आज आलोक तोमर का जन्मदिन है

Yashwant Singh : आज आलोक भइया का जन्मदिन है.. इतना दबंग और इतना शानदार पत्रकार मैंने नहीं देखा… वो हनक, वो तेवर, वो सरोकार, वो अंदाज़… सब कुछ याद आ रहा… होंगे बहुत पर आलोक तोमर की बात ही निराली थी.. लव यू भैया.. सदा याद आएंगे… थैंक्यू Supriya भाभी, हम उजड्डों को याद दिलाने के लिए कि आज भइया का बर्थडे है…

Dhananjay Singh : पान सिंह तोमर को एक शादी में मिलते सम्मान से अचंभित एक युवक ने पता किया तो उसको लगा कि इस बागी की कहानी तो सबसे अलग है.बागी की कहानी लिए युवक दिल्ली आगया और इण्डियनएक्सप्रेस के संपादक अरुण शौरी ने अपने सूत्रों से कहानी को जांचा,उसमें कुछ और भी जोड़ा.देश को पता चली एक फौजी,कुशल एथलीट और फिर बागी हो गए पान सिंह की कहानी.स्टोरी अरुण शौरी और युवक या किशोर कहें ,आलोक तोमर के नाम से छपी.फिर हिंदी को मिला एक धाकड़ पत्रकार जो अपनी शर्तों पर जिया,जिंदगी में समझौते तो थे ही नहींअफ़सोस की तम्बाकू के चलते बहुत ही दुखद मौत हुई लेकिन उस दर्द में भी उन्होंने बखूबी एक बागी के तरह ही खुद को जिया……..अंतिम समय में उन्होंने सिगरेट और फिर दवा पर खर्चे तथा तम्बाकू के खतरों पर किसी तरह अम्बरीश जी को एक अपील लिखवाई थी जिसका पाठ मुझे दिल्ली में एक समारोह में करना था. रामगढ़ (नैनीताल )में उनकी थोड़ी सी जमीन दिखाते हुए कभी अम्बरीश जी ने कहा था की आलोक तोमर यहीं आशियाना बनाना चाहते थे लेकिन चाहने से ही सब कुछ तो हो नहीं जाता.धन्यवाद Yashwant Singh भाई याद दिलाने के लिए आज अलोक जी का जन्मदिन है.

भड़ास के एडिटर यशवंत सिंह और धनंजय सिंह के फेसबुक वॉल से.


उपरोक्त पोस्टों पर आए कुछ कमेंट इस प्रकार हैं…

Dhananjay Singh कंप्यूटर जी लॉक किया जाय !

Anand Singh bhaiya ji ko janamdin ki haardik shubhkaamnaye
 
Asad Jafar bhaiya ji ko janamdin ki haardik shubhkaamnaye
 
Anil Sakargaye कहीं पढ़ा था कि ,,,,,भाई साहब ने दाउद के ख़ास आदमी को भी चमका दिया था,,, तब यकीन आ गया कि उनकी कलम तलवार से ज़यादा ताक़तवर रही होगी
 
Pankaj Sharma Aalok tomar ji aaj hamare beech nahin hain ….lekin jab bhi kisi baat par maine palat kar jawab diya…unka chehra aankhon me aa jata tha…dhanya the wo….
 
Padmasambhava Shrivastava He was finest friend & person both till his last breath…. !
 
Ravi Shekhar चम्बल का दबंग ……………..
 
Sunil Mishra नही भूल पाता हूँ,,, यादों में हमेशा झांकते रहते हो ..
 
Vivek Shukla My hero. Like many,I too dearly miss him. As and when i move close to Indian Express building, crowd of memories related to Alok ji and his writings bring tears from my eyes.
 
Dhruv Rautela ujjad…waah…meri maa yahi kehkar aksar toka karti hai…n happy bday bhayya
 
Alok Kumar नमन
 
Chandramauli Pandey मुबारक हो जन्मदिन भाई आलेक जी
 
Shankar Anand उनके साथ मे काम करना वाकई में मेरे लिए पत्रकारिता के अच्छे दिन थे ..वो एक बेहद शानदार इंसान होने के साथ-साथ चलता -फिरता पत्रकारिता कि पाठशाला थे ….नमन
 
Gulab Singh वाकई हम बड़े निकम्में हैं,जो आलोक तौमर जैसे पत्रकार को भूल जाते हैं. जिनके सहारें हमनें पढ़ना लिखनां सीखा है। यहां तक की जिस जनसत्ता को आज हम पढ़ते है यह उन्हीं का मार्ग दर्शन है। हिंदी के नए शब्दों का इजाद कर हिंदी पत्रकारिता में जगह देने की कला उन्हीं से सीखी की है। आलोक तौमर जी पावन जन्म दिन पर शत-शत नमन।

Pradeep Mahajan सदा याद आएंगे…
 
Neeraj Karan Singh आपको शत-शत प्रणाम
 
Neeraj Karan Singh आपको शत-शत प्रणाम
 
Vikash Rishi alok sir ko janamdin ki wadhae insaan dilo main paida hote hai duniya main nahi we miss u sir


ये भी पढ़ें…

पत्रकारिता के आलोक

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *