आजतक के स्टिंग पर उठ रहे सवालों का दीपक शर्मा ने फेसबुक पर दिया जवाब

Deepak Sharma : कुछ पत्रकार मित्र आपरेशन दंगा पार्ट 1-2 से बेहद खफा हैं. उनका मानना है कि ये आपरेशन प्रायोजित है. उन्हें शक नहीं, पक्का यकीन है कि स्टिंग के पीछे नरेन्द्र मोदी हैं. उन्हें यकीन है कि इस आपरेशन के ज़रिये मैं और पुण्य प्रसून या मेरे चैनल के कुछ वरिष्ठ साथी अपनी महत्वाकांक्षाएं पूरी करना चाहते हैं. कुछ खास मित्रों ने विरोध और आवेश में लिखा और कुछ मित्रों ने अपनी वेबसाइट पर छापा भी. पारदर्शिता इसी को कहते हैं. समाज में पारदर्शिता होनी ज़रूरी है.

यह भी आरोप लगाया गया है कि स्टिंग आपरेशन में दम नहीं था. पूरे जिले के राजपत्रित और मुख्य पुलिस अधिकारियों के खुलासे कैमरे पर रिकार्ड हुए पर कुछ दोस्तों को हलके नज़र आये. मित्रों स्टिंग आपरेशन हल्का था भारी था इसे मैंने किसी तराजू में तौला नहीं पर स्टिंग में दम था या नहीं इसका अहसास दंगा कराने वालों को होगा. मित्रों आलोचनाओं का स्वागत है. आपके आरोप ही कमियों और खामियों का एहसास दिलाते हैं. ये सौभाग्य है कि मेरे अपने मित्र ही आरोप लगा रहे हैं कि स्टिंग फर्जी है. कोई पराया ऐसे आरोप लगाता तो तकलीफ होती.

मेरे सेकुलर मित्रों का कहना है कि मोदी साहब को हम प्रधानमंत्री बनवाना चाहते हैं. मित्रों इतना बड़ा कद और इतना एहतराम ना बक्शें. मेरी हैसियत पंकज पचौरी जैसी नहीं है. मैं उस उच्चतम श्रेणी का पत्रकार नहीं हूँ. मैं अपने आलोचक मित्रों से सिर्फ इतना कहूँगा कि गुजरात के गोधरा दंगों में मैंने गुजरात सरकार के खिलाफ एक स्टिंग आपरेशन के आधार पर गवाही दी. ये गवाही दंगो में मारे गए मुसलमानों के पक्ष में ही गयी हालांकि मकसद तथ्यों को सामने रखना था ना कि किसी समुदाय के पक्ष विपक्ष में बयान देने का. मित्रों कितने सेकुलर पत्रकार कितने बीजेपी भक्षक कितने मोदी मारक पत्रकार हैं जिन्होंने गुजरात दंगों में मारे गए निर्दोषों के खिलाफ अदालत में गवाही दी. मित्रों जिगर और जज्बा चाहिए स्टिंग करने में ….वेबसाइट पर किसी खबर को हल्का कहना या गाली देना बहुत आसान है. बुरा मत मानियेगा हमारे समाज में गाली सबसे ज्यादा किन्नर देते हैं.

आजतक के वरिष्ठ पत्रकार दीपक शर्मा के फेसबुक वॉल से.
 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *