टीआरपी चौथा हफ्ता : इंडिया न्यूज ने आखिरकार न्यूज नेशन को परास्त कर दिया

चौथे हफ्ते की टीआरपी में एक बड़ा उलटफेर पांचवें और छठें पायदान पर देखने को मिल रहा है. इंडिया न्यूज ने छलांग लगाते हुए न्यूज नेशन चैनल को लुढ़का दिया है और खुद नंबर पांच की पोजीशन पर पहुंच गया है. एनडीटीवी को इस हफ्ते लाभ हुआ है लेकिन आईबीएन7 का पतन जारी है. नंबर एक और नंबर दो पर तैनात न्यूज चैनलों आजतक व इंडिया टीवी के बीच फासला काफी कम रह गया है. यह आजतक के लिए खतरे की घंटी है. टीआरपी के आंकड़े इस प्रकार हैं….

न्यूज नेशन नंबर चार तक पहुंच गया, जी न्यूज रसातल की ओर

इस साल के तीसरे हफ्ते की टीआरपी में सबसे बड़ा उलटफेर जी न्यूज और न्यूज नेशन के बीच हुआ है. जी न्यूज जो लगातार चौथे नंबर का चैनल बना हुआ था, अब पांचवें नंबर पर खिसका कर भगा दिया गया है. न्यूज नेशन ने चार नंबर की कुर्सी अपने नाम कर ली है. इस तरह जी न्यूज रसातल की ओर चल पड़ा है. मोदी और सरकार का चौबीसों घंटे गुणगान करने का खामियाजा चैनल को भुगतना पड़ रहा है. आईबीएन7 की स्थिति थोड़ी सुधरी है और यह एनडीटीवी से उपर निकल गया है. टीआरपी के आंकड़े इस प्रकार हैं….

टीआरपी सेकेंड वीक : सारे चैनल ठंड में ठिठुर रहे, अपनी-अपनी जगह बर्फ बने

दिल्ली समेत पूरा उत्तर भारत जब ठंड में ठिठुर सिकुड़ रहा हो तो भला चैनल कैसे दाएं बाएं हो जाएं. दूसरे हफ्ते की टीआरपी देखकर लगता तो यही है कि ठंड का असर चैनलों पर काफी है. जो जहां है, वहीं बर्फ बना हुआ जमा है. आजतक आधा प्वाइंट बढ़ा है तो इंडिया टीवी आधा प्वाइंट घटा है. लेकिन इस बढ़ाव घटाव का कोई मतलब नहीं क्योंकि दोनों क्रमश: नंबर एक और नंबर दो वाली अपनी अपनी पुरानी चिरस्थाई जगह पर अड़े डंटे हैं. एबीपी न्यूज, जी न्यूज भी उसी तरह हैं. जी न्यूज के करीब पहुंचता जा रहा है न्यूज नेशन. सारा हाल जानने के लिए देखें टीआरपी….

‘आजतक’ को सबसे ज्यादा फायदा, ‘एबीपी न्यूज’ की नजर ‘इंडिया टीवी’ वाली नंबर दो की कुर्सी पर

बीते साल के आखिरी हफ्ते की हिंदी न्यूज चैनलों की टीआरपी में सबसे ज्यादा फायदा अगर किसी को मिलता दिख रहा है तो वो है आजतक न्यूज चैनल. पूरे 1.7 की छलांग के साथ आजतक ने नंबर दो इंडिया टीवी से काफी बढ़त ले ली है. वहीं इंडिया टीवी के सामने नंबर दो की कुर्सी बचाए रखने की भी चुनौती दिख रही है क्योंकि एबीपी न्यूज ने तरक्की की है और दोनों के बीच का फासला बेहद कम हो चुका है. नंबर पांच पर न्यूज नेशन बना हुआ है लेकिन टीआरपी वाइज इसका नुकसान काफी हुआ है. सबसे खराब स्थिति आईबीएन7 की है. पुराने और घिसे-पिटे मोहरों को दर्शक पसंद नहीं कर रहे और अंबानी का चैनल होने के कारण जरूरी खबरों को न दिखाया जाना भी इस चैनल के पिटने का बड़ा कारण बना हुआ है. देखिए टीआरपी के आंकड़े….

टीआरपी : 51वां हफ्ता : आजतक के बेहद करीब पहुंच गया इंडिया टीवी, तरक्की की राह पर एबीपी न्यूज और न्यूज नेशन

इस साल के 51वें हफ्ते की टीआरपी आजतक और इंडिया टीवी दोनों के लिए नुकसानदायक रही. दोनों के शेयर में जबरदस्त गिरावट आई. इस गिरावट के बाद आजतक के बेहद करीब नजर आ रहा है इंडिया टीवी. बहुत मामूली सा फर्क है. एबीपी न्यूज ने ठीकठाक ग्रोथ की है. न्यूज नेशन लगातार तरक्की कर रहा है और यह जी न्यूज के गले तक पहुंच गया है. ऐसे ही बढ़ता रहा तो नंबर चार की जी न्यूज की कुर्सी हिल सकती है. एबीपी न्यूज नंबर तीन पर मजबूती से बना हुआ है और बढ़ान पर है. हिंदी व अंग्रेजी न्यूज चैनलों के विभिन्न पैरामीटर पर टीआरपी के आंकड़े इस प्रकार हैं…

49वें और 50वें हफ्ते की TRP : ‘India TV’ से बुरी तरह पिटा ‘Aaj Tak’ फिर निकला आगे, Ibn7 का चरम पतन

49वें हफ्ते में India TV ने Aaj tak को बुरी तरह पीटा और नंबर वन बन गया. लेकिन आजतक न्यूज चैनल ने 50वें हफ्ते में फिर से आगे निकलकर नंबर वन की अपनी पदवी हासिल कर ली है. 49वें हफ्ते में आजतक ने 1.9 का गोता लगाया था लेकिन 50वें हफ्ते में इसने 1.6 की बढ़त ले ली. News Nation को 50वें हफ्ते में काफी नुकसान हुआ है लेकिन वह नंबर पांच पर बना हुआ है और India News से बढ़त लिए हुए है.

48वें हफ्ते की टीआरपी : सबसे ज्यादा फायदा आजतक को

48वें हफ्ते की टीआरपी में सबसे ज्यादा फायदा आजतक न्यूज चैनल को हुआ है. साथ ही नंबर दो पर मौजूद इंडिया टीवी ने भी अच्छी खासी टीआरपी बटोरी है. एबीपी न्यूज को काफी नुकसान हुआ है, बावजूद इसके यह नंबर तीन पर बना हुआ है. जी न्यूज को फायदा नहीं हुआ इस हफ्ते तो नुकसान भी बस मामूली हुआ है. न्यूज नेशन चैनल को टीआरपी भी ठीकठाक मिली है. यह चैनल इंडिया न्यूज से आगे निकल गया है. आईबीएन7 यथास्थान है और नीचे जाने के लिए उन्मुख दिख रहा है.

मीडिया की टीआरपी भूख ने ”निर्लज्जाओं” को ”मर्दानी” में तब्दील कर दिया…

Atul Kumar Agarwal : हरियाणा के लोगो से निवेदन है की इन लड़कियों से सावधान रहें… ये मर्दानी नहीं बल्कि निर्लज्जा हैं… किसी भी लड़के से भीड़ में बहस करना और फिर उस पर हाथ उठाना इनका पेशा है। जिन तीन सेना के लड़कों पर इन्होंने हाथ उठाया, उनमें से एक ही काफी था इन दोनों निर्लज्ज लड़कियो के लिए… लेकिन फिर भी उन तीनों ने इन अबला लड़कियों पर हाथ न उठाकर इनका सम्मान किया और इन्होंने उनके ऊपर झूठे आरोप लगाये जबकि उसी बस की एक बुजुर्ग महिला ने बयान दिया की इन लड़कियों ने ही झगड़ा शुरू किया था, कोई छेड़छाड़ नहीं हुयी… इन लड़कियो ने पहले भी एक लड़के पर हमला किया था और उसकी वीडियो बनायी थी… मतलब ये लड़कियां हमेशा कैमरा साथ लेकर चलती हैं… और वीडियो बनाकर लोगों को ब्लैकमेल करती हैं… कुलदीप, दीपक और मोहित का चयन भारतीय सेना में हुआ था. कुलदीप 5 बहनों का इकलौता भाई है… दीपक के माँ बाप अक्सर बीमार रहते हैं…और मोहित बहुत ही गरीब माँ बाप का बेटा है… इन लड़कों का सेना में चयन इनके माँ बाप के लिए किसी वरदान से कम न था. लेकिन इन दो निर्लज्ज लड़कियों ने अपनी कुटिल चाल से सबकी ज़िन्दगी तबाह कर दी…. आज जरूरत है ऐसी तथाकथित मर्दानियों को सबक सिखाने की… जब लोमड़ी शेर को बार बार ललकारे तो शेर को भी एकदहाड़ मार ही देनी चाहिए… जागिये…कहीं अगला शिकार आप न हों … इनसे बचकर रहें… सीता को सम्मान दें और सूर्पनखा की नाक काट दें…

47वें सप्ताह की टीआरपी : इंडिया टीवी डाउन, आईबीएन7 का पतन, न्यूज नेशन और न्यूज एक्सप्रेस को छलांग, न्यूजएक्स की हालत बुरी

47वें हफ्ते की टीआरपी देखने पर पता चलता है कि नेशनल न्यूज चैनलों में इंडिया टीवी को काफी नुकसान हुआ है. हालांकि इंडिया टीवी नंबर दो पर बना हुआ है लेकिन टीआरपी कम होने के कारण नंबर तीन एबीपी न्यूज से फासला कम हो गया है. न्यूज नेशन ने अब इंडिया न्यूज को पछाड़ दिया है. एनडीटीवी ने भी बेहतर प्रदर्शन किया है. सबसे खराब हाल आईबीएन7 का हो रहा है. करोड़ों रुपये खर्च कर री-लांच किए गए इस न्यूज चैनल की टीआरपी लगातार नीचे गिर रही है और यह नौवें नंबर का चैनल बन गया है.

एबीपी न्यूज सबसे ज्यादा फायदे में, आईबीएन7 का रीलांच फ्लाप होता दिख रहा

46वें हफ्ते की टीआरपी में सबसे ज्यादा एबीपी न्यूज को फायदा होता दिख रहा है. इस चैनल ने पिछले हफ्ते के मुकाबले सबसे ज्यादा टीआरपी में बढ़त हासिल की है. फिर भी यह तीसरे ही पोजीशन पर है. हालांकि लंबी छलांग लगाने के कारण नंबर दो पर तैनात इंडिया टीवी और नंबर तीन पर काबिज एबीपी न्यूज के बीच फासला बहुत कम हो गया है. न्यूज नेशन को भी फायदा मिला है और इस तरह यह चैनल इंडिया न्यूज के बराबर हो गया है.

DD National gains big in the week 45 of TAM ratings

New Delhi : Doordarshan National – ‘Desh ka apna Channel’, has had its biggest gain of 67 TVM in the week-45 ending on 8th November, as per the latest report of TAM. While the other major GEC channels have shed weight in terms of their viewership, Doordarshan National seems to be gaining ground propelled by their massive campaign of channel relaunch.

टीआरपी 45वां सप्ताह : जी न्यूज को सर्वाधिक फायदा, इंडिया न्यूज को सबसे ज्यादा नुकसान

45वें हफ्ते की टीआरपी में पोजीशन वाइज कोई बड़ा बदलाव तो नहीं दिखा है लेकिन टीआरपी बढ़ने गिरने को लेकर अगर बात करें तो सबसे ज्यादा फायदा जी न्यूज को हुआ है. पूरे 1.2 की बढ़त ली है. इंडिया न्यूज को सबसे ज्यादा गिरावट झेलनी पड़ी है. 1.7 की लुढ़कने के बावजूद इंडिया न्यूज अब भी न्यूज नेशन से आगे बना हुआ है.

