बार्क और टैम का हाथ मिलाना : विज्ञापनदाताओं के लिए अच्छा, दर्शकों को कोई लाभ नहीं

Mukesh Kumar : ब्रॉडकास्ट ऑडिएंस रिसर्च कौंसिल यानी बार्क और टैम इंडिया का हाथ मिलाना विज्ञापन दाताओं के लिए अच्छा है, क्योंकि अब उन्हें एक ही एजंसी के द्वारा ज़्यादा विश्वसनीय आँकड़े मिलेंगे। दोनों ने मिलकर जो कंपनी बनाई है, उसका प्रबंधन बार्क के पास रहेगा, मगर वे अब बड़ी तादाद में और गाँव तक में मीटर (34000) लगाएंगी। इससे सैंपल साइज़ का मामला काफी हद तक सुलझ जाएगा।

टैम इंडिया के लिए तो ये अच्छा है ही, क्योंकि बार्क की वजह से उसका धंधा चौपट हो रहा था। जहां तक दर्शकों का सवाल है तो उन्हें कोई लाभ नहीं होने जा रहा। टीआरपी रहेगी और वह अपनी तरह से कंटेंट को करप्ट भी करेगी, जैसा कि अभी तक करती आ रही है।

वरिष्ठ पत्रकार मुकेश कुमार के फेसबुक वॉल से.

इसे भी पढ़ें…

BARC India, TAM India join forces to supply raw data for ratings