भ्रष्ट अफसरों को संरक्षण देने वाले मुलायम का अखिलेश से बेहतरी की उम्मीद करना बेमानी है

सैफई में पिता ने पुत्र से कहा- तुम्हारा राज ख़राब चल रहा है, कुछ भी ठीक नहीं हो रहा है… यह सुनकर सबको लगा एक पिता का शायद पुत्र पर स्नेह है इस कारण सुधारने की कोशिश में लगा है. पर जब अगले 15 दिन में ही यह बात पिता ने बार-बार दोहरानी शुरू कर दी, तो लोगों को लगा कि शायद मामला कुछ गड़बड़ है. लोगों ने कयास लगाने शुरू कर दिए कि पिता ने पुत्र को गद्दी तो सौंप दी, पर अब शायद उन्हें कुछ अधूरा-अधूरा सा लग रहा है.