टीआरपी 44वां सप्ताह : एबीपी न्यूज को तगड़ा झटका, न्यूज नेशन को सर्वाधिक फायदा, अंग्रेजी में न्यूज एक्स नंबर वन

44वें हफ्ते की टीआरपी आ गई है. इसमें इंडिया टीवी ने फिर से अपनी नंबर दो की पोजीशन वापस ले ली है. सर्वाधिक झटका एबीपी न्यूज को लगा है. मार्केट शेयर में कुल 2.4 की चपत लगी है. टीआरपी में थोड़ी से वृद्धि के कारण जी न्यूज ने इंडिया न्यूज को पछाड़ते हुए अपनी नंबर चार की पोजीशन वापस ले ली है. इसी तरह न्यूज नेशन ने हफ्ते का सर्वाधिक टीआरपी झटक कर न्यूज24 को अपने से नीचे कर दिया है.

एबीपी न्यूज ने इंडिया टीवी को, इंडिया न्यूज ने जी न्यूज को और न्यूज24 ने न्यूज नेशन को धूल चटाया….

43वें हफ्ते की टीआरपी में कई बड़े उलटफेर देखने को मिल रहे हैं. नंबर दो पर कायम रहने वाला इंडिया टीवी नंबर तीन पर गिर गया है और उसे मात दी है एबीपी न्यूज ने. इसी तरह नंबर चार की पोजीशन पर काबिज रहने वाला जी न्यूज नंबर पांच पर गिर चुका है और उसे धूल चटाया है इंडिया न्यूज ने. न्यूज नेशन की हालत दिनोदिन बुरी होती जा रही है और अब फिर से न्यूज24 ने न्यूज नेशन को पछाड़कर बढ़त ले ली है.

टीआरपी का तमाशा : एनडीटीवी जैसे चैनल को दसवें नंबर का बना डाला…

: आजतक फिर नंबर एक पर, न्यूज24 फिर हुआ न्यूज नेशन से पीछे : इस बाजारीकृत व्यवस्था में सब कुछ पूंजी से तय होता है. चैनल कितने देखे गए, इसका आंकड़ा जुटाने वाली प्राइवेट संस्था ‘टैम’ में घपले-गड़बड़ियां खूब है पर इसकी जांच कराने की किसी में हिम्मत नहीं होती. जो ज्यादा आंख तरेरता है और सत्ता में अच्छा खासा दखल रखता है, टैम वाले टामी उसकी ‘मुराद’ पूरी कर देते हैं. या तो उसके या उससे जुड़े चैनल को ज्यादा टीआरपी देकर बड़ा कर देते हैं या फिर उसको किसी अन्य तरीके से ‘ओबलाइज’ कर देते हैं. यही कारण है कि टैम वाले उन न्यूज चैनलों को तो ज्यादा टीआरपी देते हैं जिनका कंटेंट बेहद पूवर यानि घटिया है, लेकिन जो अच्छे कंटेंट दिखाता है, यथा एनडीटीवी जैसे चैनल, उनको बिलकुल आखिरी पायदान पर डाल देते हैं.

नंबर वन से नीचे गिरा आजतक चैनल, इंडिया टीवी बना सरताज, न्यूज24 ने न्यूज नेशन को पछाड़ा

इस साल के 41वें हफ्ते की टीआरपी बहुत बड़ा उलटफेर लेकर आई है. आजतक नंबर वन की कुर्सी से नीचे गिर कर नंबर दो पर आ गया है. इंडिया टीवी नंबर एक बनने में सफल रहा है. दिवाली से ठीक पहले हुए इस धमाके से आजतक में सन्नाटा है जबकि इंडिया टीवी में उत्सव का माहौल है. रजत शर्मा काफी समय से नंबर वन बनने का प्रयास कर रहे थे. अजीत अंजुम के इंडिया टीवी में जाने के कुछ समय बाद ही इंडिया टीवी का नंबर वन होना उनके लकी होने की तरफ इशारा करता है.

टाइम्स नाऊ की बादशाहत बरकरार, एनडीटीवी इंग्लिश गोता लगाते हुए सीएनएन आईबीएन से पिछड़ा

40वें हफ्ते की अंग्रेजी न्यूज चैनलों की टीआरपी देखने से पता चलता है कि एनडीटीवी 24*7 को सबसे ज्यादा नुकसान हुआ है और कुल 5.4 का नुकसान उठाते हुए यह न्यूज चैनल सीएनएन-आईबीएन से पीछे चला गया है. टाइम्स नाऊ नंबर वन पर मौजूद है और नंबर दो पर कायम न्यूज एक्स से अच्छा खासा फासला बनाए हुए है. हेडलाइंस टुडे ने पिछले हफ्ते के मुकाबले इस हफ्ते 3.0 का फायदा पाया है लेकिन अब भी यह नंबर तीन पर है. देखें इंग्लिश न्यूज चैनलों की टीआरपी….

एबीपी न्यूज और इंडिया टीवी में नंबर दो की पोजीशन के लिए कड़ी टक्कर, इंडिया न्यूज पांचवें स्थान पर खिसका

इस साल के चालीसवें हफ्ते की जो टीआरपी आई है उससे पता चलता है कि नंबर दो की पोजीशन के लिए एबीपी न्यूज और इंडिया टीवी में कड़ी टक्कर है. दोनों का शेयर 14.3 है. एबीपी न्यूज पिछले हफ्ते के मुकाबले 0.2 नीचे गिरा है तो इंडिया टीवी 0.2 उपर उठा है. इस तरह दोनों बराबरी पर आ गए हैं. जी न्यूज ने नंबर चार की पोजीशन वापस पा ली है और इंडिया न्यूज को नंबर पांच पर खिसका दिया है. इस हफ्ते इंडिया न्यूज का 0.7 नुकसान हुआ है. इंडिया न्यूज के ठीक बाद न्यूज नेशन की पोजीशन बरकरार है. आईबीएन7 ने थोड़ा सा खुद को मजबूत किया है. एनडीटीवी पहले की तरह नौवें पोजीशन पर मौजूद है. टीआरपी देखिए…

एबीपी न्यूज ने इंडिया टीवी को फिर थर्ड नंबर का चैनल बना दिया, इंडिया न्यूज भी जी न्यूज से नीचे खिसका

39वें हफ्ते की टीआरपी में दो बड़ा उलटफेर दिख रहा है. एबीपी न्यूज नंबर दो की पोजीशन पर फिर से लौट आया है और इस प्रकार रजत शर्मा के चैनल इंडिया टीवी को थर्ड नंबर का बना दिया है. जी न्यूज से आगे चल रहे इंडिया न्यूज को भी झटका लगा है और वह चौथे से पांचवें पोजीशन पर आ गिरा है. एनडीटीवी नौवें नंबर पर है तो सहारा का चैनल समय बारहवें पायदान पर सिसक रहा है. नीचे टीआरपी डिटेल है….

लो जी, इंडिया न्यूज वाले तो खुद को नंबर वन बताने लगे… इतना बड़ा झूठ!!!

आजकल मीडिया वाले भी कम झूठे नहीं हैं. जिसे देखो वो आंकड़ों को तोड़ मरोड़कर खुद को नंबर वन बता रहा है. मामला टीआरपी का है. 38वें हफ्ते की टीआरपी में नंबर वन पर आजतक है, नंबर दो पर इंडिया टीवी है, नंबर तीन पर एबीपी न्यूज है. लेकिन इंडिया न्यूज वाले खुद नंबर वन बता रहे हैं. नंबर चार से उड़कर नंबर एक पर कैसे पहुंच गए, ये कहानी सुना रहे हैं इंडिया न्यूज पर बहस विमर्श करने वाले और गाहे-बगाहे इंडिया न्यूज की फेसबुक पर ब्रांडिंग करने वाले पत्रकार अवधेश कुमार. पढ़िए अवधेश ने अपने वाल पर क्या लिखा है. क्या आपको नहीं लग रहा है कि दाल में कुछ काला नहीं बल्कि पूरी दाल ही काली है? -एडिटर, भड़ास4मीडिया

