आईआईएमसी अल्युमिनाई मीट के निहितार्थ और हास्‍टल की मेरी मांग

भारतीय जनसंचार संस्थान (IIMC) में बहुप्रतीक्षित अल्युमिनाई मीट यानी पूर्व छात्र सम्मेलन का आयोजन आईआईएमसी अल्युमिनाई एसोशिएसन द्वारा किया गया. मैं नियत समय पर संस्थान पहुंच गया. मेरी कक्षा (वर्ष 2007-08) के तीन विद्यार्थी वहां मौजूद थे. हल्की बूंदा-बांदी के बीच कार्यक्रम शुरू हुआ. इस कार्यक्रम को सफल बनाने में मेरे कई सीनियर और अनुज छात्रों ने महती भूमिका निभाई. पूरे समारोह के दौरान उनकी व्यस्तता देखकर यह जरूर कहा जा सकता है कि किसी भी कार्यक्रम को सफल बनाने में एड़ी-चोटी की मेहनत करनी पड़ती है.

थी..हूं..रहूंगी के लिए वर्तिका नंदा को ऋतुराज सम्मान

डॉ.वर्तिका नंदा को प्रतिष्ठित परम्परा ऋतुराज सम्मान से सम्मानित किया गया है.  वर्तिका जी को यह सम्मान उनके कविता संग्रह 'थी.. हूं… रहूंगी' के लिए मिला। सम्मान समारोह दिल्ली में हुआ। यह कविता संग्रह महिला अपराध पर आधारित है। इस विषय पर लिखा जाने वाले यह अपने तरह का अनूठा कविता संग्रह है। हर साल यह सम्मान दिया जाता है। वर्तिका नंदा को पुरस्कार देने का निर्णय तीन सदस्यी निर्णायक मंडल ने की। इसमें राजनारायण बिसारिया, डा. अजित कुमार और डॉ. कैलाश वाजपेयी शामिल थे।