‘अनुष्का’ का विशेषांक गीतकार डॉ. बुद्धिनाथ मिश्र पर केंद्रित

: चर्चा एवं कवि गोष्ठी में कई पत्रकार और साहित्यकार उपस्थित हुए : मुंबई : हिंदी के वरिष्ठ गीतकार डॉ.बुद्धिनाथ मिश्र पर केंद्रित साहित्यिक पत्रिका ‘अनुष्का’ के विशेषांक पर चर्चा एवं कवि गोष्ठी का आयोजन लोखंडवाला स्थित इंद्रलोक में किया गया. इसमें वरिष्ठ साहित्यकार नंदलाल पाठक, दबंग दुनिया के संपादक अभिलाष अवस्थी, आलोक भट्टाचार्य, सतीश शुक्ला रकीब, कवयित्री पूजाश्री, अर्चना जौहरी, दीप्ति मिश्र, अनुष्का के संपादक रासबिहारी पाण्डेय एवं स्वयं डॉ. बुद्धिनाथ मिश्र की महत्त्वपूर्ण सहभागिता रही.

‘हिंदी समय’ का इस बार का अंक सिनेमा पर केंद्रित

मित्रवर, सिनेमा एक ऐसी कला है जिसमें सारी कलाएँ आकर गलबहियाँ करती हैं। साहित्य, संगीत, चित्रकला, नृत्य, फोटोग्राफी सभी कलाएँ यहाँ मिल-जुलकर काम करती हैं। यही नहीं, सिनेमा में तकनीकि भी आकर कला के साथ ताल से ताल मिलाती नजर आती है। किसी एक फिल्म में दिखने वाले और न दिखने वाले हजारों लोगों की मेहनत शामिल होती है। ऐसी सामूहिकता किसी भी अन्य कला विधा में संभव नहीं। इसलिए यह अनायास नहीं है फिल्मों का जादू हम सब के सिर चढ़ कर बोलता है। हमने हिंदी समय (http://www.hindisamay.com) का इस बार का अंक सिनेमा पर केंद्रित किया है। हमें उम्मीद है कि हमारी यह विनम्र कोशिश आपको अपनी सी लगेगी।

‘ओपन’ मैग्जीन का ये अंक खरीदकर रख लीजिए

Vineet Kumar : ओपन मैगजीन का नेहरू पर ये अंक कई मायने में खास है. एक तो इसलिए भी कि नेहरू पर एक साथ जितनी सामग्री आपको चालीस रूपये में मिल जाएगी, उतनी किसी किताब में कम से कम तीन से चार सौ रूपये में मिलेंगे.