”नवभारत के श्‍याम पाठक ने हम पांचों के साथ धोखा किया है”

यशवंतजी, मेरा नाम मनोज कुशवाहा है. मैं, रामब्रजेश पाल, शैलेंद्र झा, टीएन नकवी और भारत सिंह भूषण दिल्‍ली से प्रकाशित हो रहे एक दैनिक अखबार में काम करते थे. नवभारत, ग्‍वालियर का डीटीपी स्‍टाफ वेतन को लेकर 15 दिन का हड़ताल किया और अखबार छोड़कर भोपाल चला गया. इसके बाद 9 सितम्‍बर को नवभारत, ग्‍वालियर के संपादक श्‍याम पाठक का फोन हमारे पास आया.

रमन और राजनाथ सिंह को नहीं पहचानते नवभारत वाले!

दो दिन पहले हिंदुस्‍तान ने फोटो कैप्‍शन में गलती की थी तो अब नया नवभारत के रायपुर संस्‍करण ने किया है. इसमें 24 अप्रैल को एक फोटो लगाई गई है, जिसका लिंक आपको भेज रहा हूं. इस फोटो में न तो छत्‍तीसगढ़ के सीएम रमण सिंह मौजूद हैं और ना ही पूर्व राष्‍ट्रीय अध्‍यक्ष राजनाथ सिंह, फिर भी अखबार ने उन दोनों लोगों के नाम का कैप्‍शन लगाया है. आजकल इस अखबार में लगातार इस तरह की गलतियां देखने को मिल रही हैं.