आखिर थाने में धरने पर क्‍यों बैठे कांग्रेसी सांसद हर्षवर्धन?

 

जनसरोकार के मुद्दों पर लड़ाका घोषित कांग्रेसी सांसद हर्षवर्धन इस बार दो दिन खूब ता धिन ता किए, जिससे जिले में हड़कंप मचा रहा। लेकिन माना जा रहा है कि इस बार उनका ता धिन ता मजबूरी का नृत्य था। कांग्रेसी सांसद हर्षवर्धन बृजमनगंज थाना में रात को धरना पर बैठ गए। उनका आरोप यह था कि थानेदार थाना परिसर में जंगल की लकड़ी छिपा कर रखा था। अगले दिन उन्होंने वहां धरना भी दिया। एसपी ने मामले की जांच एडीशनल एसपी को सौंप दी है, लेकिन यह चर्चा अब भी है कि सांसद ने ऐसा क्यों किया? आखिर वह सांसद हैं तो क्‍या उनको इस तरह का काम करना चाहिए?
 
सूत्र बताते हैं कि इसके दो दिन पहले सांसद जी के तीन करीबी नेता डीपीआरओ आरके मिश्रा के दफ्तर में घुसकर उनसे मारपीट किए। कांग्रेसी नेता एक सफाई कर्मी के ट्रांसफर का दबाव बना रहे थे। इस मामले में प्रभारी डीएम भी सख्त हुए और पुलिस भी। तीनों नेताओं के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर लिया गया। अब इस मामले को खत्म कराने के लिए सांसद ने यही हथकंडा अपनाया। दबाव बनाने के लिए वह ता धिन ता न करते तो क्या करते?
 
महराजगंज से ज्ञानेंद्र त्रिपाठी की रिपोर्ट. 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *