A+ A A-

अभिनेता हैदर काजमी ने कई राष्ट्रीय पुरस्कार से सम्मानित अपनी हिंदी फिल्‍म ‘जेहाद’ का पोस्‍टर अयोध्‍या में जारी करते हुए देश को अमन का पैगाम दिया। इस दौरान उन्‍होंने कहा कि आज जेहाद को लेकर लोगों के बीच भ्रम की स्थिति है, उसी को साफ करने के लिए ‘जेहाद’ नाम से हमने फिल्‍म बनाई है। अयोध्या में बाबरी मस्जिद की बरसी (6 दिसंबर) के दो दिन पहले इस फिल्म के प्रमोशन दौरान उन्‍होंने ये भी कहा कि राम जन्‍म भूमि पर विवाद है, मगर ये राम की भूमि है यहां राम मंदिर बने। इस पर तो कई लोगों की सहमति हैं। मस्जिद लखनऊ, अलीगढ़ में बन जायेगा। लेकिन मेरा मनना है कि देश में जो नफरत है वो खत्‍म होनी चाहिए। 

उन्‍होंने कहा कि हिंदुस्तान का हर इंसान आज जिहाद के नाम से नफरत करने लगा है और ऐसे वक्त में बॉलीवुड का एक इंसान इसी विषय को लेकर एक दिल को छू लेने वाली फिल्म का निर्माण किया है। काजमी ने कहा कि वास्‍तव में जेहाद को आतंकवाद से जोड़ कर देखा जाता है और लोग सीधा इसे कश्‍मीर से जोड़ देते हैं। मगर ये सिर्फ कश्‍मीर तक सीमित नहीं है। जहां – जहां आतंकवाद है वे सब इसके शिकार हैं। लेकिन सभी जेहाद के असल मतलब से अंजान है, जो हम इस फिल्‍म के जरिये लोगों के सामने लेकर आ रहे हैं। जेहाद का मतलब होता है अपने अंदर के क्रोध और शैतान को मारना, ना कि इसके नाम पर बंदूक उठाकर बेकसूर लोगों को मारना।  

वहीं, प्रोमोशन के दौरान फिल्म के प्रचारक और वर्ल्ड रिकॉर्ड बुक में शामिल राजू कारीया ने बताया कि यह एक फिल्म निर्माता हैदर काजमी का जुनून है। वह ऐसी फिल्म का निर्माण करना चाहते थे, जिससे आज के युवाओं के बीच संदेश जाये ताकि देशवासियों और समाज का भला हो। देश की एकता – अखंडता, देश और समाज की भलाई के बारे में सोचें और अपने देश के हित में काम करें। इस फिल्म को देख कर दुनिया के कई देशों के फेस्टिवल में इस फिल्म को बेस्ट ऑफ द ईयर का अवार्ड प्रदान किया है। राकेश परमार फिल्म जेहाद के निर्देशक है और फिल्म में नवोदित नायिका अल्फिया मुख्य नायिका निभा रही है।

भड़ास4मीडिया डॉट कॉम को छोटी-सी सहयोग राशि देकर इसके संचालन में मदद करें: Rs 100 > Rs 200 > Rs 500 > Rs 1000 > Rs 2000 > Rs 5000

Leave your comments

Post comment as a guest

0
Your comments are subjected to administrator's moderation.
terms and condition.
  • No comments found

Latest Bhadas