धन्यवाद सुप्रीम कोर्ट, शर्मनाक सुब्रतो रॉय !

आज देश की सर्वोच्च अदालत ने ठीक वही कहा, जो हम शुरू से कहते आ रहे हैं. सहारा के मालिक सुब्रतो रॉय की सबसे बड़ी धूर्ततापूर्ण बात तो यही थी कि इतनी बड़ी कम्पनी का मालिक होते हुए भी अपने आप को सहारा परिवार का मुखिया कहता था और पूरे साम्राज्य का मनचाहा इस्तेमाल करता था. 

सुब्रतो की ज़मानत पर फ़ैसला आज, पांच माह से वेतन के बिना बे-सहारा स्टॉफ को बेचैनी से इंतजार

सहारा सुप्रीमो सुब्रत रॉय की जमानत पर सुप्रीम कोर्ट में आज गुरुवार को सुनवाई होने वाली है। सुब्रत रॉय के वकीलों ने दावा किया है कि उनकी जमानत की रकम का इंतजाम हो चुका है। इसके बाद कयास लगाए जा रहे हैं कि करीब एक साल से तिहाड़ जेल में सजा काट रहे सहारा प्रमुख जमानत पर आज रिहा हो सकते हैं। सुब्रत राय की रिहाई का अगर सबसे ज्यादा बेचैनी से किसी को इंतजार है तो राष्ट्रीय सहारा के मीडिया कर्मियों को। उन्हें पांच-छह महीने से सैलरी ही नहीं दी जा रही है।