भड़ास की साहसी पत्रकारिता को सपोर्ट करें

भड़ास के संचालन में सहयोग करें

भड़ास4मीडिया मीडिया वालों की खबर लेता है.

भड़ास4मीडिया एक ऐसा न्यू मीडिया प्लेटफार्म है जो मीडिया के अंदरखाने चलने वाले स्याह-सफेद का खुलासा करता है.

भड़ास4मीडिया आम मीडियाकर्मियों के दुख-सुख का प्रतिनिधित्व करता है.

भड़ास4मीडिया मुख्य धारा की मीडिया, कारपोरेट मीडिया और करप्ट मीडिया द्वारा दबाई-छिपाई गई खबरों को प्रमुखता के साथ प्रकाशित प्रसारित करता है.

भड़ास4मीडिया पूरे मीडिया जगत का माइंडसेट तय करता है.

भड़ास4मीडिया एक दशक से ज्यादा समय से निर्बाध चल रहा है.

भड़ास4मीडिया क्राउड फंडिंग के जरिए संचालित किया जाता है.

भड़ास4मीडिया को इसके पाठक चंदा, डोनेशन और आर्थिक मदद देते हैं.

भड़ाास4मीडिया खबर छापने के मामले में  कभी किसी के सामने न झुका, न डरा.

भड़ास4मीडिया आर्थिक संकट की स्थिति आने पर किसी कारपोरेट या करप्ट के यहां नहीं गिड़गिड़ाता.

भड़ास4मीडिया भ्रष्टाचारियों से समझौता करने की बजाय अपने पाठकों से मदद की अपील करना ज्यादा बेहतर समझता है.

भड़ास4मीडिया से प्रत्यक्ष-अप्रत्यक्ष रूप से जुड़े हजारों शुभचिंतक त्वरित मदद कर संकट टालने का काम करते रहे हैं.

भड़ास4मीडिया अगर आपको भी अच्छा लगता है तो इसकी सेहत दुरुस्त रखने के लिए आर्थिक सहयोग करें.

भड़ास4मीडिया जैसे पोर्टल को बचाए-बनाए रखने के लिए आगे बढ़ कर पहल करने की जरूरत है.

भड़ास4मीडिया को आपने आजतक कभी कोई आर्थिक सहयोग नहीं किया है तो खुद की समझ और संवेदना के बारे में सोचें कि जनपक्षधर मीडिया को जिंदा रखने में आपका क्या योगदान है?

PayTM : 9999330099 

Bank : Bhadas4Media , Current A/c 31790200000050, Bank of Baroda, Branch : Vasundhara Enclave, Delhi-96 (RTGS / NEFT / IFSC code : barb0vasund)

Mail : yashwant@bhadas4media.com

कृपया हमें अनुसरण करें और हमें पसंद करें:

Comments on “भड़ास की साहसी पत्रकारिता को सपोर्ट करें

  • आलोक द्विवेदी says:

    अपकीं सहायता की अपील एक प्रकार से उचित है परंतु यह अपील पारंपरिक नही है साथ ही इसमे पारदर्शिता का अभाव है ऐसी स्थिति में सहयोग करने वालों के सहयोग का संबल कमजोर होना अवश्यम्भावी है।

    क्या इसके लिए विज्ञापन जैसा को माध्यम या तरीका उचित नही होगा।

    विज्ञापन के लिए पत्रिका की ख्याति आवश्यक है जो कि आपके द्वारा दिये गए सामाचारो को पढ़ कर कठिन नही लगती है और हो सकता है थोड़ी प्रादेशिक स्तर पर मेहनत बढ़ानी पड़े पर परिश्रम तो आवश्यक है।

    क्योंकि विज्ञापन अर्थ प्राप्ति का उचित माध्यम प्रतीत होता है।
    हाँ यह बात अलग है कि विज्ञापन किस सीमा तक और उनका प्रभाव समाचार पर न पड़े यह एक कठिन चुनोती है।

    Reply
  • PRAYAGRAJ U.P ME A.N.I KA CAMRAMAN{ PANKAJ-SRIVASTAVA -9415775811}- 5-1-19 KO C.M -U.P KE PROGRAM ME THE NEWS CHANNEL KI LADY REPOTER SE MISBIHAVE KIYA.AUR FOTO KO F.B PE LOAD KAR KE COMMENTS KIYA….SHAME SHAME..

    Reply
    • मनोज कुमार says:

      भड़ास4 मीडिया पढ़ने में रोचक और निस्संदेह ज्ञानवर्धक भी है, परंतु लगता है कि आप लोग कांग्रेसी मानसिकता के हैं, घोर भाजपा विरोधी होना भी आपकी निष्पक्षता पर सवालिया निशान लगाता है, मैं आपका पुराना पाठक हूँ, आपकी संदिग्ध निष्पक्षता के चलते मैंने आपको आर्थिक सहयोग नही किया ।

      Reply
  • #Bhadaas Team.you know why I am let you know some such playschool learn category thing’s,cause I believe you don’t deserve it.your whole entire team I experienced a lot of news which had let us knowing each other which is no co relate with political policy issue.& One more thing can you ask by yourself why you are spreading fucking short story news huhhh#huhhhh man really grow up.

    Reply
  • मनीष दुबे says:

    इस अन्धयुग मे गोदी पछाड़ मीडिया वालों की भीड़ में एकमात्र भड़ास ही है जो अपनी बेलाग बेलगाम पत्रकारिता के लिए चर्चित व विस्वसनीय प्लेटफॉर्म है. यशवंत भाई जैसे कभी किसी से कुछ न मांगने वाले लोग इसे संचालित कर करा रहे है.
    प्लीज इसके संचालन हेतु मदद करें. ताकि मीडिया के अंदर की करतूतें निरन्तर उजागर होती रहें.
    जै जै भड़ास

    Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *