फॉक्सवैगन के करोड़ों के घोटाले के बाद सीईओ ने दिया इस्तीफा

बर्लिन: फाक्सवैगन के मुख्य कार्यकारी मार्टिन विंटरकॉर्न ने कंपनी के वाहनों में प्रदूषण जांच में धोखाधड़ी को लेकर हुए घोटाले के मद्देनजर इस्तीफा दे दिया है। विंटरकॉर्न ने अपने एक बयान में कहा है कि ‘ मैं पिछले कुछ दिनों से घटित घटनाक्रमों से अचंभित हूं। फाक्सवैगन ग्रुप में इस स्तर का घोटाला संभव है, इसको लेकर मैं अवाक हूं।’

                     
                     जर्मनी ने इस जांच की घोषणा ऐसे समय में की है जबकि आशंका जताई जा रही है कि इस घोटाले से ‘मेड इन जर्मनी’ ब्रांड को नुकसान हो सकता है। फाक्सवैगन ने स्वीकार किया कि दुनिया भर में उसकी 1.1 करोड़ डीजल कारों में प्रदूषण जांच को चकमा देने वाले उपकरण लगे थे। अमेरिका व कनाडा ने फाक्सवैगन के खिलाफ आपराधिक जांच शुरू की है। फ्रैंकफर्ट स्टाक एक्सचेंज में फाक्सवैगन के शेयर की कीमत में 23 सितंबर को लगभग 20 प्रतिशत की गिरावट आई। जबकि 21 सितंबर को इनमें 16 प्रतिशत की गिरावट रही थी। उल्लेखनीय है कि इस मामले का खुलासा अमेरिका की पर्यावरण संरक्षण एजेंसी ने किया था। इसके बाद कंपनी ने स्वीकार किया कि उसने जानबूझकर ऐसे साफ्टवेयर लगाए ताकि आधिकारिक उत्सर्जन जांच के इंजन स्वच्छ मोड पर चला जाए।
इससे पहले, जर्मनी की सरकार ने फाक्सवैगन द्वारा अपने वाहनों में प्रदूषण जांच को चकमा देने वाले उपकरण लगाने के घपले में देश की सबसे बड़ी वाहन कंपनी फाक्सवैगन के खिलाफ जांच शुरू कर दी है। सरकार ने जर्मनी की इस प्रतिष्ठित वाहन कंपनी के खिलाफ लगे आरोपों की जांच के लिए जांच आयोग बनाया है। संघीय परिवहन मंत्री एलेक्जेंडर दोबरिंत ने यह घोषणा की। उन्होंने कहा कि इस जांच के तहत आयोग इसी सप्ताह फाक्सवैगन के वोल्फसबर्ग स्थित मुख्यालय जाएगा। उन्होंने बताया कि जर्मनी का परिवहन मंत्रालय व जांच आयोग इस मामले में अमेरिकी अधिकारियों का सहयोग करेंगे ताकि समुचित जांच सुनिश्चित हो।