UGC की अनुदान कटौती है बहाना, JNU और TISS है निशाना

देश की चौथे नम्बर की सबसे बढ़िया जवाहरलाल नेहरू यूनिवर्सिटी (JNU) की रिसर्च की सीटों में भारी कटौती के बाद अब TISS (Tata Institute of Social Sciences) पर सरकार हमला कर रही है। इस संस्थान के 25 टीचर्स को यूजीसी द्वारा अनुदान कटौती के कारण नौकरी से हाथ धोना पड़ रहा है। TISS के शिक्षकों और छात्रों द्वारा सरकार की कई नीतियों की आलोचना होती रही है। मुम्बई में कुछ महीने पहले आयोजित ‘मुम्बई कलेक्टिव’ कार्यक्रम के आयोजन में TISS के छात्रों और कुछ शिक्षकों का बड़ा हाथ था। JNU और रोहित वेमुल्ला की आत्महत्या पर हुए विरोध प्रदर्शन में यहाँ के छात्रों ने बढ़ चढ़ कर हिस्सा लिया था। अब पर कतरने के लिए इस संस्थान के 4 केंद्रों- 1.सेंटर फॉर एक्सेलेंस ऑफ़ ह्यूमन राइट्स एजुकेशन, 2.स्कुल ऑफ़ लॉ, राइट्स एंड कांस्टीट्यूशनल गवर्नेंस, 3. एडवांस्ड सेंटर फॉर वुमन्स स्टडीज, और 4. सेंटर फॉर स्टडी ऑफ़ सोशल एक्सकलुशन एंड इंकलुसिव पॉलिसीज को निशाना बनाया गया है।

इसके पहले जेएनयू को देशद्रोही ठहरा कर फिजिकल सायन्स, कोम्प्यूटेशनल  एंड integrated MPhil-PhD इंटीग्रेटिव सायन्स, बायोटेक्नोलॉजी और संस्कृत के मांग के संयुक्त एम् फील- पीएचडी कोर्स बंद कर दिए गए। jnu के प्रतिष्ठित इतिहास और राजनीती शास्त्र विभाग की सीटें बंद कर दी गईं, एमफील/ पीएचडी केवल दो स्कुल ऑफ़ सोशल सायंसेस विभाग से होगी, स्कुल ऑफ़ लाइफ सायंसेस के लिए 17 और स्कुल ऑफ़ सोशल सायंसेस के लिए अब 13 सीट्स ही बची हैं। दक्षिण अफ्रीकन स्टडीज, भूगोल, आर्ट्स एंड एस्थेटिक्स, विभागों में केवल एक ही सीट बची है। पहले एडमिशन के समय 80 प्रतिशत अंक प्रवेश परीक्षा के और 20 प्रतिशत अंक वायवा के होते थे। अब फार्मूला मैनेजमेंट को ज्यादा अधिकार देता है और वायवा के 50 प्रतिशत अंक करके एंट्रेंस के अंकों का महत्व 50 प्रतिशत तक कम कर दिया गया है। इस तरह अब गुणी छात्रों के बजाये सेटिंग वाले छात्रों की संख्या बढ़ाई जा रही है। jnu दुनिया की 100 सबदे अच्छी यूनिवर्सिटीज में शामिल है और TISS भी विश्वप्रसिद्ध संस्थान है।

भाजपा और आरएसएस को अच्छे, होशियार और तेजतर्रार सवाल पूछने वाले छात्रों से डर लगता है। उनकी नफरत पर् आधारित विचारधारा केवल हुडदंगियों को तैयार कर सकती है जिनको रिसर्च या संशोधन में कोई दिलचस्पी नहीं होती इसीलिए आरएसएस द्वारा देशभर के कई विश्विद्यालयों, प्राचार्यों, प्राध्यापकों के सम्मेलन में पहुंचे 721 शिक्षाविदो में से किसने संशोधन कार्य किया है पूछने पर एक भी हाथ नहीं उठा। उलटे कई लोग उस सम्मेलन में अपना बायोडेटा लेकर जैक लगाने आ गए थे। मौलिक ज्ञान की खोज आरएसएस वालों के बस की बात नहीं है। क्योंकि उनके हिसाब से सबकुछ भारत में पहले ही खोजा जा चुका है, नया खोजने की जरुरत नहीं है। लेकिन वामपंथी या खुले विचारों के छात्रों के कारण JNU और TISS पूरी दुनिया में अपने मेहनती रिसर्च के लिए प्रसिद्ध हैं। फर्क साफ़ है- दो रास्ते हैं। एक पर हर कदम पर बैन है और दूसरा रास्ता हर तरह के रिसर्च और दिमाग के इस्तेमाल को बढ़ावा देता है, बताइये देश किस रास्ते पर चले?

एडवोकेट संजय पांडे
adv.sanjaypande@gmail.com
9221633267
मुंबई

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *