पूर्वोत्तर यात्रा-6 : नदी के बीच दुनिया के सबसे बड़े टापू की सैर

वह 28 नवम्बर 2015 की सर्द सुबह थी। सुबह 6 बजे तक एलिफेंट सफारी के लिए काजीरंगा अभ्यारण्य के दूसरे छोर तक पहुचना था। टीम लीडर किरण जी कि हिदायत के मुताबिक सभी पत्रकार साथी सुबह 5.30 बजे तक बस में सवार हो चुके थे। हमें 30 किलोमीटर की दूरी तय कर एलिफेंट सफारी स्टेशन पहुँचना था। तय समय से हम पहुँच गए पर जंगल की सैर कराने वाले हाथी और महावत अभी नहीं पहुचे थे। आधे घंटे के इंतज़ार के बाद दो हाथी सामने से आते हुए दिखाई दिए। बताया गया कि एक बार में 6 से 7 लोग ही एलिफेंट सफारी के लिए जा सकेंगे। इस दिए हमने दो टीम बनाई। हाथी पर सवार हो कर 1 घंटे तक जंगल में घूमने की फ़ीस 800 रूपये प्रति व्यक्ति थी। मुझे लगता है अपने देश में पर्यटको से सुविधाओं के लिए भारी कीमत वसूली जाती है। खैर पहली और शायद आखिरी बार यहाँ तक आये थे लिए जंगल घूमने के लिए हाथी पर सवार हो गए। पहली खेप में मेरा भी नंबर लग गया। मैं सुरेंद्र जी हथियारबंद गार्ड के साथ हाथी पर सवार हो कर जंगल भ्रमण के लिए रवाना हो गए।

पूर्वोत्तर यात्रा-4 : मेघालय में लड़की शादी के बाद लड़के को अपने घर लाती है

आख़िरकार अब मेघालय को अलविदा कहने और पूर्वोत्तर के सबसे बड़े राज्य आसाम की भूमि को फिर से प्रणाम करने का वक्त आ गया था। जोवाई से हमें गुवाहाटी जाना था। 160 किलोमीटर के इस सफ़र की शुरुआत 25 नवम्बर 2015 की दोपहर को हुई। हमारे वाहन ने शहर से बाहर निकल कर रफ़्तार पकडी तो टीम लीडर किरण जी ने फरमान सुनाया कि अब सभी साथी बारी बारी से अपने मेजवान परिवारों के बारे में अपना अनुभव सुनाएंगे। मैंने और विनोद जी ने श्री पाले के साथ बीते पलों के अनुभव साझा किये, जिसकी चर्चा मैं पहले ही विस्तार से कर चुका हु। विवेक बाबू ( एसियन एज के विशेष संवाददाता विवेक भावसार, जिन्हें मैं विवेक बाबू के नाम से ही संबोधित करता हूं) और मुर्तज़ा मर्चेंट जी (पीटीआई) एक साथ मेजवान परिवार के यहाँ रात्रि विश्राम के लिए गए थे।

आसाम सरकार के श्रम विभाग के सचिव नितिन खाडे जी के साथ पत्रकार साथी।

पूर्वोत्तर यात्रा-3 : मेघालय में सपने दिखा कर जीवन बदल रहे हरदोई के मिश्राजी

सोशल मीडिया के अस्तित्व में आने के बाद इसका दुरूपयोग करने वाले भी पैदा हो गए हैं। बावजूद इसके सोशल मीडिया ने दुनिया का दायरा सीमित करने का काम किया है। हम कही भी जाये फेसबुक को बताना नहीं भूलते की कहां पहुचे हैं और क्या कर रहे हैं। आप सोच रहे होंगे पूर्वोत्तर यात्रा के बीच ये फेसबुकवा कहाँ से आ गया।  यहां हम फेसबुक की चर्चा इस लिए कर रहे क्योंकि इसकी वजह से हमारी मुलाकात एक मिलनसार, ईमानदार और लोगों के जीवन में बदलाव लाने वाले एक आईएएस अफसर से हो सकी। गुवाहाटी पहुचते ही मैंने अपने इस यात्रा की जानकारी फ़ोटो सहित फेसबुक पर अपलोड कर दी थी।

शिलांग में मेघालय के विकास आयुक्त राममोहन मिश्रा जी से बातचीत करते मुम्बई से गए पत्रकार।