Why do Lovely Professional University hide Information under RTI Act

: Lovely Professional University hide information what is actual fact in transparency :

To,
The Hon’able Governor of Punjab,
Chandigarh,

Subject : Why do Lovely Professional University hide Information under RTI Act)  

Dear Sir,

I want to bring your kind notice to the state private universities that are looting innocent students with both hands and filling their coffer with money.

I filed an application under RTI Act to seek some information from Lovely Profession University distance education study center working all over India on dated 21-08-2014.

When LPU PIO failed to furnish information within stipulated time I wrote a complaint to State Information Commission Punjab.

State Information Commission after examining the documents placed on record it is found insufficient reply and ordered that PIO of office the Registrar Lovely Professional University Jalandhar to file her reply to the show cause issued to her vide orders dated 10-03-2015 before or on the next date of hearing.

On dated 12 May 2015 SICP show cause issued vide order dated 10-03-2015 for willful delay /denial in supplying the information. In this reply Lovely Professional University RPIO had many excuses to avoid to furnish any answer of the RTI application.

Another false point in the reply that therefore, on receiving a copy of the original RTI request of the complaint addressed to the undersigned along with the order of the Hon’able Commission sent on 24 March 2015 requisite information had been supplied to the complaint on 9-04-2015 and that was duly acknowledged by the complainant and he was satisfied with the same.

In fact LPU has not furnished any information to me till date. A number of people from Lovely Professional University followed me continuous to withdraw RTI application. At last under pressure, mental harassment  I signed on the letter on 15th April 2015 one day before the date of hearing in the SICP on this condition that they will provide me requisite information to me within time.

Instead of provide information to me. On 13th May 2015 LPU supplied the letter to SICP that applicant is satisfied and got information.  Sh. Chander Parkash SICP adjourned the case.

Actually Lovely Professional University did not furnish any answer to my RTI application. Now question arises that why should LPU hide information what is there embezzlement in the record or why do they conceal all information. It shows that LPU has a big scam in education field and the government department MHRD UGC and higher education authority must investigate all the record of Lovely Profession University as soon as possible.

I request to Governor of Punjab, Vigilance and CBI have to investigate all records of Lovely Professional University to find transparency in the account and student detail. Is LPU working fairly to provide education to students as per law under UGC, MHRD and Society Act.   

Yours

Paul Sharma

RTI Activist President

RTI & Human Rights Activist (NGO)

Ludhiana- 141001 Punjab

09417455666

shripauladvocate@gmail.com

कृपया हमें अनुसरण करें और हमें पसंद करें:

पुष्पेन्द्र पाल के माखनलाल विश्वविद्यालय से जाने से छात्रों में गहरी टीस, वीसी से नफरत

पुष्पेन्द्र पाल  सिंह  के बच्चों  की दुनिया  और  क्लास रूम से दूर चले जाने को सिर्फ वही  समझ सकता है, जो उनसे पढ़ा हो या जो उनको करीब से जानता हो। रवीश कुमार जब अपने लेख ‘कभी रवीश कुमार मत  बनना’ में मीडिया और कम्युनिकेशन शिक्षा के दुर्गति की बात करते हैं तो अनायास ही आँखों के सामने अपना माखनलाल पत्रकारिता विश्वविद्यालय घूमने लगता है। कैसे एक कुलपति (कुलनाशपति) किसी अच्छे शैक्षणिक संस्थान को बर्बाद करता है, इसको हम लोगों ने बड़े क़रीब से देखा है। 

रवीश  कुमार जब लिखते हैं कि देश में मीडिया और कम्युनिकेशन के बहुत कम अच्छे शिक्षक हैं तो आँखों के सामने पुष्पेन्द्र सर और आनंद प्रधान सर का चेहरा और उनकी वर्तमान स्थिति बेचैन करने लगती है। आज के समय में भी पुष्पेन्द्र सर के दो-ढाई घंटे के क्लास को बच्चे पूरी तन्मयता के साथ करते हैं। उनकी  पढ़ाई हुई  चीजें  चाहे वो लिस्निंग हो  या  कम्युनिकेशन के सिद्धांत या उस आदमी का भी भला करो जो आपका बुरा सोच रहा है, कभी भूलती नहीं हैं। वे खुद अपने आप में एक चलते-फिरते क्लास रूम हैं।

