जलता उत्तर प्रदेश और अफसरों की अमेरिकी मौज

लखनऊ : कभी-कभी तो मुख्यमंत्री अखिलेश यादव पर सबको तरस भी आता है। जिस समय प्रदेश बारूद के ढेर पर बैठा हो उस समय प्रदेश का प्रमुख सचिव गृह अमेरिका में दीपावली मना रहा हो तो क्या संदेश लोगों को दिया जा सकता है। मुजफ्फरनगर समेत प्रदेश के कई हिस्सों में जबरदस्त सांप्रदायिक तनाव की स्थिति बनी हुई है। मुख्यमंत्री अखिलेश यादव अपने जीवन के सबसे कठिन दौर का सामना कर रहे हैं। ऐसे में जो अफसर उनके साथ दिन रात जुटकर प्रदेश की कानून व्यवस्था के विषय में सोंचे उसकी जगह अफसर दीपावली की छुट्टियां कहां मनायें, इस पर विचार कर रहे हैं। पूरी नौकरशाही में इस बात को लेकर जबरदस्त चर्चा हो रही है कि क्या प्रदेश का गृह विभाग पहले की तरह उसी ढर्रे पर चलेगा या फिर इसमें कोई सकारात्मक बदलाव सामने आयेगा।

भ्रष्ट अफसरों को संरक्षण देने वाले मुलायम का अखिलेश से बेहतरी की उम्मीद करना बेमानी है

सैफई में पिता ने पुत्र से कहा- तुम्हारा राज ख़राब चल रहा है, कुछ भी ठीक नहीं हो रहा है… यह सुनकर सबको लगा एक पिता का शायद पुत्र पर स्नेह है इस कारण सुधारने की कोशिश में लगा है. पर जब अगले 15 दिन में ही यह बात पिता ने बार-बार दोहरानी शुरू कर दी, तो लोगों को लगा कि शायद मामला कुछ गड़बड़ है. लोगों ने कयास लगाने शुरू कर दिए कि पिता ने पुत्र को गद्दी तो सौंप दी, पर अब शायद उन्हें कुछ अधूरा-अधूरा सा लग रहा है.