उत्‍तर प्रदेश छोडऩे को मजबूर हैं ईमानदार अफसर

बीपी: भ्रष्‍ट और बेलगाम अधिका‍रियों के हाथ सत्‍ता की लगाम : उत्तर प्रदेश में विकास का पहिया जाम हो गया है, साथ ही कानून व्यवस्था के भी हालात असहनीय होते जा रहे हैं, जिसे पटरी पर लाने के लिए मुख्यमंत्री मायावती ने एक बार फिर स्वयं कमान संभाल ली है। वह शीघ्र ही प्रदेश में दौरे शुरु करने वाली हैं। इस खबर से यह तो साफ हो गया है कि मायावती भी मानने लगी हैं कि प्रदेश के हालात सही नहीं हैं, लेकिन उनके दौरों से अधिक फर्क पडऩे वाला नहीं है, क्योंकि चपरासी से लेकर प्रमुख सचिव तक और सिपाही से लेकर एडीजी कानून-व्यवस्था तक के अधिकतर अधिकारियों-कर्मचारियों में लगभग एक ही जैसी मानसिकता घर कर गयी है। ऐसे में दौरों से कुछ बदलेगा, साफ तौर पर अभी कुछ नहीं कहा जा सकता।