पुष्पेन्द्र  सर का  क्लास रूम से दूर चले जाना बच्चों  का वो नुकसान है, जिसका वो अंदाजा भी नहीं लगा पायेंगे। कुलपति ने पुष्पेन्द्र सर को ठिकाने लगा के विश्वविद्यालय की रही सही कसर भी पूरी कर दी। आनन्द प्रधान सर की स्थिति भी किसी से छुपी नहीं है। उनका जाना किसी व्यक्ति या विचारधारा की जीत नहीं, बच्चों  की हार  है। जानने और करने के बाद लगा की कम्युनिकेशन क्या फिल्ड है  और उसे जानने के लिए पुष्पेन्द्र सर जैसे शिक्षकों की जरुरत वैसे ही है, जैसे शरीर में खून की। नई दुनिया, धर्मयुग के स्वर्णिम दौर से लेकर भास्कर के उदय की कहानी से होते हुए विदेशी विवि के जर्नलिज्म विभागों की आँखों देखी कहानी अब वैसे कोई नहीं बताएगा।  

सबकी कहानियाँ मोटा मोटी  एक सी ही हैं। माखनलाल के कुलपति के कारनामों पे अगर किताब लिखी जाये तो वो 600 पेज भी पार कर जाये। राज्य सभा जाने का ख्वाब देखने वाले कुलपति कुठियाला के खासमखास हो या उसके द्वारा फर्जी भर्ती किये गए गुर्गो का गिरोह हो, उनको एक बात याद रखनी चाहिए। किसी लकीर को छोटा करने के लिए उससे बड़ी लकीर खींचनी पड़ेगी। उसको मिटा के छोटा करने के लिए तो चम्पुओं चापलूसों की उम्र भी छोटी पड़ेगी।

प्रशांत मिश्र (इस साल माखनलाल से पासआऊट छात्र) से संपर्क : 9826181687

कृपया हमें अनुसरण करें और हमें पसंद करें:

माखनलाल पत्रकारिता विश्वविद्यालय में प्रवेश प्रक्रिया प्रारम्भ

भोपाल : माखनलाल चतुर्वेदी राष्ट्रीय पत्रकारिता एवं संचार विश्वविद्यालय में शैक्षणिक सत्र 201 एवं 2016 में संचालित होने वाले विभिन्न पाठ्यक्रमों में प्रवेश के लिए प्रक्रिया प्रारम्भ हो गई है। विभिन्न पाठ्यक्रमों में प्रवेश हेतु केवल ऑनलाईन आवेदन ही किये जा सकते हैं।

ऑनलाईन आवेदन करने की अंतिम तिथि 25 मई 2015 तक है। ऑनलाईन आवेदन के लिए www.mponline.gov.in लॉगऑन कर सिटीजन सर्विसेस लिंक पर क्लिक करना होगा। विश्वविद्यालय की वेबसाइट www.mcu.ac.in एवं www.mcu.testbharati.com से भी आवेदन किये जा सकते हैं। विभिन्न पाठ्यक्रमों में प्रवेश हेतु प्रवेश परीक्षा का आयोजन किया जायेगा। इस वर्ष तीन नए पाठ्यक्रम प्रारम्भ किये जा रहे हैं। नए पाठ्यक्रमों में दो वर्षीय एमएससी फिल्म प्रोडक्शन तथा एमए न्यू मीडिया कंटेंट डिजाईन तथा तीन वर्षीय बीबीए ई.कॉमर्स शामिल हैं।

विश्वविद्यालय में सत्र 2015.16 में दो वर्षीय स्नातकोत्तर पाठ्यक्रम के अंतर्गत एमजे, पत्रकारिता स्नातकोत्तर, एमए विज्ञापन एवं जनसंपर्क, एमए जननसंचार, एमए प्रसारण पत्रकारिता, एमएससी इलेक्ट्रॉनिक मीडिया तथा एमएससी मीडिया शोध जैसे पाठ्यक्रम संचालित किये जा रहे हैं। चार वर्षीय बीटेक प्रिंटिंग एवं पैकेजिंग, तीन वर्षीय  बीटेक प्रिंटिंग एवं पैकेजिंग, लेटरल एंट्री का पाठ्यक्रम भी उपलब्ध है। तीन वर्षीय स्नातक पाठ्यक्रमों के अंतर्गत बीएजनसंचार, बीएससी इलेक्ट्रॉनिक मीडिया, बीबीए जनसंचार, बीएससी ग्राफिक्स एवं एनीमेशन, बीएससी मल्टीमीडिया तथा बीसीए पाठ्यक्रम संचालित किये जा रहे हैं। 

यह प्रवेश प्रक्रिया विश्वविद्यालय के भोपाल, नोएडा, खंडवा, ग्वालियर एवं अमरकंटक स्थित परिसरों के लिए है। अहर्ताकारी परीक्षा के अंतिम वर्ष की परीक्षा में शामिल ऐसे विद्यार्थी जिनका परीक्षा परिणाम अभी घोषित नहीं हुआ है वे भी प्रवेश हेतु आवेदन कर सकते हैं। प्रवेश हेतु प्रवेश परीक्षा का आयोजन 7 जून 2015 को भोपाल, कोलकाता, जयपुर, पटना, रांची, लखनऊ, नोएडा, रायपुर, खंडवा, इंदौर, ग्वालियर, जबलपुर एवं अनूपपुर केन्द्रों पर किया जायेगा। 

कृपया हमें अनुसरण करें और हमें पसंद करें:

सुभाष चंद्रा ग्रुप के हिमगिरी जी विश्वविद्यालय का फ्रॉड, छात्र-छात्राएं हो रहे परेशान

Respected Sir, Myself xxx from Dehradun, i got your mail ID from Internet as you are so famous among everyone. The reason for this mail is I need your support and help, as may be you heard about our problem though the means of Media… FOCUS NEWS. 

I am the student of HIMGIRI ZEE UNIVERSITY, Dehradun its part of Subhash Chandra Group and Pursuing my LLB degree of 3 years. I got enrolled in 2013 for LLB (3 Year course) on the fake statements by the management of HIMGIRI ZEE UNIVERSITY that only few seats were left, then i took my admission on the same day, but as soon as i started going to the college i got to know that there were only 3 students in the LLB, after that classes were started and there were only one Teacher to reach us all the subjects in 1st Sem.

But Few days back i got to know from some reliable sources that our college is going to close the Law Department in between the Session(in 2015), so after knowing this we went to our Head of Department (Ms. Shilpa Shukla), regarding this issue but she simply said that she was not aware about all this and then we went to the higher management that is our Registrar (Mrs Geeta Rai) she simply said yes we are going to transfer all the Law students to any other college in June 2015, as the College Management don’t want to renew there Bar Council Registration. When we student asked the reason she said “niklo yaha se mujhe kaam hai.” When we sourced to our VC (Mr. Abhishek Asthana) he simplified said no to meet.

After this kind of rude and informal behavior we contacted Media (Amar Ujala, Thalka News, Times of India and Focus News), Infact Focus Team Contacted us from Delhi and a complete team of Focus News Came from Delhi to Help us even they really helped us but after we approached to media against the college, the college registrar logged a fake Complain to Police Station against the Law Students for our mental harassment and after that the college management suspended all the students. As we also sourced to SSP Dehradun, CO Dehradun, BCI State as well as CM of Uttrakhand but still nothing is happened.

I really heard about your team i hope your team can also support us in this. Rest i am attaching all the required documents related to this Case. Kindly go through it and do let me know if any other document is required. We are total 7 students, 4 students are from LLB 3 yrs and 3 students are from BBA LLB  5 yrs.

You Can Check all the Videos on Youtude/ Focus News/ Himgiri zee university. If you can send me your watsapp number then i can send me more pics and documents, You can also visit our college website – himgirizeeuniversity.com

Thanking you,

Regards…

xxxx

एक छात्रा द्वारा भेजे गए पत्र पर आधारित.

कृपया हमें अनुसरण करें और हमें पसंद करें:

व्यापमं से भी बड़ा घोटाला!

लीजिए साहब व्यापमं से भी बड़ा घोटाला. बस थोड़ा इंतजार कीजिए इस सड़ांध में इतनी गंदगी मिलेगी की सांस लेना मुश्किल हो जाएगा. खबर पढ़िए व नीचे लिंक देखिए. प्रदेश अभी व्यापम और पीएससी घोटालों के झटकों से उबर भी नहीं पाया था कि उसकी प्रतिष्ठा को एक और झटका लगा है। सांची में खुल रहा नया बौद्ध विश्वविद्यालय औपचारिक शुरुआत के पहले ही गंभीर विवादों में उलझ गया है। विश्वविद्यालय के गैर अकादमिक पदों के लिए हुई नियुक्तियों के जो नतीजे सोमवार एक दिसंबर को घोषित किए गए हैं,  उनमें गंभीर अनियमितताओं की बात सामने आई है।

