हिंदुस्तान, पटना में हताशा और निराशा का माहौल

दैनिक भाष्कर के लांच होने के पहले ही बिहार के अग्रणी अखबार में हताशा और निराशा का माहौल व्याप्त हो गया है। हिंदुस्तान के सिटी डेस्क से 5 पत्रकार तो चले ही गए अभी और भी प्रमुख पत्रकारों के जाने के संकेत मिले हैं। इसकी वजह वेतन में कमी तो थी ही लेकिन प्रमुख वजह सिटी इंचार्ज कमलेश के अशिष्ट एवं तानाशाही व्यवहार से क्षुब्ध होना भी बताया जा रहा है। इसके अलावा समाचार संपादक प्रमोद मिश्र से भी उनके कई पत्रकार सहकर्मी नाखुश हैं। शशि शेखर के साथ बैठक में उन्होंने आश्वस्त किया था कि हिंदुस्तान पटना से किसी भी पत्रकार या अन्य सहकर्मियों को जाने नहीं देंगे लेकिन वे इस मामले में असफल सिद्ध हुए। 
 
ब्यूरो से भी तीन लोगों के भाष्कर में जाने की प्रबल आशंका है। एचआर हेड राकेश सिंह गौतम के पटना में कैंप करने की खबर है और शशि शेखर के भी पहुंचने की संभावना है। दूसरी तरफ पटना के पत्रकारों एवं डीटीपी प्रिंटिंग एवं कम्यूनिकेशन सेक्शन के कंप्यूटर ऑपरेटर का वेतन बढ़ा दिये जाने से जिले में कार्यरत पत्रकारों में भारी निराशा और हताशा है। हिंदुस्तान के ऐसे काफी संख्या में पुराने साथी भाष्कर में अपना नया ठिकाना ढूंढ़ रहे हैं। 
 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *