ऐसी खबरों को प्रमोट करेंगे जो अरुचिपूर्ण हो, अव्वल आप उनकी साइट पर देखें तो भले ही वो खबरें पूरी खबरों में महज 5 फीसदी हो-लेकिन फेसबुक पर अक्सर पोर्न किस्म की खबरें ही प्रमोट की जाती है या उसका एक शातिराना अंतराल होता है।

टाइम्स आफ इंडिया में खबर दब सकती है लेकिन फेसबुक पर नही : दीपक शर्मा

Deepak Sharma : टाइम्स ऑफ़ इंडिया देश का सबसे रसूखदार अख़बार है. इसके मालिक की हैसियत मोदी जैसी नही तो मोदी से कम भी नही. टाइम्स के देश में 7.20 करोड़ पाठक है. टाइम्स की एक प्रति का दिल्ली में मूल्य 4.50 रूपए है. एक पाठक के तौर पर आपकी हैसियत टाइम्स में वैसी ही है जो किसी दूकान से कोई सामान खरीदते वक़्त किसी की होती है. यानी आप एक ग्राहक है.

डीडी न्यूज वालों की जय हो, अबकी मोदी बंदर कथा

डीडी न्यूज वाले लगातार गलती पर गलती करते जा रहे हैं. ताजा मामला भी ट्वीट से जुड़ा है. डीडी न्यूज की तरफ से ट्वीट किया गया- “A man dressed as Santa Claus feeds monkeys ahead of Christmas”. लेकिन इस कैप्शन के साथ जो तस्वीर लगाई गई उसमें नरेंद्र मोदी बैठक की अध्यक्षता कर रहे हैं और बैठक में Amit Shah, Arun Jaitley, Sushma Swaraj और Rajnath Singh हैं. लोग सोच में पड़ गए कि आखिर इस तस्वीर में क्या मोदी सांता हैं और बंदर बाकी लोग?

फेसबुक वालों ने सुब्रमण्यम स्वामी का ओरीजनल एकाउंट डिलीट कर दिया

अदभुत कांड हो गया है. फेसबुक वालों ने भाजपा नेता सुब्रमण्यम स्वामी का ओरीजनल एकाउंट डिलीट मार दिया है. हुआ ये कि एक रोज सुब्रमण्यम स्वामी ने फेसबुक को मेल भेज कर कहा कि उनके नाम का एक पैरोडी एकाउंट चल रहा है, इसे हटा दो वरना मुकदमा कर दूंगा. फेसबुक वालों को जाने क्या सूझा कि उन्होंने सुब्रमण्यम स्वामी का ओरीजनल एकाउंट डिलीट कर दिया और फर्जी एकाउंट को चलने दिया.

निखिल वागले को अगर मौका मिला तो वह बलात्कारी बन सकते हैं!

ट्वीटर पर पत्रकार निखिल वागले ने पेशावर घटनाक्रम को लेकर ट्वीट किया कि भारत में आरएसएस परिवार भले तालिबान की तरह ना हो लेकिन अगर उन्हें मौका मिला तो तालिबानी बन सकते हैं.