कोहली की आंख से निकले आंसू

चेन्नई से मैच हारने के बाद विराट कोहली बेहद निराश दिखे। उनकी आंखों से निकल रहे आंसू साफ बता रहे थे कि अगर आरसीबी 20 रन ज्यादा बना लेती, तो मैच जीत सकती थी। मैच के बाद विराट कोहली ने कहा कि चेन्नई के खिलाफ यह बहुत ही छोटा लक्ष्य था। 139 रन का टारगेट डिफेंड करना मुश्किल था। उन्होंने कहा, सेमीफाइनल में पहुंचना हमारे लिए बहुत अच्छा रहा। हमने जैसा खेला इसके लिए टीम के प्लेयर्स की सराहना की जानी चाहिए। गौरतलब है कि आशीष नेहरा की अगुवाई में गेंदबाजों के दमदार प्रदर्शन के बाद सलामी बल्लेबाज माइक हसी के जुझारू अर्धशतक से चेन्नई सुपकिंग्स ने इंडियन प्रीमियर लीग के दूसरे क्वालीफायर में रॉयल चैलेंजर्स बेंगलुरु को रोमांचक मुकाबले में तीन विकेट से हराकर छठी बार फाइनल में जगह बनाई। आईपीएल के इतिहास में चेन्नई सबसे कामयाब टीम रही है, जिसने 2010 और 2011 में खिताब जीते और अब तक पांच बार फाइनल में पहुंच चुकी है। आईपीएल आठ में आरसीबी पर सुपरकिंग्स की यह तीन मैचों में तीसरी जीत है।

आरसीबी के 140 रन के लक्ष्य का पीछा करते हुए हसी ने 46 गेंद में तीन चौकों और दो छक्कों की मदद से 56 रन की पारी खेलने के अलावा कप्तान महेंद्र सिंह धौनी (26) के साथ चौथे विकेट के लिए 47 रन जोड़कर टीम को 19.5 ओवर में सात विकेट पर 140 रन बनाकर दर्ज करने में अहम भूमिका निभाई। इससे पहले सुपरकिंग्स ने आशीष नेहरा (28 रन पर तीन विकेट) की उम्दा गेंदबाजी से आरसीबी को आठ विकेट पर 139 रन के स्कोर पर रोक दिया। रविचंद्रन अश्विन ने बेहद किफायती गेंदबाजी करते हुए 13 रन देकर एक विकेट हासिल किया। ड्वेन ब्रावो और मोहित शर्मा ने भी क्रमश: 21 और 22 रन देकर एक एक विकेट चटकाया।

इन दोनों टीमों के बीच हुए दोनों लीग मैचों में भी सुपरकिंग्स ने ही जीत दर्ज की थी। चेन्नई की टीम ने 22 अप्रैल को बेंगलुरू में 27 रन की जीत दर्ज करने के बाद चार मई को चेन्नई में भी आरसीबी को 24 रन से हराया था। लक्ष्य का पीछा करने उतरे सुपरकिंग्स ने चौथे ओवर में ही सलामी बल्लेबाज ड्वेन स्मिथ (17) का विकेट गंवा दिया जिन्होंने श्रीनाथ अरविंद (25 रन पर एक विकेट) की गेंद पर डीप स्क्वायर लेग में मिशेल स्टार्क को कैच थमाया। अगली गेंद पर फाफ डु प्लेसिस भी भाग्यशाली रहे जब गेल ने पहली स्लिप में उनका कैच टपका दिया।

डु प्लेसिस (21) ने हसी के साथ मिलकर पारी को संभाला। हसी को भी हालांकि 11 रन के निजी स्कोर पर जीवनदान मिला जब डेविड वाइसी (30 रन पर एक विकेट) की गेंद पर विकेटकीपर दिनेश कार्तिक उनका कैच नहीं पकड़ पाए। दोनों ने नौवें ओवर में टीम का स्कोर 50 रन के पार पहुंचाया। लेग स्पिनर युजवेंद्र चाहल (28 रन पर दो विकेट) ने इसके बाद आरसीबी को वापसी दिलाई जब उन्होंने तीन गेंद के भीतर डु प्लेसिस और सुरेश रैना (0) को पवेलियन भेजा। डु प्लेसिस चाहल की गेंद को स्वीप करने की कोशिश में पूरी तरह चूक गए और अपना लेग स्टंप गंवा बैठे जबकि रैना ने लांग आफ पर वाइसी को कैच थमाया।

अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट के दो सर्वश्रेष्ठ फिनिशर माने जाने वाले हसी और कप्तान धौनी इसके बाद मैदान पर थे। हसी ने मोर्चा संभालते हुए वाइसी और अरविंद पर चौके जड़े। हसी और धौनी ने स्ट्राइक रोटेट करके रन गति को काबू में रखने को तरजीह दी। सुपरकिंग्स को अंतिम पांच ओवर में जीत के लिए 49 रन की दरकार थी। हसी ने चाहल पर दो छक्कों के साथ 43 गेंद में अर्धशतक पूरा किया और साथ ही 16वें ओवर में टीम का स्कोर 100 रन के पार पहुंचाया। हसी हालांकि अगले ओवर में वाइसी की गेंद पर शार्ट फाइन लेग पर हर्षल पटेल को आसान कैच दे बैठे। पवन नेगी (छह गेंद में 12) ने हर्षल के ओवर में छक्के सहित 14 रन जुटाकर रन और गेंद के बीच के अंतर को कम किया। धौनी ने इसके बाद स्टार्क पर चौका जड़ा लेकिन अंतिम दो गेंद पर नेगी और ड्वेन ब्रावो (0) पवेलियन लौट गए

अपने मोबाइल पर भड़ास की खबरें पाएं. इसके लिए Telegram एप्प इंस्टाल कर यहां क्लिक करें : https://t.me/BhadasMedia