दिल्ली विश्वविद्यालय की हर चार में से एक लडकी का होता है यौन उत्पीडन

दिल्ली विश्वविद्यालय यानी डीयू और उसके कॉलेजों में पढ़ने वाली हर 4 में से 1 छात्रा को यौन उत्पीड़न से गुजरना पड़ता है. यह साफ़ हुआ है कांग्रेस की छात्र इकाई नैशनल स्टूडेंट्स यूनियन ऑफ इंडिया (NSUI) द्वारा तैयार सुरक्षा पर ऑडिट रिपोर्ट से. इस रिपोर्ट में विश्वविद्यालय के 50 विभागों और कॉलेजों को शामिल किया गया था. 

इस ऑडिट के लिए कुल 810 छात्र-छात्राओं से सर्वे प्रश्नोत्तर किए गए. इन 810 में करीब 90 प्रतिशत महिलाएं और 10 प्रतिशत पुरूष थे. सर्वे के दौरान हर चार छात्राओं में से एक ने यौन उत्पीड़न की शिकायत की. यौन उत्पीड़न के 188 मामलों में से 40 मामले शारीरिक उत्पीड़न के थे. इन उत्पीड़न के पांच में से एक मामला जबरदस्ती छूने या पकड़ने का था. उत्पीड़न के प्रत्येक पांच मामलों में से एक सोशल मीडिया पर ट्रोल करने या कॉल या लिखित वॉट्सऐप मेसेजों के जरिए उत्पीड़न का था. सर्वे का जवाब देने वाले 80 प्रतिशत छात्र-छात्राओं ने परिसर में असुरक्षा के लिए विश्वविद्यालय या कॉलेज प्रशासन की ओर से कदम नहीं उठाने को जिम्मेदार ठहराया.