38वें हफ्ते की टीआरपी : इंडिया टीवी नंबर दो पर आ गया, न्यूज नेशन को सर्वाधिक नुकसान

38वें हफ्ते की नेशनल हिंदी न्यूज चैनलों की टीआरपी आ गई है. इसमें आजतक नंबर वन बना हुआ है, हमेशा की तरह. कई हफ्तों से एबीपी न्यूज नंबर दो पर कायम था लेकिन इस हफ्ते इंडिया टीवी ने उछाल लगाते हुए नंबर दो की पोजीशन हथिया ली है. इंडिया न्यूज ने चौथे नंबर की सीट कब्जे में कर रखी है, हालांकि जी न्यूज ने उछाल लगाई है पर वह पांचवें पर ही टिका हुआ है.

36वें हफ्ते की टीआरपी : ‘इंडिया टीवी’ को मोदी प्रेम डुबा रहा! आईबीएन7 को सर्वाधिक फायदा

36वें हफ्ते की टीआरपी को एनालाइज करने पर पता चलता है कि सबसे ज्यादा अगर किसी चैनल को फायदा हुआ है तो वो है आईबीएन7. 35वें हफ्ते की तुलना में इस चैनल को 36वें हफ्ते में पूरे 1.2 का फायदा हुआ है. सबसे ज्यादा नुकसान इंडिया टीवी को हुआ है. लोग इस इंडिया टीवी चैनल को मोदी का चैनल कहने लगे हैं क्योंकि इंडिया टीवी लगभग मोदी और भाजपा के प्रवक्ता की तरह कार्यक्रम-समाचार दिखा रहा है.

35वें हफ्ते की टीआरपी : इंडिया टीवी को फायदा, न्यूज24 को नुकसान

35वें हफ्ते की टीआरपी देखने से पता चलता है कि इंडिया टीवी को काफी फायदा हुआ है. 1.5 की वृद्धि करते हुए इंडिया टीवी ने टोटल 13.5 प्वाइंट बटोरे हैं और इस प्रकार वह एबीपी न्यूज के बराबर आ गया है. कई हफ्तों से एबीपी न्यूज नंबर दो की पोजीशन पर था और इंडिया टीवी तीन पर. लेकिन इस 35वें हफ्ते एबीपी न्यूज और इंडिया टीवी बराबरी पर आ गए हैं.

दीपक चौरसिया का कमाल – ‘इंडिया न्यूज’ टाप फोर हिंदी न्यूज चैनल्स में, सुधीर चौधरी हुए डाउन – जी न्यूज पांचवें पर खिसका

हिंदी न्यूज चैनलों की 34वें हफ्ते की टीआरपी आ गई है. शुरुआती टाप थ्री चैनल्स की टीआरपी गिरी है लेकिन तीनों की ही अपनी अपनी रैंकिंग बरकरार है. आजतक नंबर वन बना हुआ है. एबीपी न्यूज नंबर दो की पोजीशन में है. इंडिया टीवी लगातार नंबर तीन पर चल रहा है. इंडिया न्यूज ने करिश्मा दिखाते हुए नंबर चार की पोजीशन हथिया ली है. जी न्यूज नंबर पांच पर पहुंच गया है. हालांकि इंडिया न्यूज और जी न्यूज की टीआरपी बराबर है लेकिन उछाल के मद्देनजर इंडिया न्यूज नंबर चार पर माना जाएगा.

