क्या भारत 2020 तक चीन से आगे निकल जाएगा?

गिरीशजी: ड्रैगन बनाम टाइगर :  नेपोलियन बोनापार्ट ने कहा था – ‘चीन को अभी सोने दो. यदि वो जाग गया तो भारी उथल-पुथल करेगा.’ नेपोलियन ने यह बात लगभग दो शताब्दी पहले कही थी- लेकिन इसका असर अब दिख रहा है. तभी तो दुनिया की सबसे तेज विकसित होती चीनी अर्थव्यवस्था को लेकर छपी दो रिपोर्टें इस समय खासी चर्चा में हैं. पहली है साप्ताहिक ‘द इकानॉमिस्ट’ की विशेष रिपोर्ट. इसमें संभावना जताते हुए कहा गया है कि तेजी से बढ़ते चीन के विश्व अधिपति बनने पर कई खतरे पैदा होंगे. इनमें सबसे निर्णायक तो यही होगा कि पश्चिमी दुनिया जिस मात्रा में असरहीन होगी, उतनी ही तेजी से नई विश्व व्यवस्था का निर्माण होगा.

‘शालीन लौ’ हमेशा रोशन करेगी!

[caption id="attachment_18904" align="alignleft" width="90"]सुरेन्‍द्र मोहनसुरेन्‍द्र मोहन[/caption]: श्रद्धांजलि : समाजवादी-राजनीतिक विचारक सुरेंद्र मोहन का गुजर जाना उन मूल्यों और संस्कारों के लिए हादसा है जो नैतिकता, सद्भाव, लोकतंत्र और समाजवाद के जन सरोकारों और जमीनी सच्चाइयों से जुडे हैं. वैसे भी आज की सियासत में सबसे ज्यादा कमी इन्हीं की है, इसलिए भी ये हादसा ही ज्यादा है.

सच से डर लगता है

गिरीश: श्याबाओ हों या विकिलीक्स- कहानी एक है : ‘चीन तब तक दुनिया का नेता नहीं बन सकता, जब तक कि वो मानवाधिकार हनन नहीं रोकता. हालांकि लू श्याबाओ की कहानी एक अरब से ज्यादा लोगों में से एक व्यक्ति की कहानी है, लेकिन ये व्यक्तिगत अभिव्यक्ति के प्रति चीन की सरकार की असहिष्णुता का प्रतीक है.’ आर्चबिशप डेसमंड टूटू और वेस्लाव हावेल (दोनों नोबेल शांति पुरस्कार के पूर्व विजेता). ’चीन ने जो किया वो दुखद है…बहुत दुखद. एक मनुष्य होने के नाते मैं श्याबाओ की ओर अपना हाथ बढाना चाहती हूं.’ आंग सान सू ची (नोबेल शांति पुरस्कार की पूर्व विजेता). ’इस साल 2010 के नोबेल शांति पुरस्कार विजेता श्याबाओ का काम तुलनात्मक रूप से मुझसे कहीं ज्यादा महत्वपूर्ण है… मैं अपील करता हूं कि चीन सरकार उन्हें तुरंत रिहा करे.’ बराक ओबामा (2009 में नोबेल शांति पुरस्कार विजेता).

काबा हो तो क्या, बुतखाना हो तो क्या!

गिरीश: 6 दिसंबर 1992 की बरसी पर : बाबरी मस्जिद की शहादत की आज 18वीं बरसी है. कुछ लोग इसे विवादित इमारत या ढांचा भी कहते थे. उत्‍तर प्रदेश में मुलायम सिंह यादव के मुख्यमंत्रित्वकाल में मस्जिद की रक्षा के लिए चली गोली में 28 लोगों की जान गई थी, तो कल्याण सिंह सरकार के जमाने में 6 दिसंबर 1992 को कारसेवकों ने ढांचे को ध्वस्त कर दिया था, और सरकारी तंत्र वहां खड़ा तमाशबीन ही नहीं था, बल्कि उसने कारसेवकों की अप्रत्यक्ष रूप से मदद ही की थी. फिर इसे लेकर देश में ही नहीं, विदेशों में भी भड़के दंगों में अनेक निरपराध लोगों की जान गई थी.