उल्लेखनीय है कि विश्वविद्यालय में हुई इन भर्तियों के लिए विज्ञापन गत सितंबर महीने में जारी किए गए थे। 9 नवंबर को इसकी लिखित परीक्षा भोपाल में आयोजित की गई। 24 नवंबर को लिखित परीक्षा का परिणाम आया, 29 नवंबर को साक्षात्कार आयोजित किया गया जबकि एक दिसंबर की देर रात सांची विश्वविद्यालय की वेबसाइट पर अंतिम परिणाम घोषित कर दिये गए।

क्या हुईं अनियमितताएं-

परीक्षा के विज्ञापन में इस बात का स्पष्ट उल्लेख नहीं किया गया कि इसके मूल्यांकन की पद्धति क्या होगी?

साक्षात्कार के बारे में यह जानकारी नहीं दी गई कि साक्षात्कार कितने अंकों का होगा?

संघ लोकसेवा आयोग के मानकों के मुताबिक किसी भी परीक्षा में साक्षात्कार के अंक लिखित परीक्षा के पांच फीसदी से ज्यादा नहीं होने चाहिए।

यहां दो सौ अंकों का लिखित व सौ अंक का साक्षात्कार बताया गया.

द्वितीय श्रेणी के पदों तथा निचले स्तर के पदों की भर्ती के लिए संयुक्त प्रवेश परीक्षा आयोजित की गई जो कि अपने आप में संदेह को जन्म देता है।

वहीं अगर परीक्षा संयुक्त थी तो हर पद के लिए अलग-अलग साक्षात्कार क्यों आयोजित किए गए?

इसके अलावा लिखित परीक्षा से लेकर अंतिम परिणाम घोषित किए जाने तक किसी स्तर पर परीक्षार्थियों को यह नहीं बताया गया कि उनको किस परीक्षा में कितने अंक मिले हैं।

कुछ नाम बहुत संदेहास्पद हैं उनका खुलासा बाद मेंं किया जाएगा, जरा सबूत जुटा लिए जाएं.

http://epaper.starsamachar.com/387352/Star-Samachar-Bhopal/03.12.2014#page/1/2

Supriya Singh

mesupriya78@yahoo.in

कृपया हमें अनुसरण करें और हमें पसंद करें:

अर्जियों से लेकर अनशन में बीत गए सत्रह साल, विकलांग अध्यापक को नहीं मिली स्थायी नियुक्ति

DSC 0813

रविन्द्रपुरी स्थित सांसद/प्रधानमंत्री कार्यालय में पत्रक सौंपते डॉ. केशव ओझा

वाराणसी। 17 साल के कड़वे अनुभवों को परे रखकर विकालांग अध्यापक डॉ. केशव ओझा ने बीते 8 सितंबर को जब प्रधानमंत्री मोदी के रविन्द्रपुरी कार्यालय पहुंच अपने अच्छे दिनों के लिए दस्तक देते हुए अर्जी दी थी तो शायद उन्हें नहीं मालूम था, कि सत्ता की सूरत भले ही बदल गयी हो पर सीरत नहीं बदली, महीना भर बीत जाने के बाद भी डॉ. ओझा का प्रार्थना प्रत्र सत्ता की अंधी गलियों में कही गुम हो कर रह गया है और डॉ. ओझा का संघर्ष वहीं का वहीं खड़ा है।

लोकतंत्र में सब्र की हद क्या होती है, ये शायद केशव ओझा से बेहतर कोई नहीं बता सकता, एक, दो नहीं पूरे 17 साल हो गये सम्पूर्णानन्द संस्कृत विश्वविद्यालय के साहित्य विभाग के विकलांग अध्यापक डॉ. केशव ओझा को अपने हक के लिए लड़ते हुए। इस दौरान राष्ट्रपति, प्रधानमंत्री से लेकर स़क्षम मंत्रालयों तक उनकी अर्जिया दौड़ती रहीं, अनशन से लेकर राष्ट्रपति से सपरिवार इच्छा मृत्यु की गुहार लगाने के बाद भी न तो तंत्र जागा और न उन्हें कहीं से राहत मिली। शोध करने लायक हो चलीं डॉ. ओझा की अर्जियों और दरख्वास्तों की फाइलें भी अब कहने लगी हैं कि स्रब की हद होती है, तब्बजों तो दिजीए साहब!!

