जलता उत्तर प्रदेश और अफसरों की अमेरिकी मौज

लखनऊ : कभी-कभी तो मुख्यमंत्री अखिलेश यादव पर सबको तरस भी आता है। जिस समय प्रदेश बारूद के ढेर पर बैठा हो उस समय प्रदेश का प्रमुख सचिव गृह अमेरिका में दीपावली मना रहा हो तो क्या संदेश लोगों को दिया जा सकता है। मुजफ्फरनगर समेत प्रदेश के कई हिस्सों में जबरदस्त सांप्रदायिक तनाव की स्थिति बनी हुई है। मुख्यमंत्री अखिलेश यादव अपने जीवन के सबसे कठिन दौर का सामना कर रहे हैं। ऐसे में जो अफसर उनके साथ दिन रात जुटकर प्रदेश की कानून व्यवस्था के विषय में सोंचे उसकी जगह अफसर दीपावली की छुट्टियां कहां मनायें, इस पर विचार कर रहे हैं। पूरी नौकरशाही में इस बात को लेकर जबरदस्त चर्चा हो रही है कि क्या प्रदेश का गृह विभाग पहले की तरह उसी ढर्रे पर चलेगा या फिर इसमें कोई सकारात्मक बदलाव सामने आयेगा।

भ्रष्ट अफसरों को संरक्षण देने वाले मुलायम का अखिलेश से बेहतरी की उम्मीद करना बेमानी है

सैफई में पिता ने पुत्र से कहा- तुम्हारा राज ख़राब चल रहा है, कुछ भी ठीक नहीं हो रहा है… यह सुनकर सबको लगा एक पिता का शायद पुत्र पर स्नेह है इस कारण सुधारने की कोशिश में लगा है. पर जब अगले 15 दिन में ही यह बात पिता ने बार-बार दोहरानी शुरू कर दी, तो लोगों को लगा कि शायद मामला कुछ गड़बड़ है. लोगों ने कयास लगाने शुरू कर दिए कि पिता ने पुत्र को गद्दी तो सौंप दी, पर अब शायद उन्हें कुछ अधूरा-अधूरा सा लग रहा है.

लोकसभा चुनाव हाथ से जाता दिख रहा मुलायम को, यूपी में होगा बड़ा उलटफेर

: मुलायम की चिंता और भ्रष्ट नौकरशाही : पिछले कुछ दिनों से राज्य की प्रशासनिक व्यवस्था पर सपा प्रमुख मुलायम सिंह यादव की तल्ख़ टिप्पड़ी लगातार सुनने को मिल रही है।  कभी वे पार्टी के बैठक में तो कभी खुले मंच से मुख्यमंत्री अखिलेश को लगातार ये नसीहत दे रहे है कि प्रशासनिक व्यवस्था में काफी गड़बड़ी है जिसमे सुधार की आवश्यकता है। दरसल सपा प्रमुख एक ही प्रशासनिक अधिकारी को कई विभाग दिये जाने से नाराज बताये जा रहें है।  इसके अतिरिक्त, सूत्रों से मिल रही जानकारी के अनुसार सपा प्रमुख पंचम तल के भी  कुछ अधिकारीयों की कार्यप्रणाली से काफी ज्यादा नाराज है।