न्यूज24 का पतन जारी, जी न्यूज फिर चौथे पोजीशन पर

33वें हफ्ते की टीआरपी में दिख रहा है कि न्यूज24 लगातार उतार पर है. चैनल की टीआरपी तेजी से गिर रही है. कभी यह चैनल उपर से चौथे-पांचवें पोजीशन पर हुआ करता था अब यह नीचे से चौथे पोजीशन पर खिसकर कर आ गया है. जी न्यूज ने टाप फोर में जगह बना ली है और अपने चौथे नंबर के स्थान को हासिल कर लिया है. एबीपी न्यूज नंबर दो पर कायम है. इस कारण इंडिया टीवी को नंबर तीन पर संतोष करना पड़ रहा है. न्यूज नेशन और इंडिया न्यूज, इन दोनों नए चैनलों ने जमे-जमाए चैनलों के बीच पक्का वाला जगह बना लिया है. अंग्रेजी न्यूज चैनलों की बात करें तो टाइम्स नाऊ टाप पर है. नंबर दो पर है न्यूज एक्स. टीवी टुडे ग्रुप वालों का हेडलाइंस टुडे तीसरे पोजीशन पर है. हिंदी व अंग्रेजी के नेशनल न्यूज चैनलों की टीआरपी नीचे है…

समाचार प्लस राजस्थान के एक वर्ष पूरे, तोड़े टीआरपी के रिकॉर्ड

जयपुर। उत्तर प्रदेश और उत्तराखंड में लोकप्रियता के शिखर पर स्थापित होने के बाद, समाचार प्लस चैनल ने विस्तार करते हुए दूसरा चैनल समाचार प्लस-राजस्थान लॉन्च किया जिसको शनिवार को एक वर्ष पूरे हुए। मातृ संस्थान बेस्ट न्यूज कंपनी प्राइवेट लिमिटेड के स्वामित्व वाले समाचार प्लस न्यूज नेटवर्क का ये दूसरा चैनल है। पहला चैनल उत्तर प्रदेश एवं उत्तराखंड के लिए 15 जून 2012 को लॉन्च हुआ था, जो खासा पसंद किया जा रहा है।

यूपी में ‘जी संगम’ तीसरे नंबर पर गिरा, ईटीवी फिर हुआ नंबर वन (देखें टीआरपी)

उत्तर प्रदेश के नंबर वन न्यूज चैनल की कुर्सी पर ‘ईटीवी यूपी’ फिर आसीन हो गया है. नंबर वन बना जी संगम इस 31वें हफ्ते नंबर तीन पर धड़ाम हो गया है. समाचार प्लस नंबर टू पर है. अगर रीच के हिसाब से देखा जाए तो 31वें हफ्ते भी जी संगम नंबर वन है. नीचे टैम की तरफ से जारी 31वें और 30वें हफ्ते का पूरा चार्ट है. किन-किन कैटगरी में कौन नंबर वन है, कौन नंबर टू है और कौन नंबर तीन है, आप खुद एनालाइज कर सकते हैं. पहले 31वें हफ्ते का टीआरपी चार्ट देखें….

31वें हफ्ते की टीआरपी : एबीपी न्यूज और न्यूज नेशन की लंबी छलांग, इंडिया टीवी थर्ड हो गया, जी न्यूज चार पर चला गया

साल 2014 के 31वें हफ्ते में बड़ा उलटफेर हुआ है. अब तो दो नंबर पर रहने वाले इंडिया टीवी का पतन हो गया है और वह तीन नंबर पर चला गया है. एबीपी न्यूज ने दो नंबर पर कब्जा कर लिया है. वहीं आमतौर पर चार नंबर का चैनल माने जाना वाला जी न्यूज इस हफ्ते गिरकर पांच नंबर पर पहुंच गया है. कमाल किया है न्यूज नेशन ने. इसने नंबर चार की कुर्सी हथिया ली है. छठें नंबर पर है इंडिया न्यूज. सातवें पर न्यूज24 और आठवें पर आईबीएन7 चैनल है. एनडीटीवी के इतने बुरे दिन आ गए कि वह आजतक वालों के ‘तेज’ चैनल से भी पिछड़ गया. तेज चैनल नौ पर है तो एनडीटीवी दस नंबरी हो गया है.