नेपाल भूकंप कवरेज : फुटेज दूसरों की और दावा एक्सक्लूसिव का

 

Sushil Upadhyay : नेपाल के भूकंप से दक्षिण एशिया अैर हिमालयी क्षेत्र में एक बार फिर गहरी चिंता का भाव पैदा हुआ है। भूकंप के बाद से मीडिया, खासतौर हिंदी टीवी चैनल जो कुछ और जिस अंदाज में परोस रहे हैं, उससे आम लोगों की चिंता में लगातार इजाफा हुआ है। तमाम बड़े, नामी और प्रसिद्ध चैनलों पर खबरों और भूकंप-विश्लेषण का एक खास पैटर्न नजर आ रहा है। इस पैटर्न की तुलना बड़ी आसानी से किसी फिल्म के साथ की जा सकती है। हरेक बुलेटिन या विश्लेषण में एक्टिंग, बैकब्राउंड म्यूजिक, प्रायोजक, स्टेज, ड्रामा और वर्चुअल एक्शन तक नजर आ रहा है। इन दिनों बुलेटिनों के साथ जो पार्श्व-संगीत सुनाई पड़ रहा है, वह पश्चिम की दुखांत फिल्मों से उठाया गया है।

वाशिंगटन पहुंचकर अपनी मूर्खता का प्रदर्शन करने में जुट गए हैं भारतीय चैनल

Om Thanvi : कई दिन बाद बरबस टीवी खोला। भारतीय चैनल वाशिंगटन जा पहुंचे हैं और मजेदार ‘रिपोर्टिंग’ हो रही है। देखा कि एक प्रमुख हिंदी चैनल के संवाददाता ने भारतीय मूल के मुसलिम रईस को पकड़ रखा है। वह अंग्रेजी बोल रहा है, संवाददाता हिंदी। रईस कहता है, मि. मोदी ने यह कहकर मेरा दिल जीत लिया कि भारत के मुसलमान देश के लिए जीने-मरने को तैयार हैं।