इंडिया न्यूज़ ने फिर एबीपी न्यूज़ को पछाड़ा, आजतक को सर्वाधिक नुकसान, ज़ी न्यूज़ निकला न्यूज़ नेशन से आगे

32वें हफ्ते की टीआरपी में एबीपी न्यूज़ फिर नंबर चार पर आ गया है। इंडिया न्यूज़ ने तगड़ी उछाल के साथ नंबर चार की कुर्सी अपने कब्ज़े में कर ली है। नुकसान के मामले में आजतक को सबसे ज्यादा झटका लगा है। हालाँकि इसके बावजूद आजतक नंबर वन चैनल बना हुआ है। ज़ी न्यूज़ लगातार बेहतर करते हुए इस हफ्ते नंबर पांच पर आ गया है। उसने न्यूज़ नेशन को पछाड़ दिया है। देखें आंकड़े…

इंडिया न्यूज और न्यूज नेशन ने जी न्यूज को पानी पिला रखा है

: 13वें हफ्ते की टीआरपी : कई हफ्तों से तीसरे नंबर से भी खिसके हुए एबीपी न्यूज चैनल ने अब फिर से अपनी तीन नंबर की कुर्सी हासिल कर ली है. इंडिया न्यूज का पतन शुरू हो गया है और वह अब तीन से चार नंबर पर चला आया है. उधर, जी न्यूज के बुरे दिन जारी हैं. कभी यह दो नंबर का चैनल था. फिर तीन नंबर पर पहुंचा. फिर चौथे पोजीशन पर संतोष करना पड़ा. अब तो यह छठवें नंबर का चैनल हो गया है.

‘एबीपी न्यूज’ और ‘जी न्यूज’ ने तगड़ी छलांग लगाकर जो खोया वो पाया, ‘इंडिया न्यूज’ पुनर्मूषकोभव:

इस साल के सातवें हफ्ते की टीआरपी में इंडिया न्यूज फिर उसी स्थान पर पहुंच गया है जहां पर वह था. हालांकि वह अब भी न्यूज नेशन से आगे है. एबीपी न्यूज और जी न्यूज ने तगड़ी छलांग लगाकर अपना पुराना तीसरे व चौथे स्थान वाला रुतबा हासिल कर लिया है. इंडिया न्यूज लगातार दो हफ्तों से नंबर तीन पर रहने के बाद अब पांचवें पोजीशन पर आ गया है. न्यूज नेशन अब भी इंडिया न्यूज से पीछे है और छठें स्थान पर है.

इंडिया न्यूज ने रचा इतिहास, तीसर नंबर की कुर्सी पर लगातार दूसरे हफ्ते भी कब्जा

दीपक चौरसिया के प्रधान संपादकत्व वाले न्यूज चैनल इंडिया न्यूज ने लगातार दूसरे हफ्ते भी टाप थ्री चैनलों की लिस्ट में अपना नाम दर्ज कराए रखा है. इस साल के छठें हफ्ते की टीआरपी में भी इंडिया न्यूज नंबर तीन पर है जबकि एबीपी न्यूज को लगातार चौथे पोजीशन पर रहना पड़ रहा है. अभी तक तीन नंबर चैनल का खिताब एबीपी न्यूज के पास था. जी न्यूज की दुर्गति सबसे ज्यादा हुई है जो अब पांचवें नंबर पर सिमट गया है. न्यूज नेशन को सातवें स्थान पर संतोष करना पड़ा है जो कभी टाप थ्री चैनल्स की लिस्ट में था. देखें छठें हफ्ते की टीआरपी…

इंडिया न्यूज धमाका करते हुए तीसरे नंबर का चैनल बन गया, जी न्यूज धड़ाम होते हुए नंबर छह पर अटका

इस साल के पांचवें हफ्ते की टीआरपी में इंडिया न्यूज की बल्ले बल्ले है. दीपक चौरसिया के प्रधान संपादकत्व में चनले वाला यह चैनल नंबर तीन की पोजीशन पर आ खड़ा हुआ है. पूरे 2.9 की छलांग लगाकर इंडिया न्यूज ने यह सफलता पाई है. एबीपी न्यूज को नंबर चार और जी न्यूज को नंबर छह पर संतोष करना पड़ा है. जी न्यूज को सबसे ज्यादा नुकसान हुआ है. इसकी रेटिंग 1.4 गिरी जिसके कारण यह सीधे छठवें स्थान पर आ गिरा. आजतक ने भी जबरदस्त सफलता पाई है. उसे 2.6 का लाभ मिला जिसके कारण उसने नंबर दो इंडिया टीवी से अपना अंतर और ज्यादा कर लिया है.

मोदी का जादू चुक गया, चैनल अब नहीं दिखा रहे लाइव कवरेज

मोदी के भाषण अब चुक गए हैं. उनका जादू खत्म हो चुका है. इसलिए उनकी अब टीवी चैनलों को जरूरत नहीं. एक दौर था जब मोदी के भाषण को घंटों दिखाने के कारण टीवी चैनलों की टीआरपी आसमान पर थी. तब मोदी खुद को नंबर वन होने का दावा कर रहे थे. लोकसभा चुनाव के दौरान तो प्रधानमंत्री का इंटरव्यू लेने की प्रतिस्पर्धा चल पड़ी थी. मोदी भी अपने अनुसार चैनलों को चुनकर उनको खूब टीआरपी दिलवा रहे थे. शायद इसी का असर रहा कि कुछ टीवी चैनलों को इसका खूब लाभ मिला. मोदी अपने भाषणों से चैनलों को टीआरपी देते चले गए और मोदी चैनलों के मुनाफे के धंधे में तब्दील हो गए.

आजतक सबसे ज्यादा फायदे में, न्यूज24 को सर्वाधिक नुकसान

इस साल के चौथे हफ्ते की टीआरपी से पता चलता है कि आजतक ने नंबर एक की कुर्सी पर अपनी पकड़ और ज्यादा मजबूत कर ली है. इस हफ्ते सबसे ज्यादा टीआरपी वाइज फायदा आजतक को हुए है. पिछले हफ्ते के मुकाबले इस हफ्ते 1.6 के फायदे के साथ आजतक की टीआरपी अब 19.6 हो गई है और इंडिया टीवी 14.5 के साथ नंबर दो पर है.

साल के दूसरे हफ्ते में न्यूज24 और इंडिया न्यूज को सर्वाधिक फायदा, सबसे बुरा हाल जी न्यूज का

इस साल के दूसरे हफ्ते के दौरान टीआरपी के मामले में सबसे ज्यादा फायदे में न्यूज24 रहा. इसके बाद इंडिया न्यूज ने अच्छी छलांग लगाई है. सबसे बुरे हाल में अगर कोई चैनल है तो वो है जी न्यूज. यह छठवें स्थान पर लुढ़कर कर आ चुका है. इंडिया न्यूज ने 1.4 का फायदा लेकर अपनी टीआरपी को जी न्यूज और न्यूज नेशन से आगे निकाल लिया है. इस कारण इंडिया न्यूज अब चौथे पोजीशन पर पहुंच गया है. न्यूज नेशन लुढ़क कर पांचवें और जी न्यूज छठें स्थान पर है.