साहित्य विभाग में अंशकालिक अध्यापक के तौर पर नियुक्त डॉ. ओझा की स्थायी नियुक्ति के सन्दर्भ में 19 अप्रैल 2006 को तत्कालीन कुलपति अशोक कालिया की मौजूदगी में कार्यपरिषद की बैठक में बकायदा निर्णय तो लिया गया लेकिन 8 साल बीतने के बाद भी निर्णय जुबानी जमा खर्च के आगे डॉ. ओझा की मुसीबतों को हल करने का रास्ता न बन सका।

डॉ. ओझा का कहना है कि राश्ट्रपति भवन से मिले तमाम निर्देशों के बाद भी विश्वविद्यालय प्रशासन का रवैया उनके मामले में नकारात्मक ही बना हुआ है। ऐसे में उनके लिए साल के आठ महीनें विश्वविद्यालय की ओर से मिलने वाले मामूली रकम में परिवार के साथ गुजारा करना लोहे के चने चबाने जैसा है। जिदंगी उनके लिये रोज एक मुठभेड़ सी है, जिसे वो अपने हौसले से लड़ तो रहे है, पर कब तक?

गौर करने की बात है कि विकलांगजनों को समाज की मुख्य धारा से जोड़ने और उनकी सृजनशीलता का सदुपयोग करने के लिए बनाये गये तमाम सरकारी कानून के तहत क्या डॉ. ओझा का मामला नहीं आता? या फिर लाल फीताशाही के फंदे, विश्ववि़द्यालय प्रशासन की अंसेवदनशीलता के दो पाटो के बीच एक विकलांग अध्यापक के जायज अधिकारों का दम तोड़ देना ही इस तंत्र के अच्छे दिनों की उपलब्धि। 

 

भाष्कर गुहा नियोगी
09415354828

कृपया हमें अनुसरण करें और हमें पसंद करें:

स्वाधीनता संघर्ष के दौरान गांधी ने पत्रकारिता का उपयोग एक हथियार के रूप में किया था

जौनपुर। वीर बहादुर सिंह पूविवि के जनंसचार विभाग में महात्मा गांधी की जयंती की पूर्व संध्या पर ‘गांधी, पत्रकारिता एवं समाज’ विषयक गोष्ठी का आयोजन किया गया। इस अवसर पर छात्रों को महात्मा गांधी द्वारा लिखित ‘दक्षिण अफ्रीका के सत्याग्रह का इतिहास’ पुस्तक भेंट की गयी। गोष्ठी में विभाग के प्राध्यापक डॉ. मनोज मिश्र ने कहा कि पत्रकारिता, समाज सेवा एवं राजनीति करने वालों के लिए गांधी आदर्श है। पत्रकारिता के क्षेत्र में सच को उजागर करना पहली जिम्मेदारी है। इसकी शुरूआत स्वयं महात्मा गांधी ने की थी।

jaunpur

गोष्ठी को सम्बोधित करते डाॅ. मनोज मिश्र

आज गांधी के विचारों को पूरा विश्व नमन कर रहा है। भारत को विश्व गुरू बनने के लिए गांधी दर्शन अपनाना होगा। इसी क्रम में डॉ. अवध बिहारी सिंह ने कहा कि महात्मा गांधी ने भारत को स्वाधीन कराने में पत्रकारिता को हथियार के रूप में इस्तेमाल किया। गांधी जी सदैव यह चाहते थे कि समाचार पत्र आत्मनिर्भर बनें।

डॉ. सुनील कुमार ने कहा कि गांधी ने देश के लोगों की नब्ज़ को पहचाना। समाज के उन लोगों को जोड़ा जो सबसे निचले पायदान पर खड़े थे। वह सदैव यह चाहते थे कि गांव आत्मनिर्भर बने अपनी जरूरतों के लिए शहरों की ओर न दौड़ें। आज चीनी वस्तुओं से मार्केट भरा पड़ा है। कुटीर उद्योग दम तोड़ रहे है ऐसे में आज फिर से सोचने की जरूरत है।

विभाग के प्राध्यापक डॉ. दिग्विजय सिंह राठौर ने महात्मा गांधी द्वारा निकाले गये समाचार पत्र इंडियन ओपिनियन, यंग इंडिया, नवजीवन एवं हरिजन पर प्रकाश डाला। इस अवसर पर विभाग के विद्यार्थी मौजूद रहे।

कृपया हमें अनुसरण करें और हमें पसंद करें: