विस्‍मृति के गर्त में अकेले जा रहे हैं हम : वाजपेयी

कवि-आलोचक और ललित कला अकादमी के अध्‍यक्ष अशोक वाजपेयी आज 70 साल के हो गए. वे पिछले पचास वर्षों से अपनी रचना यात्रा में लगे हुए हैं. इस दौरान इन्‍होंने अपने जीवन और समाज में अनेक उतार-चढ़ाव देखे. सफलता-असफलता से भी दो-चार हुए. फिर भी अपने रचनाकर्म में लगातार लगे हुए हैं. इनके जन्‍मदिन के मौके पर इनकी सात किताबों का लोकार्पण होने जा रहा है.  इनकी आगे क्‍या योजनाएं हैं. क्‍या करने वाले हैं. इन सब बातों को लेकर वरिष्‍ठ पत्रकार, रचनाकार अजित राय ने अशोक वाजपेयी से विस्‍तार से बातचीत की. प्रस्‍तुत हैं इस बातचीत के महत्‍वपूर्ण अंश –