नोएडा में साठ हजार फ्लैट मालिकों को राहत

केंद्र सरकार ने ओखला पक्षी विहार के आसपास के संवेदनशील क्षेत्र में नियमों में ढील देने की घोषणा की है। यह क्षेत्र दिल्ली, उत्तर प्रदेश और हरियाणा की सीमा पर है। इससे नोएडा में करीब 60,000 फ्लैट खरीदने वालों को राहत मिलेगी। सरकार ने ओखला पक्षी विहार का दायरा कम करने के लिए ड्राफ्ट नोटिफिकेशन मंजूर कर लिया है। अगले एक हफ्ते में नया नोटिफिकेशन जारी कर दिया जाएगा। ड्राफ्ट नोटिफिकेशन के अनुसार ईको सेंसिटिव जोन अब पक्षी विहार के पूर्वी, पश्चिमी और दक्षिणी सीमा से 100 मीटर के दायरे तक होगा जबकि उत्तरी सीमा से 1.27 किलोमीटर तक होगा।

केंद्रीय पर्यावरण मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने एक न्यूज चैनल से कहा, ‘इस बारे में एक हफ्ते में अधिसूचना जारी होगी। ग्रीन जोन का कानून पक्षी विहार से करीब 100 मीटर के उत्तरी, पश्चिमी और दक्षिणी सीमा पर लागू होगा। इससे नोएडा अथॉरिटी बिल्डर्स को काम पूरा होने के प्रमाण-पत्र दे सकेगी। इसके बाद फ्लैट खरीदार कब्जा ले सकेंगे।’ ये फ्लैट वर्षों से तैयार हैं। नेशनल ग्रीन ट्रिब्यूनल ने 2013 में पक्षी विहार का क्षेत्र करीब 10 किलोमीटर तय किया था। इसके बाद ये फ्लैट इस क्षेत्र के तहत गए थे। इससे करीब 50-55 रियल एस्टेट प्रोजेक्ट्स को धक्का लगा था और काम रोकना पड़ा था। पहले इसे नो कंस्ट्रक्शन जोन कहा जाता था। लेकिन अब यह इससे बाहर का क्षेत्र हो जाएगा। ऐसे में इस घोषणा के बाद अब ओखला पक्षी विहार के आसपास नए फ्लैट भी बन सकेंगे।