गर्भ धारण करने से पहले इन हेल्थ पॉलिसीज के बारे में ज़रूर सोचें महिलाएं!

-यशवंत सिंह-

आज care कम्पनी (पूर्व में religare) की तरफ से उन दो हेल्थ पॉलिसीज पर चर्चा के लिए ज़ूम पर ऑनलाइन ट्रेनिंग कैम्प रखा गया जो महिलाओं से सम्बंधित हैं। हेल्थ बीमा फील्ड में कम्पटीशन बढ़ने से कस्टमर्स को फायदा मिला है। नए फीचर्स से लैस प्लान कम्पनियां लांच करती रहती हैं। केअर कम्पनी की सीनियर सिटीजन और वुमन की हेल्थ पॉलिसीज विशिष्ट है।

दोनों पालिसी के लिए कोई डाक्यूमेंट या हेल्थ टेस्ट ज़रूरी नहीं है। हां, जब अस्पताल जाना पड़ेगा तब आपके पास कोई एक आईडी कार्ड होना चाहिए अपने वजूद को साबित करने के लिए।

आज चर्चा महिलाओं के दो प्लान पर। ये हैं- जॉय टुडे और joy tomorrow. ये पॉलिसीज नवब्याहताओं को ध्यान में रखकर बनाई गई हैं। शादी के तुरंत बाद कोई महिला ये पालिसी अगर लेती है तो उसका प्रेग्नेंसी और डिलीवरी का पूरा खर्च कम्पनी उठाती है। बेबी का भी 90 दिन तक का बीमा इसमें शामिल है। pre पोस्ट डिलीवरी का सारा खर्च इसमें शामिल है। बस ध्यान ये रखना है कि पालिसी लेने के 9 महीने बाद ही आप कोई क्लेम ले सकती हैं। मतलब वेटिंग पीरियड 9 महीने है। इसीलिए joy today प्लान में तीन साल का प्रीमियम इकट्ठे लिया जाता है। जॉय टुमारो में साल साल भर पर प्रीमियम देने की व्यवस्था है लेकिन पेंच यही है कि जब 9 महीने वेटिंग पीरियड है तो अगले 4 महीने में 9 महीने की गर्भावस्था का पूरा क्लेम कैसे लिया जा सकता है? मतलब एक साल रिन्यूवल कराना ही पड़ेगा।

उन महिलाओं के लिए ये हेल्थ बीमा ज़रूरी हैं जिन्हें आशंका हो कि उनकी गर्भावस्था व डिलीवरी में काफी पैसे खर्च हो सकते हैं। वे इन पॉलिसीज के जरिए आर्थिक मोर्चे पर मानसिक सुकून पा सकती हैं।

महिलाओं की इन पॉलिसीज में नॉर्मल / क्रिटिकल सभी बीमारियां भी कवर हैं।

इन पॉलिसीज में टेक्निकल कई पेंच होते हैं इसलिए हेल्थ बीमा खरीदने से पहले ध्यान से पालिसी पढ़ना समझना और सवाल करना ज़रूरी है तभी पूरा लाभ कस्टमर ले पाएगा।

आज के ट्रेनिंग कैम्प से काफी ज्ञान मिला। अगले हफ्ते सीनियर सिटीजन की हेल्थ पॉलिसीज पर चर्चा की जाएगी। 

अन्य किसी जानकारी के लिए मेल के माध्यम से संपर्क किया जा सकता है.

यशवंत

Yashwantdelhi@gmail.com


भड़ास4मीडिया तक कोई भी सूचना जानकारी इस मेल आईडी के जरिए पहुंचा सकते हैं- bhadas4media@gmail.com

  • भड़ास की पत्रकारिता को जिंदा रखने के लिए आपसे सहयोग अपेक्षित है- SUPPORT

 

 

  • भड़ास तक खबरें-सूचनाएं इस मेल के जरिए पहुंचाएं- bhadas4media@gmail.com

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *