टीआरपी का खेल : ड्रामा पास, पत्रकारिता फेल

हिंदी खबरिया चैनलों का एक ऐसा कुरूप सच, जिसने एक टीवी रिपोर्टर को उसका ‘सच’ दिखा दिया और उसने पेशा ही बदल डाला..। दो दिन से मेरा ब्लडप्रेशर बढ़ा हुआ था। कारण था मेरे ‘भाग्यविधाता’ इनपुट हेड की अमृतवाणी, जो मेरे कानों में गूंज रही थी, ‘अरे कंपनी पर बोझ.. पत्रकार बनने को डॉक्टर ने कहा था क्या? खबरें तान नहीं सकते, तो जाकर कहीं चाट-पकौड़ी का ठेला-खोमचा क्यों नहीं लगाते?