अमिताभ ठाकुर के कदम से सहमत नहीं हैं आईपीएस महेंद्र नाथ तिवारी

यूपी कैडर के आईपीएस अफसर अमिताभ ठाकुर का मानना है कि आईपीएस एसोसिएशन का निर्माण और संचालन गलत है क्योंकि ऐसे किसी एसोसिएशन के निर्माण की छूट कानून में नहीं है. इसी आधार पर उन्होंने इस एसोसिएशन के खिलाफ मुकदमा दर्ज कराने की अर्जी थाने में दी. अमिताभ का मानना है कि अगर एसोसिएशन बने तो उसमें सारे के सारे पुलिस वाले शामिल हों, सिर्फ आईपीएस एसोसिएशन क्यों रहे, और बाकी पुलिसवालों को आप एसोसिएशन बनाने की छूट न दें. इस दोहरे रवैये के खिलाफ अमिताभ ठाकुर ने लड़ाई शुरू की है. उनकी इस मुहिम को कई आईपीएस अफसर पचा नहीं पा रहे. आईपीएस महेंद्र नाथ तिवारी ने अमिताभ ठाकुर की इस पहल पर टिप्पणी की. तब अमिताभ ने तिवारी जी की टिप्पणी को लिखते हुए उन्हें अपना जवाब अपने फेसबुक वॉल पर दिया. लीजिए, पढ़िए…

Amitabh Thakur : Sri Mahendra Nath Tiwari, IPS says about my attempt to register FIR against UP IPS Association-"This is a classical example of a disgruntled IPS officer damaging the same service which has given so much recognition to him. I think the victimisation if any should not be so negatively retailiated as there are other platforms to be explored for creativity in the public interest ."

With due regards to Sri Tripathi, there is no disgruntlement at personal level because any personal loss and gain in service have lost their meaning to me long ahead. This effort is only an attempt to bring forth the point that law of the land stands true for one and all. Would he react to why association of subordinate police officers is hugely resisted by IPS officers while having an association which prima-facie comes as being against law?

अमिताभ ठाकुर के फेसबुक वॉल से.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *