A+ A A-

  • Published in टीवी

Deepak Sharma : कभी केजरीवाल की सुपारी ली तो कभी मोदी की. कभी आसाराम की धोती के हर धागे खोलकर चीथड़े चीथड़े कर दिए. तो कभी बलात्कार का बलात्कार ही कर डाला. मूड हुआ तो कभी खबर ही छोड़ दी . तो कभी खबर समझे ही नही. कभी दो टके के एंकर को हीरो बना दिया और कभी दो टके के हीरो से एंकरिंग करा दी. जो जितना घटिया उतना ही बढ़िया. ये हाल है फिल्मसिटी के गैंग्स आफ वासेपुर के.

फिल्मसिटी यानी नॉएडा को वो अड्डा जहाँ सारे टीवी न्यूज़ चैनल बसे हैं. चिट फंड वाले चैनल.बिल्डर वाले चैनल.ब्लैकमेलर वाले चैनल. दलाली वाले चैनल. मंडी है यहाँ ऐसे न्यूज़ चैनलों की. यकीन मानिये ऐसे चैनल चलाने वाली टीमे बिलकुल गेंग्स आफ वासेपुर के किरदारों की तरह आपरेट करती है.

जो सरगना है वो ही चैनल हेड है.सरगना के साथ ही शूटर और पंटर का गिरोह है . कोई आउटपुट, कोई इनपुट हेड , कोई ब्यूरो चीफ, कोई एंकर के मेकअप में ....गिरोह में बसंती भी है और धन्नो भी ..पर सभी किसी न किसी रोल में गढ़े हुए है.

चैनल का अजेंडा मालिक के इशारे पर सरगना तय करता. ख़बरों का अजेंडा...धंधो का अजेंडा. और जिस दिन मालिक से खटपट होती है सरगना चैनल बदलते देर नही करता. बस यहाँ की खूबी यही कि चैनल बदलता है पर गैंग नही. यही गैंग छाए हैं फिल्मसिटी में....और मैं बीस साल की खोजी पत्रकारिता की निगाह से इन पर बारीक नज़र रखता हूँ.

कई मित्र इन गैंग्स से विचलित है. कई मित्र इन्ही गेंग्स को चैनलों की गिरती साख के लिए दोषी मानते है. कुछ को देश की चिंता है. कुछ को समाज की. कोई पत्रकारिता के मकसद पर सवाल दाग रहा है. कोई चैनल के कंटेंट पर. तो कोई इनकी सोच के दिवालियेपन पर. सवाल ही सवाल.

मित्रों चिंता न करिए. वक़्त आने दीजिये. हम आप मिलकर गेंग्स आफ वासेपुर का एनकाउंटर करेंगे. बस सवाल इतना ही कि मोदी इस गेंगवार में किसका साथ देंगे? क्या मोदी अधर्म पर धर्म की जीत का साथ देंगे? क्या मोदी ब्लैकमेलरों को ठोकेंगे ? क्या मीडिया की इस दलाली ख़तम करेंगे ? क्या वो भी वासेपुर के गिरोहबाजों से निपटना चाहते हैं? सवाल यही बड़ा है.

आजतक न्यूज चैनल में वरिष्ठ पद पर कार्यरत खोजी पत्रकार दीपक शर्मा के फेसबुक वॉल से.

अब PayTM के जरिए भी भड़ास की मदद कर सकते हैं. मोबाइल नंबर 9999330099 पर पेटीएम करें

भड़ास4मीडिया डॉट कॉम को छोटी-सी सहयोग राशि देकर इसके संचालन में मदद करें: Rs 100 > Rs 200 > Rs 500 > Rs 1000 > Rs 2000 > Rs 5000

Tagged under deepak sharma,

Leave your comments

Post comment as a guest

0
Your comments are subjected to administrator's moderation.
terms and condition.
  • No comments found

Latest Bhadas