जम्मू-कश्मीर में राजनीतिक बेवकूफियों का पर्व

शेष जी : जम्मू-कश्मीर के मुख्यमंत्री में राजनीतिक समझ है ही नहीं : जम्मू कश्मीर के मुख्यमंत्री, उमर अब्दुल्ला के ताज़ा बयानों से  लगता है कि वे अपना दिमागी संतुलन खो बैठे हैं और जम्मू-कश्मीर के बारे में अंट-शंट बोल रहे हैं. उन्होंने विधानसभा में कहा कि जम्मू-कश्मीर का भारत में विलय एक संधि के तहत था और देश की राजनीतिक पार्टियों ने उस संधि को ख़त्म कर दिया है और कश्मीर के लोग इस से बहुत नाराज़ हैं. विधान सभा में उमर अब्दुल्ला गुस्से में थे और बीजेपी वालों के हल्ले-गुल्ले के जवाब में अपनी प्रतिक्रिया दे रहे थे. गैर ज़िम्मेदार बात को आगे बढाते हुए उमर ने कहा कि हम दोनों से उम्मीद की गयी थी कि हम समझौते का सम्मान करेगें. उन्होंने कहा कि जम्मू- कश्मीर का भारत में विलय नहीं हुआ था, वह एक संधि थी.